बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, March 10, 2017

अनपेक्षित


   युवा एवं उत्साही ड्रू, उस बड़े चर्च में पहली बार चर्च की स्तुति-गान गाने वाली गायन मण्डली की अगुवाई कर रहा था। लोइस, जो लंबे समय से उस चर्च में आती थी, उसे प्रोत्साहित करना चाहती थी, परन्तु लोगों की भीड़ के कारण उसे लगा कि चर्च में आगे तक जाकर ड्रू के चले जाने से पहले उससे मिलकर कुछ कह पाना कठिन होगा। परन्तु फिर उसे भीड़ से निकलकर ड्रू तक पहुँचने का एक मार्ग दिखा, और वह आगे ड्रू तक पहुँच गई, तथा उससे कहा, "आराधना के लिए मैं तुम्हारे उत्साह की सराहना करती हूँ। प्रभु की सेवा करते रहो!"

   जब लोइस बाहर निकल रही थी, उसकी मुलाकात शैरॉन से हो गई, जिससे वह लंबे समय से नहीं मिली थी। थोड़ी देर बातचीत के पश्चत शैरॉन ने लोइस से कहा, "तुम जो प्रभु के लिए कर रही हो उसके लिए धन्यवाद। प्रभु की सेवा करती रहो!" क्योंकि लोइस ने सराहना तथा प्रोत्साहन देने के लिए मार्ग निकाला था, इसलिए अब वह भी अनपेक्षित सराहना एवं प्रोत्साहन पाने की स्थिति में थी, और उसे यह मिला भी।

   परमेश्वर के वचन बाइबल के पुराने नियम खण्ड में एक छोटी पुस्तक है "रूत" की पुस्तक, जो रूत नामक एक महिला की कहानी बताती है, कैसे परमेश्वर ने उस परदेशी स्त्री को, उसकी वफादारी के कारण, इस्त्राएल में शिरोमणी बना दिया। रूत और उसकी सास नाओमी के मोआब से वापस इस्त्राएल लौट आने के कुछ समय पश्चात उन्हें एक अनपेक्षित आशीष मिली। वे दोनों ही स्त्रियाँ विधवाएं थीं और उनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं था; इसलिए घर के लिए अनाज जुटाने के लिए रूत एक खेत में अनाज बीनने के लिए गई (रूत 2:2-3)। वह खेत बोअज़ नामक एक पुरुष का था जो नाओमी का दूर का संबंधी था। बोआज़ ने रूत को देखा, उसकी सहायता की और आगे चलकर उससे विवाह भी किया (रूत 2:20; 4:13)। बोअज़ और रूत की सन्तान से राजा दाऊद आया और फिर दाऊद के वंशजों से आगे चलकर प्रभु यीशु मसीह का जन्म हुआ। परदेशी रूत ने उस समय सांसारिक आशीषे पाईं, और भविष्य के लिए प्रभु यीशु की पूर्वज बन गई। परमेश्वर ने रूत की अपनी सास और उसके लोगों के प्रति वफादारी के लिए उसे अनपेक्षित आशीषों से भर दिया।

   कभी कभी परमेश्वर अनपेक्षित लोगों, मुलाकातों, परिस्थितियों को हमारे लिए हमारे सोचने समझने से बढ़कर अनपेक्षित आशीषें देने के लिए प्रयोग करता है। - ऐनी सेटास


जब दूसरों की सहायता करने की बात आती है
 तो कुछ ना करने पर आकर ठहर ना जाएं।

परन्तु जैसा लिखा है, कि जो आंख ने नहीं देखी, और कान ने नहीं सुना, और जो बातें मनुष्य के चित्त में नहीं चढ़ीं, वे ही हैं जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखने वालों के लिये तैयार की हैं। - 1 कुरिन्थियों 2:9

बाइबल पाठ: रूत 2:1-17
Ruth 2:1 नाओमी के पति एलीमेलेक के कुल में उसका एक बड़ा धनी कुटुम्बी था, जिसका नाम बोअज था। 
Ruth 2:2 और मोआबिन रूत ने नाओमी से कहा, मुझे किसी खेत में जाने दे, कि जो मुझ पर अनुग्रह की दृष्टि करे, उसके पीछे पीछे मैं सिला बीनती जाऊं। उसने कहा, चली जा, बेटी। 
Ruth 2:3 सो वह जा कर एक खेत में लवने वालों के पीछे बीनने लगी, और जिस खेत में वह संयोग से गई थी वह एलीमेलेक के कुटुम्बी बोअज का था। 
Ruth 2:4 और बोअज बेतलेहेम से आकर लवने वालों से कहने लगा, यहोवा तुम्हारे संग रहे, और वे उस से बोले, यहोवा तुझे आशीष दे। 
Ruth 2:5 तब बोअज ने अपने उस सेवक से जो लवने वालों के ऊपर ठहराया गया था पूछा, वह किस की कन्या है। 
Ruth 2:6 जो सेवक लवने वालों के ऊपर ठहराया गया था उसने उत्तर दिया, वह मोआबिन कन्या है, जो नाओमी के संग मोआब देश से लौट आई है। 
Ruth 2:7 उसने कहा था, मुझे लवने वालों के पीछे पीछे पूलों के बीच बीनने और बालें बटोरने दे। तो वह आई, और भोर से अब तक यहीं है, केवल थोड़ी देर तक घर में रही थी। 
Ruth 2:8 तब बोअज ने रूत से कहा, हे मेरी बेटी, क्या तू सुनती है? किसी दूसरे के खेत में बी