बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, May 12, 2017

टेक


   हमारी सहेली, हेलेन का देहांत हो गया था, और हम उसके अन्तिम संस्कार के पश्चात बाहर आ रहे थे; सिंडी ने टिप्पणी की, "यह कैसा अनोखा अन्तिम संस्कार था।" हेलेन को दी जाने वाली इस अन्तिम विदाई के समय एक के बाद एक मित्र, सहेली, परिवारजन ने उसके हँसमुख तथा सदा आनन्दमय व्यवहार को स्मरण किया। परन्तु हेलेन का जीवन केवल हँसी-मज़ाक और चुटकुले ही नहीं था। उसके भान्जे ने मसीह यीशु में हेलेन के विश्वास के, तथा दुसरों की देखभाल करने की उसकी प्रवृत्ति के बारे में बताया। उसने बताया कि कैसे, जब वह किशोर था और संघर्ष कर रहा था, ऐसे में हेलेन ने उसे अपने घर में स्थान दिया। आज वह जीवन के तीसरे दशक में था, और कह रहा था, "हेलेन आन्टी मेरे लिए माँ के समान थीं। मेरे संघर्षों में उन्होंने कभी मेरा साथ नहीं छोड़ा। मुझे पूरा विश्वास है कि यदि उनका साथ नहीं होता तो मैं अपने मसीही विश्वास से कब का पीछे हट चुका होता।" वाह! कैसा अद्भुत प्रभाव! हेलेन ने प्रभु यीशु को अपनी टेक बनाया, उसका सहारा लिया, और अपने भान्जे को भी प्रभु की टेक, उसका सहारा लेना सिखाया।

   परमेश्वर के वचन बाइबल के पुराने नियम में हम पढ़ते हैं कि राजा दाउद ने एक जवान पुरुष, मपीबोशेत को, अपने घर में स्थान दिया जिससे उसके पिता और दाऊद के दिवंगत मित्र योनातान के कारण मपीबोशेत पर अनुकंपा दिखा सके (देखें 2 शमूएल 9:1)। कई वर्ष पहले, जब उसके पिता के युध्द में मारे जाने का समाचार आया था, तो जब मपीबोशेत की धाय उसे लेकर भागी तो वह उसकी गोदी से गिर गया और घायल हो गया (4:4), अब वह ठीक से चल नहीं सकता था। मपीबोशेत को आश्चर्य हुआ कि राजा दाऊद उसकी देखभाल करना चाहता था; क्योंकि अपनी दृष्टि में मपीबोशेत तो "मरे हुए कुते" के समान था (9:8)। परन्तु दाऊद ने उससे अपने पुत्र के समान व्यवहार किया (9:11)।

   मैं भी ऐसा व्यक्ति बनना चाहूँगी; क्या आप ऐसा बनना नहीं चाहेंगे? ऐसा व्यक्ति जो दूसरों की देखभाल और सहायता करे, उन्हें हर परिस्थित, परेशानी, संघर्ष में भी मसीह यीशु में विश्वास बनाए रखने में सहायक हो। जो दूसरों के लिए टेक बन सके, और सारे संसार के सभी लोगों के आश्रय स्थान तथा सहारे प्रभु यीशु की ओर लोगों को आकर्षित कर सके। - ऐनी सेटास


परमेश्वर लोगों के जीवनों में अन्य लोगों के द्वारा ही अपना अधिकांश कार्य करता है।

क्योंकि तू संकट में दीनों के लिये गढ़, और जब भयानक लोगों का झोंका भीत पर बौछार के समान होता था, तब तू दरिद्रों के लिये उनकी शरण, और तपन में छाया का स्थान हुआ। - यशायाह 25:4

बाइबल पाठ: 2 शमूएल 9
2 Samuel 9:1 दाऊद ने पूछा, क्या शाऊल के घराने में से कोई अब तक बचा है, जिस को मैं योनातन के कारण प्रीति दिखाऊं? 
2 Samuel 9:2 शाऊल के घराने का सीबा नाम एक कर्मचारी था, वह दाऊद के पास बुलाया गया; और जब राजा ने उस से पूछा, क्या तू सीबा है? तब उसने कहा, हां, तेरा दास वही है। 
2 Samuel 9:3 राजा ने पूछा, क्या शाऊल के घराने में से कोई अब तक बचा है, जिस को मैं परमेश्वर की सी प्रीति दिखाऊं? सीबा ने राजा से कहा, हां, योनातन का एक बेटा तो है, जो लंगड़ा है। 
2 Samuel 9:4 राजा ने उस से पूछा, वह कहां है? सीबा ने राजा से कहा, वह तो लोदबार नगर में, अम्मीएल के पुत्र माकीर के घर में रहता है। 
2 Samuel 9:5 तब राजा दाऊद ने दूत भेज कर उसको लोदबार से, अम्मीएल के पुत्र माकीर के घर से बुलवा लिया। 
2 Samuel 9:6 जब मपीबोशेत, जो योनातन का पुत्र और शाऊल का पोता था, दाऊद के पास आया, तब मुह के बल गिर के दण्डवत्‌ किया। दाऊद ने कहा, हे मपीबोशेत! उसने कहा, तेरे दास को क्या आज्ञा? 
2 Samuel 9:7 दाऊद ने उस से कहा, मत डर; तेरे पिता योनातन के कारण मैं निश्चय तुझ को प्रीति दिखाऊंगा, और तेरे दादा शाऊल की सारी भूमि तुझे फेर दूंगा;