बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, February 19, 2013

आशीष के द्वार


   कुछ समय पहले की बात है कि मैं और मेरी पत्नी एक निमंत्रण पर एक महिला के घर पर खाने के लिए गए। वो महिला भी उसी चर्च में आराधना के लिए आती थी जहाँ हम जाते थे और हमारे समान ही मसीही विश्वासी थी। हमारे लिए भोजन बनाते समय, काम करते करते उसने अपनी ऊँगुली काट ली और हमें उसे लेकर अस्पताल जाना पड़ा। अस्पताल ले जाते समय हमने उसके साथ प्रार्थना करी और फिर वहाँ उसके साथ बैठे रहे जब तक कि डॉक्टर ने उसे देख नहीं लिया और उसका इलाज नहीं कर दिया। इस सब में काफी समय बीत गया।

   इलाज होने के बाद जब हम उसे उसके घर वापस ले आए तो उस महिला ने हमें विवश किया कि हम उसके साथ उसके द्वारा तैयार किया हुआ भोजन करने बैठें। इसके बाद का समय हमारे लिए एक उत्तम आत्मिक चर्चा तथा पारस्परिक संगति का समय था जिसमें हमने ना केवल अच्छा भोजन खाया वरन उस महिला के अनुभवों और जीवन की कठिन परिस्थितियों में परमेश्वर द्वारा उसे मिली अद्भुत सहायता तथा उसके जीवन में परमेश्वर के अनुग्रह के विषय में भी जाना।

   बाद में मेरी पत्नी और मैं उस पूरी घटना पर विचार कर रहे थे कि कैसे एक अप्रत्याशित अस्पताल यात्रा के कारण हमें उत्तम आत्मिक अनुभवों और चर्चा का अवसर तथा आशीष मिली, और मुझे परमेश्वर के वचन बाइबल का एक पद स्मरण हो आया: "तुम एक दूसरे के भार उठाओ, और इस प्रकार मसीह की व्यवस्था को पूरी करो" (गलतियों ६:२)। हमारे द्वारा अपनी घायल मेज़बान की सहायता करने से उसे आशीष मिली; फिर बाद में अपने आतिथ्य, अच्छे भोजन और हमारे साथ बाँटे गए अपने आत्मिक अनुभवों के कारण वह हमारे लिए आशीष बन गई।

   हमने उस घटना से सीखा कि दुखदायी अनुभव भी एक अद्भुत और उत्तम आत्मिक संगति, शिक्षा तथा आशीष प्राप्त होने का द्वार बन सकते हैं, जब हम परमेश्वर के वचन की आज्ञाकारिता में एक दूसरे के भार उठाते हैं तथा एक दुसरे के साथ सहभागिता रखते हैं। - डेनिस फिशर


सहायतार्थ बढ़ाया हुआ हाथ दूसरों के बोझ हल्के करता है।

क्योंकि सारी व्यवस्था इस एक ही बात में पूरी हो जाती है, कि तू अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रख। - गलतियों ५:१४

बाइबल पाठ: गलतियों ६:१-१०
Galatians 6:1 हे भाइयों, यदि कोई मनुष्य किसी अपराध में पकड़ा भी जाए, तो तुम जो आत्मिक हो, नम्रता के साथ ऐसे को संभालो, और अपनी भी चौकसी रखो, कि तुम भी परीक्षा में न पड़ो।
Galatians 6:2 तुम एक दूसरे के भार उठाओ, और इस प्रकार मसीह की व्यवस्था को पूरी करो।
Galatians 6:3 क्योंकि यदि कोई कुछ न होने पर भी अपने आप को कुछ समझता है, तो अपने आप को धोखा देता है।
Galatians 6:4 पर हर एक अपने ही काम को जांच ले, और तब दूसरे के विषय में नहीं परन्तु अपने ही विषय में उसको घमण्‍ड करने का अवसर होगा।
Galatians 6:5 क्योंकि हर एक व्यक्ति अपना ही बोझ उठाएगा।
Galatians 6:6 जो वचन की शिक्षा पाता है, वह सब अच्छी वस्‍तुओं में सिखाने वाले को भागी करे।
Galatians 6:7 धोखा न खाओ, परमेश्वर ठट्ठों में नहीं उड़ाया जाता, क्योंकि मनुष्य जो कुछ बोता है, वही काटेगा।
Galatians 6:8 क्योंकि जो अपने शरीर के लिये बोता है, वह शरीर के द्वारा विनाश की कटनी काटेगा; और जो आत्मा के लिये बोता है, वह आत्मा के द्वारा अनन्त जीवन की कटनी काटेगा।
Galatians 6:9 हम भले काम करने में हियाव न छोड़े, क्योंकि यदि हम ढीले न हों, तो ठीक समय पर कटनी काटेंगे।
Galatians 6:10 इसलिये जहां तक अवसर मिले हम सब के साथ भलाई करें; विशेष कर के विश्वासी भाइयों के साथ।

एक साल में बाइबल: 
  • लैव्यवस्था २५ 
  • मरकुस १:२३-४५