बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, June 4, 2010

हमारा सहायक

एक लोकप्रीय गान मण्डली "द ईगल्स" जब किसी कार्यक्रम के लिये कोई नया गीत तैयार करती है तो वे एक घेरे मे बैठकर, बिना किसी स्टेज पर प्रयोग होनेवाले उपकरण का प्रयोग किये, अपनी स्वाभाविक आवाज़ों में उसका अभ्यास करते हैं। ऐसे अभ्यास के लिये घेरे में बैठने को वे "भय का घेरा" कहते हैं क्योंकि वहां गीत गाने में होने वाली उनकी गलतियों को छिपाने का कोई तरीका नहीं होता। गलतियों के स्पष्ट रूप में सामने आने की संभावना के कारण हर सदस्य अभ्यास के समय एक भय में रहता है।

यदि मसीह ना होता तो सच्चे परमेश्वर के सन्मुख हमारी असली हालत के प्रगट होने का इससे भी भयावह अनुभव हमें होता। यदि हमारा कोई सहायक या बचाव का ज़रिया ना होता तो हमारे पास कोई आशा भी नहीं होती। लेकिन यीशु अपने प्रत्येक विश्वासी के लिये एक सहयाक होता है और परमेश्वर के सामने उसकी ओर से निवेदन और प्रार्थना करता है। १ यूहन्ना २:१ में लिखा है, "हे मेरे बालको, मैं ये बातें तुम्हें इसलिये लिखता हूं, कि तुम पाप न करो। और यदि कोई पाप करे, तो पिता के पास हमारा एक सहायक है, अर्थात धामिर्क यीशु मसीह।" जब हमारी विफलताएं और गलतीयां सामने आती हैं तो वह हमारा पक्ष लेता है और निवेदन करता है। हमारा यह रक्षक परमेश्वर के साथ हमारा संबंध इस तरह कराता है कि यह "भय का घेरा" अनुग्रह और सच्चाई की सहभागिता में बदल जाता है।

पवित्रता और खराई से ऐसा जीवन जीना जो हमारे स्वर्गीय पिता को आदर देता हो, हमारे जीवन के लिये चुनौती है। यदि हम इस प्रयास में कभी विफल भी हो जाते हैं तो हमें अपने परमेश्वर पिता से निन्दा या तजे जाने का भय नहीं है - हमारे पास एक सहायक है जो हमारी रक्षा करेगा। - बिल क्राउडर


जो कभी हमारे बदले मरा, अब हमारा सहायक होकर रहता है।


बाइबल पाठ: १ यूहन्ना २:१-११


यदि कोई पाप करे, तो पिता के पास हमारा एक सहायक है, अर्थात धामिर्क यीशु मसीह। - १ यूहन्ना २:१


एक साल में बाइबल:
  • २ इतिहास २१, २२
  • यूहन्ना १४