बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, May 28, 2014

समूह


   प्रसिद्ध मसीही प्रचारक ओस्वॉल्ड चैम्बर्स जब मिस्त्र में YMCA में पादरी थे (1915-17), तब प्रथम विश्वयुद्ध में काम आने वाले अनेक सैनिकों के जीवन को उन्होंने प्रभावित किया। चैम्बर्स ने अपनी डायरी में 6 नवंबर 1916 को लिखा: "आज न्य़ू ज़ीलैण्ड से एक मित्र का पत्र आया, जिससे ज्ञात हुआ कि टैड स्टरैक का देहान्त हो गया है। तो अब टैड स्टरैक भी प्रभु यीशु के पास चला गया है - वह स्वयं भी इसका वर्णन इन्हीं शब्दों में करता...वह सुन्दर था, उसमें अनुग्रह था, वह भयभीत नहीं होता था और वह प्यार करने के योग्य एक छोटा सन्त था। उसके प्रत्येक स्मरण के लिए परमेश्वर का धन्यवाद हो...वे सब ऐसे ही एक एक करके समूह में एकत्रित होते जा रहे हैं।"

   जब हम अपने किसी प्रीय जन की मृत्यु पर शोकित होते हैं, तब साथ ही हम प्रभु यीशु द्वारा हम मसीही विश्वासियों से की गई कब्र से आगे के जीवन की प्रतिज्ञा को भी स्मरण रखें। परमेश्वर के वचन बाइबल की अन्तिम पुस्तक, "प्रकाशितवाक्य" में उसके लेखक यूहन्ना का स्वर्गीय दर्शन लिखित है, जहाँ एक विशाल समूह जो संसार के प्रत्येक राष्ट्र, जाति, भाषा से आए हैं और परमेश्वर के सिंहासन के चारों ओर एकत्रित हैं (प्रकाशितवाक्य 7:9)। इस खण्ड का विषय है वह आनन्दमय पुनर्मिलन: "क्योंकि मेम्ना जो सिंहासन के बीच में है, उन की रखवाली करेगा; और उन्हें जीवन रूपी जल के सोतों के पास ले जाया करेगा, और परमेश्वर उन की आंखों से सब आंसू पोंछ डालेगा" (प्रकाशितवाक्य 7:17)।

   प्रत्येक मसीही विश्वासी का संसार से कूच करना उस आने वाले दिन का पूर्वाभास करवाता है जब हम भी उन सभी के तथा अपने प्रभु के साथ एक ही समूह में एकत्रित होंगे। आज का हमारा शोक हमें कल की आशा दिलाता है कि हम एक एक करके उस विशाल समूह में एकत्रित होते जा रहे हैं जहाँ फिर कभी कोई शोक नहीं होगा, वरन अनन्त काल के आनन्द और आशीष जीवन होगा। - डेविड मैक्कैसलैंड


अलविदा संसार का नियम है; और पुनर्मिलन स्वर्ग का।

धर्मी जन नाश होता है, और कोई इस बात की चिन्ता नहीं करता; भक्त मनुष्य उठा लिये जाते हैं, परन्तु कोई नहीं सोचता। धर्मी जन इसलिये उठा लिया गया कि आने वाली आपत्ति से बच जाए, वह शान्ति को पहुंचता है; जो सीधी चाल चलता है वह अपनी खाट पर विश्राम करता है। - यशायाह 57:1-2

बाइबल पाठ: प्रकाशितवाक्य 7:9-17
Revelation 7:9 इस के बाद मैं ने दृष्टि की, और देखो, हर एक जाति, और कुल, और लोग और भाषा में से एक ऐसी बड़ी भीड़, जिसे कोई गिन नहीं सकता था श्वेत वस्‍त्र पहिने, और अपने हाथों में खजूर की डालियां लिये हुए सिंहासन के साम्हने और मेम्ने के साम्हने खड़ी है। 
Revelation 7:10 और बड़े शब्द से पुकार कर कहती है, कि उद्धार के लिये हमारे परमेश्वर का जो सिंहासन पर बैठा है, और मेम्ने का जय-जय-कार हो। 
Revelation 7:11 और सारे स्वर्गदूत, उस सिंहासन और प्राचीनों और चारों प्राणियों के चारों ओर खड़े हैं, फिर वे सिंहासन के साम्हने मुंह के बल गिर पड़े; और परमेश्वर को दण्‍डवत कर के कहा, आमीन। 
Revelation 7:12 हमारे परमेश्वर की स्‍तुति, ओर महिमा, और ज्ञान, और धन्यवाद, और आदर, और सामर्थ, और शक्ति युगानुयुग बनी रहें। आमीन। 
Revelation 7:13 इस पर प्राचीनों में से एक ने मुझ से कहा; ये श्वेत वस्‍त्र पहिने हुए कौन हैं? और कहां से आए हैं? 
Revelation 7:14 मैं ने उस से कहा; हे स्‍वामी, तू ही जानता है: उसने मुझ से कहा; ये वे हैं, जो उस बड़े क्‍लेश में से निकल कर आए हैं; इन्‍होंने अपने अपने वस्‍त्र मेम्ने के लोहू में धो कर श्वेत किए हैं। 
Revelation 7:15 इसी कारण वे परमेश्वर के सिंहासन के साम्हने हैं, और उसके मन्दिर में दिन रात उस की सेवा करते हैं; और जो सिंहासन पर बैठा है, वह उन के ऊपर अपना तम्बू तानेगा। 
Revelation 7:16 वे फिर भूखे और प्यासे न होंगे: ओर न उन पर धूप, न कोई तपन पड़ेगी। 
Revelation 7:17 क्योंकि मेम्ना जो सिंहासन के बीच में है, उन की रखवाली करेगा; और उन्हें जीवन रूपी जल के सोतों के पास ले जाया करेगा, और परमेश्वर उन की आंखों से सब आंसू पोंछ डालेगा।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 9-12