बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, August 26, 2011

धीरज का कौशल

अपनी पुस्तक They Call me Coach में जौन वुडएन ने, जो कई वर्ष तक UCLA टीम के बास्केट बॉल सिखाने वाले रहे थे, अपने कार्य करने के तरीके के बारे में लिखा। उन्होंने कहा कि कई वर्षों तक मैंने अपनी टीम को धैर्य से खेलने का पाठ पढ़ाया, और उन्हें धैर्य से खेलते रहना सिखाता रहा। खेल में मेरा नियम सदा ही रहा है कि अन्ततः धैर्य ही की जीत होती है। इससे मेरा तात्पर्य है कि अपनी बनाई हुई खेलने की योजना पर धैर्य से बने रहना। यदि हम अपनी योजना पर बने रहेंगे तो प्रतिद्वंदी को कमज़ोर कर सकते हैं और उन पर हावी हो सकते हैं। यदि हम अधीर होकर अपनी नीति त्याग दें और प्रतिद्वंदियों की नीति अपनाने लगें तो अवश्य ही हम कठिनाई में पड़ जाएंगे। यदि हम संयम के स्थान पर अपनी भावनाओं को अपने ऊपर हावी होने देंगे तो हम कभी ठीक से नहीं खेल पाएंगे। इसका यह अर्थ नहीं है कि हम सदा ही प्रतिद्वंदी से अधिक अंक बनाते रहेंगे, परन्तु यह अर्थ अवश्य है कि यदि हार का सामना करना भी पड़े, तो हम स्वयं अपने आप को ही पराजित नहीं करेंगे।

परमेश्वर का वचन हमें प्रेरित करता है कि हम परमेश्वर पर निर्भर होना सीखें, और साथ ही इस निर्भरता के अनुरूप सही चिंतन तथा उचित कार्य भी करते रहें। परिस्थितियां कैसी भी क्यों न प्रतीत हों, हमें विश्वास रखना है कि परमेश्वर अपनी बाट जोहने वालों को, उसकी योजना के अनुसार जीवन व्यतीत करने के लिए, आदर देगा।

भजन ३७ में परमेश्वर का यही सन्देश है: "मुझ पर भरोसा रखो और जो मेरी दृष्टी में सही है वही करते रहो। चाहे तुम्हें परिस्थितियां कितनी भी असंभव क्यों न लगें, नतीजा मुझ पर छोड़ दो और मैं अन्ततः तुम्हें विजयी अवश्य बनाऊंगा।"

परमेश्वर पर निर्भरता तथा धीरज का यह कौशल न केवल हमें अपने आप को हराने से बचाए रखेगा, वरन यह भी सुनिश्चित करेगा कि हमें एक महिमामयी विजय प्राप्त हो सके। - मार्ट डी हॉन


परमेश्वर महान कार्य जलदबाज़ी में नहीं करता; उसकी बाट जोहना सीखें।

अपने मार्ग की चिन्ता यहोवा पर छोड़ और उस पर भरोसा रख, वही पूरा करेगा। - भजन ३७:५


बाइबल पाठ: भजन ३७:१-११

Psa 37:1 कुकर्मियों के कारण मत कुढ़, कुटिल काम करने वालों के विषय डाह न कर!
Psa 37:2 क्योंकि वे घास की नाईं झट कट जाएंगे, और हरी घास की नाई मुर्झा जाएंगे।
Psa 37:3 यहोवा पर भरोसा रख, और भला कर; देश में बसा रह, और सच्चाई में मन लगाए रह।
Psa 37:4 यहोवा को अपने सुख का मूल जान, और वह तेरे मनोरथों को मूरा करेगा।
Psa 37:5 अपने मार्ग की चिन्ता यहोवा पर छोड़ और उस पर भरोसा रख, वही पूरा करेगा।
Psa 37:6 और वह तेरा धर्म ज्योति की नाईं, और तेरा न्याय दोपहर के उजियाले की नाई प्रगट करेगा।
Psa 37:7 यहोवा के साम्हने चुपचाप रह, और धीरज से उसका आसरा रख; उस मनुष्य के कारण न कुढ़, जिस के काम सुफल होते हैं, और वह बुरी युक्तियों को निकालता है!
Psa 37:8 क्रोध से परे रह, और जलजलाहट को छोड़ दे! मत कुढ़, उस से बुराई ही निकलेगी।
Psa 37:9 क्योंकि कुकर्मी लोग काट डाले जाएंगे और जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वही पृथ्वी के अधिकारी होंगे।
Psa 37:10 थोड़े दिन के बीतने पर दुष्ट रहेगा ही नहीं; और तू उसके स्थान को भलीं भांति देखने पर भी उसको न पाएगा।
Psa 37:11 परन्तु नम्र लोग पृथ्वी के अधिकारी होंगे, और बड़ी शान्ति के कारण आनन्द मनाएंगे।

एक साल में बाइबल:
  • भजन ११९:८९-१७६
  • १ कुरिन्थियों ८