बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, February 17, 2011

बुराई में से भलाई

हमें कितना धन्यवादी होना चाहिये कि हम एक ऐसे परमेश्वर की उपासना और सेवा करते हैं जो सर्वसामर्थी, सर्वज्ञानी, प्रेमी और सार्वभौमिक है। उसकी निगरानी से कुछ नहीं छिपता, उसे रोक पाने की सामर्थ किसी में नहीं है। वह हर एक बात को लेकर उससे अपने बच्चों के लिये अन्ततः भला ही उत्पन्न कर देता है। यह यथार्थ न केवल हमें बड़ा हियाव, आनन्द और शांति देता है, वरन हमें हर एक बात के लिये परमेश्वर को धन्यवाद देने को प्रेरित भी करता है - "हर बात में धन्यवाद करो: क्‍योंकि तुम्हारे लिये मसीह यीशु में परमेश्वर की यही इच्‍छा है।" - १ थिसुलिनिकियों ५:१८

अपनी पुस्तक "Vital Union With Christ" में ऐ. टी. पाएरसन ने लिखा : "परमेश्वर की योजना किसी बात को अन्देखा नहीं करती। सब बातें मिलकर भला ही उत्पन्न करती हैं - सब बातें, वे कठिनाईयां और परीक्षाएं भी जिनके लिये हम शिकायत करते हैं, कुड़कुड़ाते हैं। वे तूफान जो पेड़ों को झकझोर देते हैं वास्तव में उन्हें मिट्टी में और मज़बूती से जड़ पकड़ने में सहायक होते हैं। तपाए हुए लोहे पर पड़ने वाले घन की मार उसे टुकड़े टुकड़े नहीं करती वरन उसे और बेहतर और मज़बूत बना देती है। कला के आलोचक जौन रस्किन का कहना है कि जीवन में दुख और तकलीफ, बिमारी और निराशाओं के कारण आने वाली रुकावटें संगीत की लय में आने वाले पल भर के उस ठहराव की तरह हैं जो संगीत को और मधुर बना देता है। हमारा स्वर्गीय संगीतकार हमारे जीवन संगीत की लय का कोई सुर-ताल अधूरा या अकेला नहीं छोड़ता, वह एक से दूसरे को अद्भुत रीति से जोड़कर हमारे जीवन से विलक्षण संगीत उत्पन्न कर देता है।"

जब हम अपने प्रभु से प्रेम करते हैं, तो उसे हर बात के लिये धन्यवाद भी दें, उन बुरी लगने वाली बातों के लिये भी, जिन के द्वारा भी वह हमारी भलाई ही उत्पन्न कर रहा है। - रिचर्ड डी. हॉन


परमेश्वर हमें कई तंग गलियारों से निकलने देता है, क्योंकि वे सही मंज़िल की सही राह होते हैं।

हर बात में धन्यवाद करो: क्‍योंकि तुम्हारे लिये मसीह यीशु में परमेश्वर की यही इच्‍छा है। - १ थिसुलिनिकियों ५:१८


बाइबल पाठ: १ थिसुलिनिकियों ५:१५-२४

सावधान! कोई किसी से बुराई के बदले बुराई न करे; पर सदा भलाई करने पर तत्‍पर रहो आपस में और सब से भी भलाई ही की चेष्‍टा करो।
सदा आनन्‍दित रहो।
निरन्‍तर प्रार्यना मे लगे रहो।
हर बात में धन्यवाद करो: क्‍योंकि तुम्हारे लिये मसीह यीशु में परमेश्वर की यही इच्‍छा है।
आत्मा को न बुझाओ।
भविष्यद्वाणियों को तुच्‍छ न जानो।
सब बातों को परखो: जो अच्‍छी हैं उसे पकड़े रहो।
सब प्रकार की बुराई से बचे रहो।
शान्‍ति का परमेश्वर आप ही तुम्हें पूरी रीति से पवित्र करे और तुम्हारी आत्मा और प्राण और देह हमारे प्रभु यीशु मसीह के आने तक पूरे पूरे और निर्दोष सुरिक्षित रहें।
तुम्हारा बुलाने वाला सच्‍चा है, और वह ऐसा ही करेगा।

एक साल में बाइबल:
  • लैव्यवस्था २१-२२
  • मत्ती २८