बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, July 3, 2017

साहस और सहायता


   बचपन में मैं दो गलियों में स्थित लगभग 140 घरों में अखबार बाँटने का काम करता था; उन गलियों के बीच में एक कब्रिस्तान था। क्योंकि मैं प्रातः का अखबार बाँटा करता था इसलिए मुझे सुबह 3:00 बजे अँधेरे में बाहर गलियों में होना पड़ता था, और एक से दूसरी गली जाने के लिए कब्रिस्तान के किनारे से होकर जाना पड़ता था। कभी-कभी उस कब्रिस्तान से मैं इतना भयभीत होता था कि भागकर एक से दूसरी गली को जाया करता था। मेरा भय तब तक बना रहता जब तक मैं दूसरी ओर पहुँच कर सड़क पर रौशनी के लिए लगे खंबे के नीचे की रौशनी में नहीं पहुँच जाता था। अन्धकार का भय उस ज्योति से दूर हो जाता था।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में भजनकार ने अन्धकार और भय के बीच के संबंध को समझा, परन्तु साथ ही वह यह भी जानता था कि परमेश्वर उसके सभी भय से कहीं अधिक बड़ा है। भजनकार ने लिखा, "तू न रात के भय से डरेगा, और न उस तीर से जो दिन को उड़ता है, न उस मरी से जो अन्धेरे में फैलती है, और न उस महारोग से जो दिन दुपहरी में उजाड़ता है" (भजन 91:5-6)। न तो रात के भय और न ही कोई बुराई हमें भयभीत करने पाए, क्योंकि हम मसीही विश्वासियों के पास जगत की ज्योति परमेश्वर का पुत्र प्रभु यीशु मसीह है (यूहन्ना 8:12)।

   परमेश्वर के प्रेम, अनुग्रह और सत्य की ज्योति में हमें साहस और सहायता, तथा उसके लिए जीवन व्यतीत करने की सामर्थ्य मिल सकती है। - बिल क्राउडर


यदि आप जगत की ज्योति के साथ चल रहे हैं, 
तो आपको किसी अंधकार से डरने की आवश्यकता नहीं है।

तब यीशु ने फिर लोगों से कहा, जगत की ज्योति मैं हूं; जो मेरे पीछे हो लेगा, वह अन्धकार में न चलेगा, परन्तु जीवन की ज्योति पाएगा। - यूहन्ना 8:12

बाइबल पाठ: भजन 91:1-10
Psalms 91:1 जो परमप्रधान के छाए हुए स्थान में बैठा रहे, वह सर्वशक्तिमान की छाया में ठिकाना पाएगा। 
Psalms 91:2 मैं यहोवा के विषय कहूंगा, कि वह मेरा शरणस्थान और गढ़ है; वह मेरा परमेश्वर है, मैं उस पर भरोसा रखूंगा। 
Psalms 91:3 वह तो तुझे बहेलिये के जाल से, और महामारी से बचाएगा; 
Psalms 91:4 वह तुझे अपने पंखों की आड़ में ले लेगा, और तू उसके पैरों के नीचे शरण पाएगा; उसकी सच्चाई तेरे लिये ढाल और झिलम ठहरेगी। 
Psalms 91:5 तू न रात के भय से डरेगा, और न उस तीर से जो दिन को उड़ता है, 
Psalms 91:6 न उस मरी से जो अन्धेरे में फैलती है, और न उस महारोग से जो दिन दुपहरी में उजाड़ता है।
Psalms 91:7 तेरे निकट हजार, और तेरी दाहिनी ओर दस हजार गिरेंगे; परन्तु वह तेरे पास न आएगा। 
Psalms 91:8 परन्तु तू अपनी आंखों की दृष्टि करेगा और दुष्टों के अन्त को देखेगा।
Psalms 91:9 हे यहोवा, तू मेरा शरण स्थान ठहरा है। तू ने जो परमप्रधान को अपना धाम मान लिया है, 
Psalms 91:10 इसलिये कोई विपत्ति तुझ पर न पड़ेगी, न कोई दु:ख तेरे डेरे के निकट आएगा। 

एक साल में बाइबल: 
  • अय्युब 32-33
  • प्रेरितों 14