बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, February 24, 2012

वास्तविक और खरा

   प्राचीन वस्तुओं को खरीदने-बेचने वाली एक दुकानदार को एक जीर्ण और बदरंग हुआ बेसबॉल कार्ड मिला। उस कार्ड को देखकर उसने अनुमान लगाया कि उसकी कीमत लगभग $१० ही होगी। उसने उसे बेचने के लिए ई-बे पर रख दिया, किंतु उसे सन्देह हुआ कि कहीं वह कार्ड उसके अनुमान से और अधिक मूल्यवान तो नहीं? इसलिए उसने ई-बे से उसे हटा कर एक व्यवसायिक मूल्य निर्धारण करने वाले विशेषग्य को वह कार्ड दिखाया। उस विशेषग्य ने उस कार्ड को देखकर पुष्टि करी कि सन १८६९ में बने उस कार्ड पर बना चित्र अमेरिका की प्रथम व्यावसायिक बेसबॉल टीम सिन्सिनाटी रेड स्टॉकिंग्स का ही था। वह कार्ड अन्ततः $७५,००० में बिका। यद्यपि वह कार्ड जीर्ण और बदरंग था किंतु जो सबसे महत्वपुर्ण बात थी वह थी उसका वास्तविक होना। उसकी वास्तविकता प्रमाणित होते ही उसकी कीमत बहुत बढ़ गई।

   सुसमाचार प्रचार के लिए निकले प्रेरित पौलुस और उसके साथियों को भी बहुत दुख उठाने पड़े और वे बदहाल हो गए। परमेश्वर के वचन के २ कुरिन्थियों ६ अध्याय में उनकी बाहरी परीक्षाओं, भीतरी गुणों और आत्मिक संसाधनों का वर्णन है। उनके जीवन की परिस्थितियों के बारे में कल्पना कीजिए जिनमें इन सब बातों ने मिलकर कार्य किया: पिटाई और धैर्य, कैद और दया, पीड़ाएं और प्रेम। यद्यपि उनके शरीर तोड़े गए, भावनाएं कुचली गईं और आत्मा परखी गई, फिर भी प्रभु यीशु में उनके विश्वास की वास्तविकता इन सब क्लेषों में भी चमकती हुई दिखाई दी। उन्होंने अपने विश्वास की खराई को प्रमाणित कर के दिखा दिया कि वे "शोक करने वालों के समान हैं, परन्‍तु सर्वदा आनन्‍द करते हैं; कंगालों के जैसे हैं, परन्‍तु बहुतों को धनवान बना देते हैं; ऐसे हैं जैसे हमारे पास कुछ नहीं तौभी सब कुछ रखते हैं" (२ कुरिन्थियों ६:१०) और सब कुछ सहते हुए भी हर परिस्थिति में विश्वासयोग्य और कह्रे रहे तथा स्थान स्थान पर मसीही विश्विसियों की मण्डलियां स्थापित करीं।

   मसीही विश्वास के हमारे जीवन में आत्मिक खराई को कोई विकल्प नहीं है; अपने विश्वास में हमें वास्तविक होना ही है, तब ही हम कार्यकारी हो पाएंगे। - डेविड मैककैसलैंड


मसीही विश्वास में दिखावे के बाहरी आचरण और ढोंग का कोई स्थान नहीं है।

परन्‍तु हर बात में परमेश्वर के सेवकों की नाई अपने सद्गुणों को प्रगट करते हैं, बड़े धैर्य से, क्‍लेशों से, दरिद्रता से, संकटो से। - २ कुरिन्थियों ६:४

बाइबल पाठ: २ कुरिन्थियों ६:३-१३
2Co 6:3  हम किसी बात में ठोकर खाने का कोई भी अवसर नहीं देते, कि हमारी सेवा पर कोई दोष न आए।
2Co 6:4 परन्‍तु हर बात में परमेश्वर के सेवकों की नाईं अपने सद्गुणों को प्रगट करते हैं, बड़े धैर्य से, क्‍लेशों से, दरिद्रता से, संकटो से।
2Co 6:5  कोड़े खाने से, कैद होने से, हुल्लड़ों से, परिश्रम से, जागते रहने से, उपवास करने से।
2Co 6:6  पवित्रता से, ज्ञान से, धीरज से, कृपालुता से, पवित्र आत्मा से।
2Co 6:7 सच्‍चे प्रेम से, सत्य के वचन से, परमेश्वर की सामर्थ से; धामिर्कता के हथियारों से जो दाहिने, बाएं हैं।
2Co 6:8 आदर और निरादर से, दुरनाम और सुनाम से, यद्यपि भरमाने वालों के जैसे मालूम होते हैं तौभी सच्‍चे हैं।
2Co 6:9  अनजानों के सदृश्य हैं तौभी प्रसिद्ध हैं; मरते हुओं के जैसे हैं और देखो जीवित हैं; मार खाने वालों के सदृश हैं परन्‍तु प्राण से मारे नहीं जाते।
2Co 6:10 शोक करने वालों के समान हैं, परन्‍तु सर्वदा आनन्‍द करते हैं, कंगालों के जैसे हैं, परन्‍तु बहुतों को धनवान बना देते हैं; ऐसे हैं जैसे हमारे पास कुछ नहीं तौभी सब कुछ रखते हैं।
2Co 6:11  हे कुरिन्थियों, हम ने खुलकर तुम से बातें की हैं, हमारा हृदय तुम्हारी ओर खुला हुआ है।
2Co 6:12  तुम्हारे लिये हमारे मन में कुछ सकेती नहीं, पर तुम्हारे ही मनों में सकेती है।
2Co 6:13  पर अपने लड़के-बाले जानकर तुम से कहता हूं, कि तुम भी उसके बदले में अपना हृदय खोल दो।


एक साल में बाइबल: 

  • गिनती ९-११ 
  • मरकुस ५:१-२०