बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, January 9, 2014

बाधा या आशीष?


   यदि आप का जीवन भी मेरे जीवन के समान है तो आप समझ सकते हैं कि पूरे दिन के कार्य को पहले से योजनाबद्ध रखने का क्या तात्पर्य है। मेरा एक कैलेण्डर है जो मुझे सारे दिन में मेरे समय पर कब किस का अधिकार है बताता है - कब किससे कितनी देर के लिए मिलना है, कब क्या करना है, आदि सब उसमें दर्ज रहता है। लेकिन साथ ही अवश्य ही कोई ना कोई बाधा या अनेपक्षित बात मेरे इस योजनाबद्ध दिन को अस्त-व्यस्त कर देती है। अकसर ये बातें और बाधाएं खिसिया देने वाली होती हैं, लेकिन कभी कभी वे उपयोगी और लाभकारी भी हो जाती हैं।

   परमेश्वर का वचन बाइबल हमें दिखाती है कि परमेश्वर द्वारा किए गए अनेक महान कार्य, लोगों के जीवन में ऐसी ’बाधा’ बनकर आए जिसने उनके सामन्य चल रहे जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। उदाहरणस्वरूप मरियम के जीवन को ही देखिए। मरियम एक कुँवारी कन्या थी जिसकी मंगनी हो गई थी, इसलिए जब परमेश्वर के स्वर्गदूत ने आकर उसे सन्देश दिया कि वह गर्भवती होगी और पुत्र जनेगी जिसका नाम यीशु रखा जाएगा तो निस्सन्देह उसके सामान्य रूप से चल रहे जीवन के लिए यह बहुत बेचैन करने वाला और चिंता का विषय था (लूका 1:26-31)। इसी प्रकार आरंभिक मसीही विश्वास और विश्वासियों के कट्टर विरोधी उन्मादी शाउल को ही लीजिए, जो और मसीही विश्वासियों को पकड़ कर लाने के लिए दमिश्क की ओर जा रहा था जब उसका सामना प्रभु यीशु मसीह से हुआ (प्रेरितों 9:1-9); इस जीवन परिवर्तन कर देने वाली बाधा ने मसीह यीशु विरोधी उन्मादी शाउल को मसीह यीशु का अडिग विश्वासी प्रेरित पौलुस बना दिया जो मसीही विश्वास की बढ़ोतरी और परमेश्वर के वचन की कई पुस्तकों और पत्रियों के लिखे जाने का कारण हुआ।

   भजनकार हमें स्मरण दिलाता है कि "यहोवा अन्य अन्य जातियों की युक्ति को व्यर्थ कर देता है; वह देश देश के लोगों की कल्पनाओं को निष्फल करता है" (भजन 33:10)। लेकिन फिर भी हम अकसर अपने व्यवस्थित और सामान्य चल रहे जीवन में आई बाधाओं के कारण कुंठित हो जाते हैं, उन बाधाओं के कारण खिसियाते हैं, सन्देह करते हैं, डरते हैं। जब भी ऐसी कोई परिस्थिति आए हमें स्मरण रखना चाहिए कि प्रत्येक मसीही विश्वासी का जीवन परमेश्वर के हाथों में सुरक्षित है और वह हर परिस्थिति में अपने जन के लिए केवल भला ही होने देगा। इसलिए बाधाओं से विचिलित ना हों वरन उन्हें आशीषों के अवसर के रूप में देखें - परमेश्वर हमारी योजना के स्थान पर अपनी भली योजना हमारे जीवन में कार्यान्वित कर रहा है। - जो स्टोवैल


अपने जीवन में आने वाली अगली बाधा से खिसियाएं नहीं वरन उसमें परमेश्वर की योजना ढूँढ कर उसे पूरी करने का प्रयास करें।

मनुष्य के मन में बहुत सी कल्पनाएं होती हैं, परन्तु जो युक्ति यहोवा करता है, वही स्थिर रहती है। - नीतिवचन 19:21

बाइबल पाठ: भजन 33:10-15
Psalms 33:10 यहोवा अन्य अन्य जातियों की युक्ति को व्यर्थ कर देता है; वह देश देश के लोगों की कल्पनाओं को निष्फल करता है। 
Psalms 33:11 यहोवा की युक्ति सर्वदा स्थिर रहेगी, उसके मन की कल्पनाएं पीढ़ी से पीढ़ी तक बनी रहेंगी। 
Psalms 33:12 क्या ही धन्य है वह जाति जिसका परमेश्वर यहोवा है, और वह समाज जिसे उसने अपना निज भाग होने के लिये चुन लिया हो! 
Psalms 33:13 यहोवा स्वर्ग से दृष्टि करता है, वह सब मनुष्यों को निहारता है; 
Psalms 33:14 अपने निवास के स्थान से वह पृथ्वी के सब रहने वालों को देखता है, 
Psalms 33:15 वही जो उन सभों के हृदयों को गढ़ता, और उनके सब कामों का विचार करता है।

एक साल में बाइबल: 

  • उत्पत्ति 27-29