बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, March 17, 2017

परीक्षा


   हाल ही में, हमारे बेटे और बहू ने हमें बड़ी घबराहट में फोन किया। पिछली रात को उन्हें घर के अन्दर दो चमगादड़ दिखाई दिए थे। मैं जानता हूँ कि पर्यावरण को सुचारू बनाए रखने में चमगादड़ों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, परन्तु फिर भी परमेश्वर के प्राणियों में वे मेरे प्रीय प्राणियों में सम्मिलिय नहीं हैं; विशेषकर तब जब वे घर के अन्दर उड़ रहे हों। परन्तु मैं और मेरी पत्नि धन्यवादी थे कि हम जाकर अपने बच्चों की सहायता कर सके। घर के उन छेदों को बन्द करने में हमने उनकी सहायता करी, जिनमें से वे चमगादड़ अन्दर आ सकते थे।

   हमारे जीवनों में भी इसी प्रकार दुःख या परेशानियाँ अनायास ही आ जाती हैं। जब इस प्रकार की परीक्षाएं आती हैं तो हम बड़ी सरलता से घबारा जाते या हताश हो जाते हैं। परन्तु यही कठिन परिस्थितियाँ वे उपकरण हो सकते हैं जिन्हें हमारा प्रेमी परमेश्वर पिता हमें और अधिक हमारे प्रभु यीशु मसीह की समानता में ढालने के लिए उपयोग करता है। इसीलिए परमेश्वर के वचन बाइबल में याकूब ने लिखा, "हे मेरे भाइयों, जब तुम नाना प्रकार की परीक्षाओं में पड़ो, तो इसको पूरे आनन्द की बात समझो, यह जान कर, कि तुम्हारे विश्वास के परखे जाने से धीरज उत्पन्न होता है। पर धीरज को अपना पूरा काम करने दो, कि तुम पूरे और सिद्ध हो जाओ और तुम में किसी बात की घटी न रहे" (याकूब 1:2-4)।

   हमसे यह आशा नहीं रखी जाती है कि हम परीक्षाओं का मज़ा लें या दुःख का उत्सव मनाएं। परन्तु जब ये अनचाही परिस्थितियाँ आती हैं, तो हम उनमें भी परमेश्वर के हाथ को देख सकते हैं और इस विश्वास में आश्वस्त रह सकते हैं कि हमारा परमेश्वर पिता उन परीक्षाओं के द्वारा हमें हमारे और जगत के उद्धारकर्ता प्रभु यीशु मसीह की समानता में ढाल रहा है। - बिल क्राउडर


परीक्षाएं हमारे पास कभी कभी आती हैं, 
परन्तु परमेश्वर हमारे साथ सदा बना रहता है।

धन्य हो तुम, जब मनुष्य के पुत्र के कारण लोग तुम से बैर करेंगे, और तुम्हें निकाल देंगे, और तुम्हारी निन्‍दा करेंगे, और तुम्हारा नाम बुरा जानकर काट देंगे। उस दिन आनन्‍दित हो कर उछलना, क्योंकि देखो, तुम्हारे लिये स्वर्ग में बड़ा प्रतिफल है: उन के बाप-दादे भविष्यद्वक्ताओं के साथ भी वैसा ही किया करते थे। - लूका 6:22-23

बाइबल पाठ: याकूब 1:2-12
James 1:2 हे मेरे भाइयों, जब तुम नाना प्रकार की परीक्षाओं में पड़ो 
James 1:3 तो इसको पूरे आनन्द की बात समझो, यह जान कर, कि तुम्हारे विश्वास के परखे जाने से धीरज उत्पन्न होता है। 
James 1:4 पर धीरज को अपना पूरा काम करने दो, कि तुम पूरे और सिद्ध हो जाओ और तुम में किसी बात की घटी न रहे।
James 1:5 पर यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो बिना उलाहना दिए सब को उदारता से देता है; और उसको दी जाएगी। 
James 1:6 पर विश्वास से मांगे, और कुछ सन्‍देह न करे; क्योंकि सन्‍देह करने वाला समुद्र की लहर के समान है जो हवा से बहती और उछलती है। 
James 1:7 ऐसा मनुष्य यह न समझे, कि मुझे प्रभु से कुछ मिलेगा। 
James 1:8 वह व्यक्ति दुचित्ता है, और अपनी सारी बातों में चंचल है।
James 1:9 दीन भाई अपने ऊंचे पद पर घमण्‍ड करे। 
James 1:10 और धनवान अपनी नीच दशा पर: क्योंकि वह घास के फूल की नाईं जाता रहेगा। 
James 1:11 क्योंकि सूर्य उदय होते ही कड़ी धूप पड़ती है और घास को सुखा देती है, और उसका फूल झड़ जाता है, और उस की शोभा जाती रहती है; उसी प्रकार धनवान भी अपने मार्ग पर चलते चलते धूल में मिल जाएगा। 
James 1:12 धन्य है वह मनुष्य, जो परीक्षा में स्थिर रहता है; क्योंकि वह खरा निकल कर जीवन का वह मुकुट पाएगा, जिस की प्रतिज्ञा प्रभु ने अपने प्रेम करने वालों को दी है।

एक साल में बाइबल: 
  • व्यवस्थाविवरण 30-31
  • मरकुस 15:1-25