बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, November 1, 2012

भण्डार


   मैं और मेरे पति एक घर में लगाई गई सामान की बिक्री में गए और घर में घूमकर बिक्री के लिए रखा हुआ देखने लगे - वहां घर का सब कुछ बेचे जाने के लिए रखा हुआ था - कालीन, दीपदान, कपड़े धोने और सुखाने की मशीन, अलमारियां, यहां तक की अलमारियों में रखी हुई खाने की वस्तुएं भी। बेचने के लिए खाने के कमरे की मेज़ पर खाना परोसने और खाने के प्रयोग में आने वाले बरतन तथा तश्तरियां भरे हुए थे, सामने के कमरे में ढेरों सजावट की चीज़ें रखी हुई थीं, गैराज में औज़ार, खिलौने, और अन्य सामान पड़ा था। देखकर आश्चर्य हुआ कि कितना सामान उस घर के लोगों ने जमा कर रखा था। वापस लौटते हुए हम सोचने लगे कि क्यों उन्होंने यह सामान की बिक्री लगाई होगी? क्या वे किसी अन्य स्थान पर जा रहे थे, या उन्हें पैसे की बहुत आवश्यकता हुई, अथवा घर के लोगों का देहान्त हो गया और वारिस अब इस घर  को खाली करना चाहता होगा। कारण जो भी रहा हो, जाने वाले अब यह सारा अर्जित सामान लेकर नहीं जा रहे थे, सब यहीं छूट गया था।

   मुझे परमेश्वर के वचन बाइबल में सभोपदेशक की पुस्तक में लिखे वचन स्मरण हो आए "यह भी एक बड़ी बला है कि जैसा वह आया, ठीक वैसा ही वह जाएगा; उसे उस व्यर्थ परिश्रम से और क्या लाभ है?" (सभोपदेशक ५:१६)। हम खाली हाथ संसार में जन्म लेते हैं और खाली हाथ ही चले जाते हैं। जो भी सामान हम जोड़ते खरीदते और संचय करते हैं वह कुछ समय के लिए ही हमारे पास रहता है - और उतने समय में भी वह मिटता ही रहता है; कीड़े हमारे कपड़े खाने लगते हैं या फिर वे पुराने होकर फटने लगते हैं; सामान टूटता-फूटता रहता है और उसकी चमक तथा सुन्दरता ढलती जाती है; सोने-चांदी की चमक खराब होती रहती है (याकूब ५:२-३)। कभी धन जाता रहता है (सभोपदेशक ५:१४), और जो हमने अपने बच्चों के लिए जमा किया था वह उन्हें नहीं मिलता।

   इस संसार में सामान, धन और संपत्ति जमा करना मूर्खता है, क्योंकि मृत्योप्रांत हम कुछ भी अपने साथ लेकर नहीं जा सकते। जो आवश्यक है वह यह कि जो हमारे पास है और हमें परमेश्वर की ओर से मिलता है उसके प्रति सही रवैया रखें, परमेश्वर के भय और आज्ञाकारिता में जीवन बिताते हुए अपनी धन-संपत्ति का परमेश्वर के निर्देषों के अनुसार उसका सही उपयोग करें। ऐसा करके हम अपना धन-संपत्ति वहां जमा करेंगे जहां उसे होना चाहिए और जहां वह कभी नष्ट नहीं होगी - स्वर्ग में; और साथ ही, जैसे प्रभु यीशु ने कहा था, जहां हमारा धन होगा, वहीं हमारा मन भी लगा रहेगा ( मत्ती ६:२१)। - जेनिफर बैनसन शुल्ट


पार्थिव संपदा पर हाथ ढीले करने से ही हम स्वर्गीय संपदा को थामने वाले बन सकते हैं।

यह भी एक बड़ी बला है कि जैसा वह आया, ठीक वैसा ही वह जाएगा; उसे उस व्यर्थ परिश्रम से और क्या लाभ है? - सभोपदेशक ५:१६

बाइबल पाठ: सभोपदेशक ५:८-१७
Ecc 5:8  यदि तू किसी प्रान्त में निर्धनों पर अन्धेर और न्याय और धर्म को बिगड़ता देखे, तो इस से चकित न होना; क्योंकि एक अधिकारी से बड़ा दूसरा रहता है जिसे इन बातों की सुधि रहती है, और उन से भी ओर अधिक बड़े रहते हैं। 
Ecc 5:9  भूमि की उपज सब के लिये है, वरन खेती से राजा का भी काम निकलता है। 
Ecc 5:10  जो रूपये से प्रीति रखता है वह रूपये से तृप्त न होगा; और न जो बहुत धन से प्रीति रखता है, लाभ से: यह भी व्यर्थ है। 
Ecc 5:11  जब संपत्ति बढ़ती है, तो उसके खाने वाले भी बढ़ते हैं, तब उसके स्वामी को इसे छोड़ और क्या लाभ होता है कि उस संपत्ति को अपनी आंखों से देखे? 
Ecc 5:12  परिश्रम करने वाला चाहे थोड़ा खाए, या बहुत, तौभी उसकी नींद सुखदाई होती है; परन्तु धनी के धन के बढ़ने के कारण उसको नींद नहीं आती। 
Ecc 5:13  मैं ने धरती पर एक बड़ी बुरी बला देखी है; अर्थात वह धन जिसे उसके मालिक ने अपनी ही हानि के लिये रखा हो, 
Ecc 5:14  और वह किसी बुरे काम में उड़ जाता है; और उसके घर में बेटा उत्पन्न होता है परन्तु उसके हाथ मे कुछ नहीं रहता। 
Ecc 5:15  जैसा वह मां के पेट से निकला वैसा ही लौट जाएगा; नंगा ही, जैसा आया था, और अपने परिश्रम के बदले कुछ भी न पाएगा जिसे वह अपने हाथ में ले जा सके। 
Ecc 5:16  यह भी एक बड़ी बला है कि जैसा वह आया, ठीक वैसा ही वह जाएगा; उसे उस व्यर्थ परिश्रम से और क्या लाभ है? 
Ecc 5:17  केवल इसके कि उस ने जीवन भर बेचैनी से भोजन किया, और बहुत ही दु:खित और रोगी रहा और क्रोध भी करता रहा;

एक साल में बाइबल: 
  • यर्मियाह २४-२६ 
  • तीतुस २