बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, June 14, 2016

सुदृढ़ सुरक्षा


   मई 2003 का वह दिन दुःखद था जब अमेरिका के न्यू हैम्पशायर प्रांत के व्हाईट माऊन्टेंस पहाड़ी श्रंखला की चट्टानों में प्रकृति द्वारा तराशा हुआ बूढ़े आदमी के चेहरे के समान दिखने वाला 40 फुट आकार का प्राकृतिक अजूबा जिसे "The Old Man of the Mountain" कहा जाता था टूट कर पहाड़ी से नीचे गिर गया। वर्षों से यह अजूबा सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा था; इसे प्रांत का आधिकारिक चिन्ह भी बनाया गया था और स्थानीय निवासियों के लिए इसकी उपस्थिति आश्वस्त करने वाली थी। जब यह दुर्घटना हुई तो कुछ स्थानीय निवासी बहुत हताश हो गए; एक महिला ने कहा, "यहाँ मैं इस एहसास के साथ बड़ी हुई थी कि कोई मुझ पर नज़र रखे हुए है, लेकिन अब मुझ पर नज़र रखने वाले की आश्वस्त करने वाली उपस्थिति बहुत घट गई है"।

   हमारे जीवनों में ऐसे समय आते हैं जब किसी की भरोसेमन्द उपस्थिति जाती रहती है। कोई व्यक्ति अथवा कोई बात जिस पर हम निर्भर कर रहे थे चला जाता है, और हमारा जीवन हिल जाता है। यह किसी प्रीय जन की मृत्यु के कारण हो सकता है, या नौकरी अथवा स्वास्थ्य की हानि के कारण। कारण जो भी हो, उस हानि के कारण हम असंतुलित तथा अस्थिर अनुभव करते हैं; हम यह भी सोच लेते हैं कि परमेश्वर अब हमारा ध्यान नहीं कर रहा है।

   परन्तु परमेश्वर का वचन बाइबल हमें आश्वस्त करती है कि "यहोवा की आंखे धर्मियों पर लगी रहती हैं, और उसके कान भी उसकी दोहाई की ओर लगे रहते हैं" (भजन 34:15), और "धर्मी पर बहुत सी विपत्तियां पड़ती तो हैं, परन्तु यहोवा उसको उन सब से मुक्त करता है" (भजन 34:18)। हमारा परमेश्वर वह चट्टान है जिस की उपस्थिति पर हम सदा भरोसा रख सकते हैं (व्यवस्थाविवरण 32:3-4)। हमारे साथ बनी रहने वाली परमेश्वर की उपस्थिति एक वास्तविकता है, और वह सदा हम पर नज़र बनाए रखता है, उसकी सुदृढ़ सुरक्षा सदा हमारे साथ है। - ऐनी सेटास


प्रश्न यह नहीं है कि परमेश्वर कहाँ है? वरन, प्रश्न यह है कि परमेश्वर कहाँ नहीं है?

मैं तो यहोवा नाम का प्रचार करूंगा। तुम अपने परमेश्वर की महिमा को मानो! वह चट्टान है, उसका काम खरा है; और उसकी सारी गति न्याय की है। वह सच्चा ईश्वर है, उस में कुटिलता नहीं, वह धर्मी और सीधा है। - व्यवस्थाविवरण 32:3-4

बाइबल पाठ: भजन 34:15-22
Psalms 34:15 यहोवा की आंखे धर्मियों पर लगी रहती हैं, और उसके कान भी उसकी दोहाई की ओर लगे रहते हैं। 
Psalms 34:16 यहोवा बुराई करने वालों के विमुख रहता है, ताकि उनका स्मरण पृथ्वी पर से मिटा डाले। 
Psalms 34:17 धर्मी दोहाई देते हैं और यहोवा सुनता है, और उन को सब विपत्तियों से छुड़ाता है। 
Psalms 34:18 यहोवा टूटे मन वालों के समीप रहता है, और पिसे हुओं का उद्धार करता है।
Psalms 34:19 धर्मी पर बहुत सी विपत्तियां पड़ती तो हैं, परन्तु यहोवा उसको उन सब से मुक्त करता है। 
Psalms 34:20 वह उसकी हड्डी हड्डी की रक्षा करता है; और उन में से एक भी टूटने नहीं पाती। 
Psalms 34:21 दुष्ट अपनी बुराई के द्वारा मारा जाएगा; और धर्मी के बैरी दोषी ठहरेंगे। 
Psalms 34:22 यहोवा अपने दासों का प्राण मोल ले कर बचा लेता है; और जितने उसके शरणागत हैं उन में से कोई भी दोषी न ठहरेगा।

एक साल में बाइबल: 
  • एज़्रा 9-10
  • प्रेरितों 1