बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, May 7, 2015

सताव


   मैं सताव के बारे में व्यक्तिगत अनुभव से कुछ नहीं जानती क्योंकि मेरा शारीरिक स्वास्थ्य मेरे मसीही विश्वास के कारण कभी किसी खतरे में नहीं पड़ा। सताव के विषय में मेरी जो भी जानकारी है वह मेरे इसके बारे में पढ़ने और सुनने के द्वारा ही है। लेकिन यह बात संसार में हमारे बहुत से अन्य मसीही विश्वासी भाई-बहनों के लिए सत्य नहीं है। उन में से कुछ तो प्रतिदिन अपनी जान के जोखिम में जीते हैं केवल इस कारण कि वे प्रभु यीशु से प्रेम करते हैं और चाहते हैं कि और लोग भी उसके बारे में जानें।

   एक अन्य प्रकार का सताव भी है जो जान के लिए खतरनाक ना सही लेकिनमन को दुखी करने वाला अवश्य है। यह है मसीह यीशु को व्यक्तिगत रीति से अपना उद्धारकर्ता नहीं स्वीकार करने वाले प्रीय तथा परिवार जनों से आने वाला सताव। जब हमारे ये प्रिय जन हमारे मसीही विश्वास का मज़ाक उड़ाते हैं और जिन बातों को हम मानते हैं उनके कारण और हमारे परमेश्वर के प्रति अपने प्रेम को व्यक्त करने की विधि को लेकर हमारा ठठ्ठा करते हैं तो हमें आभास होता है कि हम उनको अप्रीय औरौनसे तिरिस्कृत हैं, जो अवश्य ही दुखदायी भी होता है।

   प्रेरित पौलुस ने मसीही विश्वासियों को सचेत किया कि मसीह यीशु पर विश्वास लाना और निभाना मसीही विश्वासी के जीवन में सताव को भी लेकर आएगा: "पर जितने मसीह यीशु में भक्ति के साथ जीवन बिताना चाहते हैं वे सब सताए जाएंगे" (2 तिमुथियुस 3:12)। प्रभु यीशु ने अपने अनुयायियों से स्पष्ट कहा कि उनके सताने वाले उनके अपने घर के लोग ही होंगे (मत्ती 10:34-36)। लेकिन सब से अधिक कष्ट तब होता है जब वे लोग जिनसे हम प्रेम करते हैं तथा हम जिनका भला करना चाहते हैं, वे ही परमेश्वर के उनके प्रति प्रेम का तिरिस्कार करें, उसका उपहास करें।

   हमारे प्रभु यीशु ने हमें सिखाया है कि हम अपने सताने वालों के लिए प्रार्थना करें (मत्ती 5:44), और यह केवल प्रीय या परिवार जनों के लिए ही नहीं वरन हम से बैर करने और हमें सताने वाले अजनबियों के लिए भी लागू है। परमेश्वर हमें अनुग्रह दे कि हम प्रत्येक प्रकार के सताव में उसके प्रति विश्वास में दृढ़ बने रहें और सभी सताए जाने वालों के लिए प्रार्थना करते रहें। - जूली ऐकैअरमैन लिंक


लोग हमारे सन्देश का उपहास कर सकते हैं, परन्तु वे हमारी प्रार्थनाओं को नहीं रोक सकते।

परन्तु मैं तुम से यह कहता हूं, कि अपने बैरियों से प्रेम रखो और अपने सताने वालों के लिये प्रार्थना करो। - मत्ती 5:44

बाइबल पाठ: मत्ती 10:32-38
Matthew 10:32 जो कोई मनुष्यों के साम्हने मुझे मान लेगा, उसे मैं भी अपने स्‍वर्गीय पिता के साम्हने मान लूंगा। 
Matthew 10:33 पर जो कोई मनुष्यों के साम्हने मेरा इन्कार करेगा उस से मैं भी अपने स्‍वर्गीय पिता के साम्हने इन्कार करूंगा। 
Matthew 10:34 यह न समझो, कि मैं पृथ्वी पर मिलाप कराने को आया हूं; मैं मिलाप कराने को नहीं, पर तलवार चलवाने आया हूं। 
Matthew 10:35 मैं तो आया हूं, कि मनुष्य को उसके पिता से, और बेटी को उस की मां से, और बहू को उस की सास से अलग कर दूं। 
Matthew 10:36 मनुष्य के बैरी उसके घर ही के लोग होंगे। 
Matthew 10:37 जो माता या पिता को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं और जो बेटा या बेटी को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं। 
Matthew 10:38 और जो अपना क्रूस ले कर मेरे पीछे न चले वह मेरे योग्य नहीं।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 राजा 1-3
  • लूका 24:1-35