बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, March 11, 2014

सुन्दरता


   जब मेरे पति जे और मैंने एक नया घर बनाने का निर्णय लिया तो हमने औज़ारों का प्रयोग कर सकने तथा ऐसे कार्य में रुचि रखने वाले मित्र तथा परिवारगणों को इस कार्य पर नहीं लगाया, वरन हमने एक कुशल भवन निर्माता को चुना जो देखने में सुन्दर तथा उपयोग में व्यावाहरिक घर हमारे लिए बना के दे सके।

   साधारणतया चर्च भवन में सुन्दरता का कोई विशेष स्थान नहीं माना जाता है; कुछ लोग तो उसे अव्यवाहारिक भी कहते हैं, इसलिए किसी भी बारीकी से की गई सजावट को वे व्यर्थ मानते हैं। लेकिन जब परमेश्वर ने प्राचीन इस्त्राएलियों के लिए आराधना स्थान के बनाए जाने के निर्देश दिए तब परमेश्वर का ऐसा विचार कतई नहीं था। आराधना के स्थान के बनाने के लिए परमेश्वर ने ऐसे ही किसी को भी एक साधारण सा तम्बू बना कर खड़ा करने को नहीं कहा। परमेश्वर ने इस कार्य के लिए कुशल कारिगर बसलेल और ओहलिआब नियुक्त किए (निर्गमन 36:1)। उन कारिगरों के साथ उसने अन्य लोगों को भी इस कार्य के लिए तैयार करके दिया जिससे वे सब कढ़ाई तथा तराशने में बारीकी एवं कुशलता से करी गई कारिगरी द्वारा तम्बु के सामान को बना सकें (निर्गमन 37:17-20)।

   मैं सोचती हूँ कि सुन्दरता का वहाँ महत्वपूर्ण स्थान था क्योंकि यह उन इस्त्राएलियों को उनकी आराधना में परमेश्वर की उत्तमता को स्मरण कराता था। बियाबान और रेगेस्तानी इलाकों के अपने भ्रमण के दौरान उन्हें परमेश्वर की महान महिमा को याद दिलानी वाला कुछ चाहिए था।

   आज भी परमेश्वर के लोगों द्वारा आराधना और उपासना में सुन्दरता यही कार्य कर सकती है। हम परमेश्वर को अपना सर्वोत्तम इसलिए अर्पित करते हैं क्योंकि वह इसके योग्य है। सुन्दरता हमें स्वर्ग की भी अनुभूति करवाती है और हमें स्मरण करवाती है उस उत्तम स्थान की जो परमेश्वर अपने विश्वासी लोगों के लिए तैयार कर रहा है (यूहन्ना 14:2; 1 कुरिन्थियों 2:9)। - जूली ऐकैअरमैन लिंक


सुन्दरता परमेश्वर को प्रतिबिंबित करती है।

परन्तु जैसा लिखा है, कि जो आंख ने नहीं देखी, और कान ने नहीं सुना, और जो बातें मनुष्य के चित्त में नहीं चढ़ीं वे ही हैं, जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखने वालों के लिये तैयार की हैं। - 1 कुरिन्थियों 2:9

बाइबल पाठ: निर्गमन 36:1-7
Exodus 36:1 और बसलेल और ओहोलीआब और सब बुद्धिमान जिन को यहोवा ने ऐसी बुद्धि और समझ दी हो, कि वे यहोवा की सारी आज्ञाओं के अनुसार पवित्रस्थान की सेवकाई के लिये सब प्रकार का काम करना जानें, वे सब यह काम करें।
Exodus 36:2 तब मूसा ने बसलेल और ओहोलीआब और सब बुद्धिमानों को जिनके हृदय में यहोवा ने बुद्धि का प्रकाश दिया था, अर्थात जिस जिस को पास आकर काम करने का उत्साह हुआ था उन सभों को बुलवाया। 
Exodus 36:3 और इस्त्राएली जो जो भेंट पवित्रस्थान की सेवकाई के काम और उसके बनाने के लिये ले आए थे, उन्हें उन पुरूषों ने मूसा के हाथ से ले लिया। तब भी लोग प्रति भोर को उसके पास भेंट अपनी इच्छा से लाते रहें; 
Exodus 36:4 और जितने बुद्धिमान पवित्रस्थान का काम करते थे वे सब अपना अपना काम छोड़कर मूसा के पास आए, 
Exodus 36:5 और कहने लगे, जिस काम के करने की आज्ञा यहोवा ने दी है उसके लिये जितना चाहिये उस से अधिक वे ले आए हैं। 
Exodus 36:6 तब मूसा ने सारी छावनी में इस आज्ञा का प्रचार करवाया, कि क्या पुरूष, क्या स्त्री, कोई पवित्रस्थान के लिये और भेंट न लाए, इस प्रकार लोग और भेंट लाने से रोके गए। 
Exodus 36:7 क्योंकि सब काम बनाने के लिये जितना सामान आवश्यक था उतना वरन उस से अधिक बनाने वालों के पास आ चुका था।

एक साल में बाइबल: 
  • न्यायियों 16-18