बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, March 15, 2014

वचन


   इंटरनेट पर बाइबल संबंधी जानकारी और सामग्री की एक साईट, बाइबलगेटवे ने अपनी साईट पर प्रतिमाह आने वाले 80 लाख दर्शकों की प्रवृतियों का विश्लेषण किया और पाया कि परमेश्वर के वचन बाइबल का सबसे अधिक खोजा जाने वाला पद है यूहन्ना 3:16 और मुझे से इससे कोई आश्चर्य नहीं हुआ, क्योंकि यह पद बताता है कि परमेश्वर ने सारे जगत से इतना प्रेम किया है कि जगत के सभी लोगों को उनके पापों से बचाने तथा उन्हें अनन्त जीवन प्रदान करने के लिए अपने इकलौते पुत्र को दे दिया। पदों की खोज की सूचि में दसवें स्थान पर है प्रभु यीशु का अपने स्वर्गारोहण के समय चेलों को दिया गया उत्तरदायित्व के वे सारे संसार में जाकर चेले बनाएं (मत्ती 28:19)। प्रथम दस स्थानों की इसी सूचि में पाए जाने वाले अन्य पद हैं यर्मियाह 29:11, रोमियों 8:28 जो परमेश्वर द्वारा अपने लोगों के लिए बनाई गई भली योजनाओं के बारे में हैं।

   पवित्रशास्त्र बाइबल अनेक अद्भुत सत्यों से भरा पड़ा है और उन्हें खोजते रहना तथा दूसरों के साथ उन्हें बाँटना हम मसीही विश्वासियों का कर्तव्य है। बाइबल का सबसे लंबा अध्याय है भजन 119 जो पूरा का पूरा परमेश्वर के वचन के बारे में है। इस अध्याय में भजनकार ने परमेश्वर के वचन के बारे में अपने विचार और उसे खोजते रहने तथा परमेश्वर से सीखते रहने की अपनी इच्छा को बताया है। एक स्थान पर भजनकार कहता है, "अहा! मैं तेरी व्यवस्था में कैसी प्रीति रखता हूं! दिन भर मेरा ध्यान उसी पर लगा रहता है" (भजन 119:97)। आज का बाइबल पाठ कुछ उन बातों को बताता है जिनके कारण भजनकार परमेश्वर के वचन से ऐसा प्रेम रखता है: परमेश्वर के वचन से उसे बुद्धि एवं समझ मिलती है, उसके पांव बुरे रास्ते पर चल निकलने से रोके जाते हैं और वह वचन उसके लिए मधुर है, इसी लिए यह वचन सारे दिन उसके मनन का कारण है।

   परमेश्वर के वचन बाइबल को पढ़ते रहिए, उसके लिए प्रतिदिन समय निकालते रहिए। जितना अधिक हम बाइबल को पढ़ेंगे, उतना ही अधिक हमारा प्रेम उस वचन के प्रति तथा उसके मूल लेखक अर्थात परमेश्वर के लिए बढ़ता रहेगा। - ऐनी सेटास


आप बाइबल के साथ जितना अधिक समय बिताएंगे, परमेश्वर के प्रति आपका प्रेम उतना अधिक बढ़ता जाएगा।

क्योंकि यहोवा की यह वाणी है, कि जो कलपनाएं मैं तुम्हारे विषय करता हूँ उन्हें मैं जानता हूँ, वे हानी की नहीं, वरन कुशल ही की हैं, और अन्त में तुम्हारी आशा पूरी करूंगा। - यर्मियाह 29:11

बाइबल पाठ: भजन 119:97-104
Psalms 119:97 अहा! मैं तेरी व्यवस्था में कैसी प्रीति रखता हूं! दिन भर मेरा ध्यान उसी पर लगा रहता है। 
Psalms 119:98 तू अपनी आज्ञाओं के द्वारा मुझे अपने शत्रुओं से अधिक बुद्धिमान करता है, क्योंकि वे सदा मेरे मन में रहती हैं। 
Psalms 119:99 मैं अपने सब शिक्षकों से भी अधिक समझ रखता हूं, क्योंकि मेरा ध्यान तेरी चितौनियों पर लगा है। 
Psalms 119:100 मैं पुरनियों से भी समझदार हूं, क्योंकि मैं तेरे उपदेशों को पकड़े हुए हूं। 
Psalms 119:101 मैं ने अपने पांवों को हर एक बुरे रास्ते से रोक रखा है, जिस से मैं तेरे वचन के अनुसार चलूं। 
Psalms 119:102 मैं तेरे नियमों से नहीं हटा, क्योंकि तू ही ने मुझे शिक्षा दी है। 
Psalms 119:103 तेरे वचन मुझ को कैसे मीठे लगते हैं, वे मेरे मुंह में मधु से भी मीठे हैं! 
Psalms 119:104 तेरे उपदेशों के कारण मैं समझदार हो जाता हूं, इसलिये मैं सब मिथ्या मार्गों से बैर रखता हूं।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 शमूएल 4-7