बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, September 24, 2011

"मैंने परमेश्वर से वार्तालाप किया"

   King's College के भूतपूर्व अधिपति, डा० रॉबर्ट कुक ने एक सभा को संबोधित करते हुए श्रोताओं को बताया कि पिछले दिन उन्होंने तत्कालीन उप-राष्ट्र्पति जॉर्ज बुश से बात करी और फिर उसके दो घंटे बाद थोड़े समय के लिए राष्ट्रपति रौनल्ड रीएगन से भी बातचीत करी। फिर एक बड़ी सी मुस्कान के साथ वे बोले, यह तो कुछ भी नहीं, आज मैंने परमेश्वर के साथ वार्तलाप किया - वे प्रार्थना में बिताए गए अपने समय की बात कह रहे थे।

   प्रार्थना एक नई सामर्थ और तत्परता ले लेती है, जब हम इस बात के लिए जागरूक होते हैं कि हम प्रार्थना में जिस के सम्मुख विद्यमान हैं उसकी महिमा और महानता कितनी विशाल है। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम कुछ लोगों की प्रतिक्रिया के विषय में पढ़ते हैं जब उन्होंने परमेश्वर के दर्शन उसकी महिमा में किए: अय्युब अपने दुर्भाग्य के लिए बहुत कुड़कुड़ा रहा था और अपनी धार्मिकता पर उसे घमण्ड था, लेकिन जब उसने परमेश्वर के दर्शन पाए तो कह उठा, "मैंने कानों से तेरा समाचार सुना था, परन्तु अब मेरी आंखें तुझे देखती हैं; इसलिये मुझे अपने ऊपर घृणा आती है, और मैं धूलि और राख में पश्चात्ताप करता हूँ" (अय्युब ४२:५-६); परमेश्वर के नबी यशायाह ने जब परमेश्वर के दर्शन पाए तो पुकार उठा, "हाय! हाय! मैं नाश हूआ; क्योंकि मैं अशुद्ध होंठ वाला मनुष्य हूं, और अशुद्ध होंठ वाले मनुष्यों के बीच में रहता हूं; क्योंकि मैं ने सेनाओं के यहोवा महाराजाधिराज को अपनी आंखों से देखा है!" (यशायाह ६:५); परमेश्वर के एक और नबी यहेजकेल ने जब परमेश्वर की महिमा देखी तो कह उठा, "उसे देख कर, मैं मुंह के बल गिरा" (यहेजकेल १:२८); प्रभु यीशु के चेले युहन्ना ने जब प्रभु को उसकी महिमा में देखा तो, "जब मैं ने उसे देखा, तो उसके पैरों पर मुर्दा सा गिर पड़ा" (प्रकशितवाक्य १:१७)।

   इन सभी के लिए परमेश्वर के उसकी महिमा और महानता में दर्शन देखना, उनके अन्दर अपनी दीन-हीन स्थिति के भारी एहसास को लेकर आया; ऐसा एहसास जो उनके सहने से बाहर था। इसी सामर्थी और महान परमेश्वर ने प्रभु यीशु मसीह में होकर अपने विश्वसियों के साथ पिता और पुत्र का रिश्ता स्थपित किया है, और आज अपने पुत्र-पुत्रियों की प्रार्थनाएं को लालायित रहता है। वह चाहता है कि हम प्रार्थना में उसके सम्मुख आएं, उससे बात-चीत करें; उससे अपने दिल की कहें, उसके दिल की सुनें। वह चाहता है कि हम उसे "हे पिता" कह कर संबोधित करें। - हर्ब वैण्डर लुग्ट

हम मसीही विश्वासियों का सबसे बड़ा विशेषाधिकार है परमेश्वर के साथ वार्तालाप कर पाना।

उस ने उन से कहा; जब तुम प्रार्थना करो, तो कहो: हे पिता, तेरा नाम पवित्र माना जाए, तेरा राज्य आए। - लूका ११:२
 
बाइबल पाठ: लूका ११:१-१३
    Luk 11:1  फिर वह किसी जगह प्रार्थना कर रहा था: और जब वह प्रार्थना कर चुका, तो उसके चेलों में से एक ने उस से कहा; हे प्रभु, जैसे यूहन्ना ने अपने चेलों को प्रार्थना करना सिखलाया वैसे ही हमें भी तू सिखा दे।
    Luk 11:2  उस ने उन से कहा; जब तुम प्रार्थना करो, तो कहो: हे पिता, तेरा नाम पवित्र माना जाए, तेरा राज्य आए।
    Luk 11:3  हमारी दिन भर की रोटी हर दिन हमें दिया कर।
    Luk 11:4  और हमारे पापों को क्षमा कर, क्‍योंकि हम भी अपने हर एक अपराधी को क्षमा करते हैं, और हमें परीक्षा में न ला।
    Luk 11:5  और उस ने उन से कहा, तुम में से कौन है कि उसका एक मित्र हो, और वह आधी रात को उसके पास आकर उस से कहे, कि हे मित्र, मुझे तीन रोटियां दे।
    Luk 11:6  क्‍योंकि एक यात्री मित्र मेरे पास आया है, और उसके आगे रखने के लिये मेरे पास कुछ नहीं है।
    Luk 11:7  और वह भीतर से उत्तर दे, कि मुझे दुख न दे; अब तो द्वार बन्‍द है, और मेरे बालक मेरे पास बिछौने पर हैं, इसलिये मैं उठ कर तुझे दे नहीं सकता;
    Luk 11:8  मैं तुम से कहता हूं, यदि उसका मित्र होने पर भी उसे उठकर न दे, तौभी उस के लज्ज़ा छोड़ कर मांगने के कारण उसे जितनी आवश्यकता हो उतनी उठ कर देगा।
    Luk 11:9  और मैं तुम से कहता हूं कि मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ों तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा।
    Luk 11:10  क्‍योंकि जो कोई मांगता है, उसे मिलता है; और जो ढूंढ़ता है, वह पाता है; और जो खटखटाता है, उसके लिये खोला जाएगा।
    Luk 11:11  तुम में से ऐसा कौन पिता होगा, कि जब उसका पुत्र रोटी मांगे, तो उसे पत्थर दे: या मछली मांगे, तो मछली के बदले उसे सांप दे?
    Luk 11:12  या अण्‍डा मांगे तो उसे बिच्‍छू दे?
    Luk 11:13  सो जब तुम बुरे होकर अपने लड़के-बालों को अच्‍छी वस्‍तुऐं देना जानते हो, तो स्‍वर्गीय पिता अपने मांगने वालों को पवित्र आत्मा क्‍यों न देगा?
 
एक साल में बाइबल: 
  • श्रेष्ठगीत ४-५ 
  • गलतियों ३