बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, April 2, 2017

प्रार्थना


   जब मैं और मेरे पति मिलकर अपने बेटे के प्यानो सीखने के अभ्यास सत्रों को निरीक्षित करते हैं, तो पहले हम प्रार्थना द्वारा परमेश्वर से इसके लिए सहायता माँगते हैं। हम प्रार्थना इसलिए करते हैं क्योंकि ना तो मुझे और ना ही मेरे पति को प्यानो बजाना आता है। इन अभ्यास सत्रों के द्वारा हम तीनों एक साथ मिलकर संगीत के रहस्यों को समझ रहे हैं, संगीत का वर्णन करने वाले भिन्न शब्दों के अर्थ और प्रयोग को पहचान रहे हैं और कौन सा सुर कब लगाना है सीख रहे हैं।

   जब हम यह पहचान लेते हैं कि हमें परमेश्वर की सहायता की आवश्यकता है, तो प्रार्थना हमारी प्राथमिकता बन जाती है। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम दाऊद के विषय में देखते हैं कि वह कठिन परिस्थिति में था जब उसे कीला नगर के लिए पलिश्तियों से लड़ना था। युद्ध में जाने से पहले दाऊद ने परमेश्वर से प्रार्थना कर के पूछा, "...क्या मैं जा कर पलिश्तियों को मारूं? यहोवा ने दाऊद से कहा, जा, और पलिश्तियों को मार के कीला को बचा" (1 शमूएल 23:2)। परमेश्वर ने अपनी सहमति दी; परन्तु दाऊद के सैनिकों ने माना कि वे शत्रु की सेना से भयभीत थे (पद 3)। पलिश्तियों के विरुद्ध एक भी तलवार उठाने से पहले दाऊद ने फिर से प्रार्थना की। परमेश्वर ने उसे विजय का आश्वासन दिया, जो फिर उसे प्राप्त हुई (पद 4)।

   क्या प्रार्थना हमारे जीवनों का मार्गदर्शन करती है, या वह हमारे लिए अन्य सब प्रयास कर लेने के पश्चात प्रयोग करने के लिए अंतिम विकल्प होता है? हम कभी कभी पहले अपनी योजनाएं बनाकर फिर उन पर परमेश्वर की आशीष माँगने की; या फिर जब हम बिलकुल ही निराश या असहाय अनुभव करें तब ही प्रार्थना करने की आदत में पड़ जाते हैं। परमेश्वर चाहता है कि हम अपनी हर आवश्यकता के लिए प्रार्थना में उसकी ओर देखें; परन्तु वह यह भी चाहता है कि हम यह समझें कि हमें उसकी तथा उसके मार्गदर्शन की आवश्यकता सदा रहती है; और हर बात के लिए सही मार्गदर्शन केवल उस से ही मिलता है (नीतिवचन 3:5-6)। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


परमेश्वर चाहता है कि कुछ भी करने से पहले 
हम उस बात के बारे में उससे प्रार्थना करें।

तू अपनी समझ का सहारा न लेना, वरन सम्पूर्ण मन से यहोवा पर भरोसा रखना। उसी को स्मरण कर के सब काम करना, तब वह तेरे लिये सीधा मार्ग निकालेगा। - नीतिवचन 3:5-6

बाइबल पाठ: 1 शमूएल 23:1-5
1 Samuel 23:1 और दाऊद को यह समाचार मिला कि पलिश्ती लोग कीला नगर से युद्ध कर रहे हैं, और खलिहानों को लूट रहे हैं। 
1 Samuel 23:2 तब दाऊद ने यहोवा से पूछा, कि क्या मैं जा कर पलिश्तियों को मारूं? यहोवा ने दाऊद से कहा, जा, और पलिश्तियों को मार के कीला को बचा। 
1 Samuel 23:3 परन्तु दाऊद के जनों ने उस से कहा, हम तो इस यहूदा देश में भी डरते रहते हैं, यदि हम कीला जा कर पलिश्तियों की सेना का साम्हना करें, तो क्या बहुत अधिक डर में न पड़ेंगे? 
1 Samuel 23:4 तब दाऊद ने यहोवा से फिर पूछा, और यहोवा ने उसे उत्तर देकर कहा, कमर बान्धकर कीला को जा; क्योंकि मैं पलिश्तियों को तेरे हाथ में कर दूंगा। 
1 Samuel 23:5 इसलिये दाऊद अपने जनों को संग ले कर कीला को गया, और पलिश्तियों से लड़कर उनके पशुओं को हांक लाया, और उन्हें बड़ी मार से मारा। यों दाऊद ने कीला के निवासियों बचाया। 

एक साल में बाइबल: 
  • न्यायियों 16-18
  • लूका 7:1-30