बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, October 22, 2013

फिर मिलेंगे!

   मेरे दादा को किसी को विदा करते समय ’गुडबाय’ कहना बिलकुल पसन्द नहीं था; उनका मानना था कि ’गुडबाय’ शब्द बहुत निर्णायक और अन्तिम सा लगता है। इसलिए जब हम उनके साथ अपने पारिवारिक मिलन के समय के बाद वापस जाने के लिए यात्रा पर निकलते तो वे अपने घर के सामने खड़े होकर हाथ हिलाते हुए कहते, ’फिर मिलेंगे’। उनका विदा करने का सभी लोगों के लिए सदा ही यही तरीका रहता था।

   हम मसीही विश्वासियों को भी कभी किसी प्रीय जन को ’गुडबाय’ कहने की आवश्यकता नहीं है, यदि उस प्रीय जन ने भी मसीह यीशु को अपना उद्धारकर्ता स्वीकार किया और उससे मिलने वाली पापों की क्षमा का विश्वास किया है। परमेश्वर का वचन बाइबल हम से यह अटल प्रतिज्ञा करती है कि हम मसीही विश्वासी, इस पृथ्वी के जीवन के बाद, अपने मसीही विश्वासी प्रीय जनों से पुनः फिर मिलेंगे।

   प्रेरित पौलुस ने थिस्सुलुनीकियों के विश्वासियों को लिखे अपने पत्र में संसार से अन्तिम विदाई लेने वाले उनके प्रीय जनों के विषय में उन्हें समझाया, "हे भाइयों, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञान रहो; ऐसा न हो, कि तुम औरों की नाईं शोक करो जिन्हें आशा नहीं" (1 थिस्सुलुनीकियों 4:13), क्योंकि जब मसीह यीशु वापस आएगा, तब सभी मसीही विश्वासी अपनी कब्रों से जाग उठेंगे और उस समय संसार में जीवित विश्वासियों के संग, प्रभु से मिलने हवा में उठा लिए जाएंगे, "क्योंकि हम प्रभु के वचन के अनुसार तुम से यह कहते हैं, कि हम जो जीवित हैं, और प्रभु के आने तक बचे रहेंगे तो सोए हुओं से कभी आगे न बढ़ेंगे। क्योंकि प्रभु आप ही स्वर्ग से उतरेगा; उस समय ललकार, और प्रधान दूत का शब्द सुनाई देगा, और परमेश्वर की तुरही फूंकी जाएगी, और जो मसीह में मरे हैं, वे पहिले जी उठेंगे। तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे, उन के साथ बादलों पर उठा लिये जाएंगे, कि हवा में प्रभु से मिलें, और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सुलुनीकियों 4:15-17)। हमें यह आश्वासन है कि हम सब मसीही विश्वासी एक साथ स्वर्ग में अपने प्रभु यीशु के साथ होंगे और वहाँ "वह उन की आंखों से सब आंसू पोंछ डालेगा; और इस के बाद मृत्यु न रहेगी, और न शोक, न विलाप, न पीड़ा रहेगी; पहिली बातें जाती रहीं" (प्रकाशितवाक्य 21:4)।

   मसीही विश्वासियों को यह धन्य आशा है कि वे एक दिन अपने विश्वासी प्रीय जनों और अपने प्रभु यीशु, दोनों के साथ होंगे और अनन्त काल तक साथ रहेंगे। इसीलिए प्रेरित पौलुस ने कहा, "सो इन बातों से एक दूसरे को शान्‍ति दिया करो" (1 थिस्सुलुनीकियों 4:18)। आज किसी को सांत्वना दें, प्रोत्साहित करें, मसीह यीशु में मिलने वाली इस अनुपम धन्य आशा के विषय में बताएं, जो संसार से अन्तिम विदाई के विषय हमें भी ’गुडबाय’ नहीं वरन ’फिर मिलेंगे’ कहने की प्रेर्णा देती है। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


मृत्यु पर परमेश्वर के लोग ’अलविदा’ नहीं कहते, वे कहते हैं, ’फिर मिलेंगे’!

हे भाइयों, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञान रहो; ऐसा न हो, कि तुम औरों की नाईं शोक करो जिन्हें आशा नहीं। - 1 थिस्सुलुनीकियों 4:13

बाइबल पाठ: 1 थिस्सुलुनीकियों 4:13-18
1 Thessalonians 4:13 हे भाइयों, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञान रहो; ऐसा न हो, कि तुम औरों की नाईं शोक करो जिन्हें आशा नहीं। 
1 Thessalonians 4:14 क्योंकि यदि हम प्रतीति करते हैं, कि यीशु मरा, और जी भी उठा, तो वैसे ही परमेश्वर उन्हें भी जो यीशु में सो गए हैं, उसी के साथ ले आएगा। 
1 Thessalonians 4:15 क्योंकि हम प्रभु के वचन के अनुसार तुम से यह कहते हैं, कि हम जो जीवित हैं, और प्रभु के आने तक बचे रहेंगे तो सोए हुओं से कभी आगे न बढ़ेंगे। 
1 Thessalonians 4:16 क्योंकि प्रभु आप ही स्वर्ग से उतरेगा; उस समय ललकार, और प्रधान दूत का शब्द सुनाई देगा, और परमेश्वर की तुरही फूंकी जाएगी, और जो मसीह में मरे हैं, वे पहिले जी उठेंगे। 
1 Thessalonians 4:17 तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे, उन के साथ बादलों पर उठा लिये जाएंगे, कि हवा में प्रभु से मिलें, और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे। 
1 Thessalonians 4:18 सो इन बातों से एक दूसरे को शान्‍ति दिया करो। 

एक साल में बाइबल: 
  • यशायाह 65-66 
  • 1 तीमुथियुस 2