बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, February 4, 2012

प्रश्न मूल्यों का

   अपनी एक यात्रा के दौरान मैंने एक ऐसा विज्ञापन देखा जो सोचने पर बाध्य करता था। विज्ञापन कारोबार प्रबंधकों की एक गोष्ठि के विषय में था, और उसमें लिखा था "किसी अगुवे का मूल्य उसके मूल्यों के सीधे अनुपात में है।" इस कथन की सार्थकता ने मुझे प्रभावित किया। हम जिस बात को मूल्य देते हैं, वही हमारे चरित्र को बनाती है, और अन्ततः निर्धारित करती है कि हम कैसे अगुवे होंगे या हम नेतृत्व कर भी पाएंगे कि नहीं। किंतु यह बात केवल नेताओं या प्रबंधकों या अगुवों पर ही लागू नहीं होती।

   मसीह के अनुयायियों के लिए मूल्यों का महत्व और भी अधिक हो जाता है। पौलुस ने कुलुस्से के मसीही विश्वासियों को अपनी पत्री में लिखा: "पृथ्वी पर की नहीं परन्‍तु स्‍वर्गीय वस्‍तुओं पर ध्यान लगाओ" (कुलुस्सियों ३:२)। यह लिखने में उसका उद्देश्य था कि मसीह के प्रभावी सन्देशवाहक होने के लिए हमारे मूल्यों का निर्धारण अस्थायी सांसारिक बातों से नहीं परन्तु चिरस्थायी स्वर्गीय बातों द्वारा होना चाहिए। इस संसार के जीवन में यह समझ और मानकर चलना कि हम यहां पर्यटक नहीं तीर्थयात्री हैं, ही हमारे दृष्टिकोण को स्पष्ट और केंद्रित रखेगा, और हम अपने उद्धारकर्ता प्रभु यीशु मसीह के सेवाकाई में प्रभावी हो पाएंगे।

   यह कहा जाता है कि हम एक ऐसे संसार में रहते हैं जो हर बात की भौतिक कीमत तो जानता है किंतु किसी बात का आत्मिक मूल्य और महत्व नहीं जानता। इस "अभी और यहां" के संसार में, हम मसीही विश्वासियों को उन बातों के द्वारा अपने मूल्य स्थापित करने हैं जो चिरस्थायी और सदाकालीन हैं - परमेश्वर और उसके वचन की बातें।

   दूसरे शब्दों में, एक मसीही विश्वासी का प्रभावी मूल्य उसे प्रभावित करने वाले मूल्यों के सीधे अनुपात में है। - बिल क्राउडर

सांसारिक वस्तुओं पर अपनी पकड़ ढीली किंतु आत्मिक वस्तुओं पर दृढ़ रखें।

पृथ्वी पर की नहीं परन्‍तु स्‍वर्गीय वस्‍तुओं पर ध्यान लगाओ। - कुलुस्सियों ३:२

बाइबल पाठ: कुलुस्सियों ३:१-११
Col 3:1  सो जब तुम मसीह के साथ जिलाए गए, तो स्‍वर्गीय वस्‍तुओं की खोज में रहो, जहां मसीह वर्तमान है और परमेश्वर के दाहिनी ओर बैठा है।
Col 3:2  पृथ्वी पर की नहीं परन्‍तु स्‍वर्गीय वस्‍तुओं पर ध्यान लगाओ।
Col 3:3  क्‍योंकि तुम तो मर गए, और तुम्हारा जीवन मसीह के साथ परमेश्वर में छिपा हुआ है।
Col 3:4   जब मसीह जो हमारा जीवन है, प्रगट होगा, तब तुम भी उसके साथ महिमा सहित प्रगट किए जाओगे।
Col 3:5  इसलिये अपने उन अंगो को मार डालो, जो पृथ्वी पर हैं, अर्थात व्यभिचार, अशुद्धता, दुष्‍कामना, बुरी लालसा और लोभ को जो मूर्ति पूजा के बराबर है।
Col 3:6   इन ही के कारण परमेश्वर का प्रकोप आज्ञा न मानने वालों पर पड़ता है।
Col 3:7  और तुम भी, जब इन बुराइयों में जीवन बिताते थे, तो इन्‍हीं के अनुसार चलते थे।
Col 3:8  पर अब तुम भी इन सब को अर्थात क्रोध, रोष, बैरभाव, निन्‍दा, और मुंह से गालियां बकना ये सब बातें छोड़ दो।
Col 3:9  एक दूसरे से झूठ मत बोलो क्‍योंकि तुम ने पुराने मनुष्यत्‍व को उसके कामों समेत उतार डाला है।
Col 3:10  और नए मनुष्यत्‍व को पहिन लिया है जो अपने सृजनहार के स्‍वरूप के अनुसार ज्ञान प्राप्‍त करने के लिये नया बनता जाता है।
Col 3:11  उस में न तो यूनानी रहा, न यहूदी, न खतना, न खतनारिहत, न जंगली, न स्‍कूती, न दास और न स्‍वतंत्र: केवल मसीह सब कुछ और सब में है।
 
एक साल में बाइबल: 
  • निर्गमन ३४-३५ 
  • मत्ती २२:२३-४६