बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, September 10, 2017

संभाल


   जब से मैंने अपने माता-पिता के साथ पारिवारिक भ्रमण पर जाना बन्द किया, मेरा अपने दादा-दादी से मिलने जाना बहुत कम हो गया, क्योंकि वे हम से सैंकड़ों मील की दूरी पर रहते थे। इस लिए एक वर्ष मैंने निश्चय किया कि मैं उनसे मिलने और उनके साथ एक लंबा सप्ताहान्त बिताने, वायुयान से यात्रा करके जाऊँगी। मेरे वापस लौटने के लिए जब हम हवाई अड्डे की ओर आ रहे थे, तो मेरी दादी ने, जिन्होंने कभी हवाई यात्रा नहीं की थी, मुझ से हवाई यात्रा से संबंधित अपने भय बाँटने आरंभ किए; उन्होंने कहा, "जिस वायुयान में तुम यात्रा कर रही हो वह तो बहुत छोटा सा है, उसे वहाँ ऊपर थामे रखने के लिए तो कुछ भी नहीं होता है, मैं तो इतनी ऊँचाई पर जाने से बहुत डरती हूँ।" उनकी ये बातें सुनते सुनते, जब तक मेरे वायुयान में बैठने का समय हुआ, मेरे अन्दर भी उनके से भय जागृत हो गए थे, और मैं भी सोचने लगी थी कि इस वायुयान को ऊपर संभाले रखने वाला ऐसा कौन है?

   हमें अपने भय से, चाहे वे उचित हों या अनुचित, घबराना नहीं चाहिए। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम पाते हैं कि दाऊद को राजा शाउल से अपनी जान बचाए रखने के लिए भगोड़े के समान जीवन व्यतीत करना पड़ा, क्योंकि शाउल उसकी प्रसिद्धि तथा लोकप्रीयता के कारण दाउद से जलन रखता था और उसे मार डालना चाहता था। ऐसे में दाऊद को सच्ची शान्ति और वास्तविक दिलासा परमेश्वर के साथ अपने संबंध में ही मिली। दाऊद ने भजन 34 में लिखा, "मैं यहोवा के पास गया, तब उसने मेरी सुन ली, और मुझे पूरी रीति से निर्भय किया" (पद 4)।

   हमारा स्वर्गीय परमेश्वर पिता, सर्वज्ञानी है और सब से प्रेम रखता है। जब भी किसी बात का भय हम पर हावी होने लगे, हमें अभिभूत करने लगे, तब हमें थोड़ा थम कर अपने स्वर्गीय पिता परमेश्वर के बारे में विचार करना चाहिए कि वह न केवल परमेश्वर है वरन हमारा प्रेमी पिता भी है जो सर्वदा हमारा भला ही चाहता है और वही हमें सदा संभाले रहता है। - सिंडी हैस कैस्पर


जब हम विश्वास करते हैं कि परमेश्वर भला है, 
तो हम अपने भय को त्यागना भी सीख लेते हैं।

क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा, तेरा दहिना हाथ पकड़कर कहूंगा, मत डर, मैं तेरी सहायता करूंगा। - यशायाह 41:13 

बाइबल पाठ: भजन 34:1-7
Psalms 34:1 मैं हर समय यहोवा को धन्य कहा करूंगा; उसकी स्तुति निरन्तर मेरे मुख से होती रहेगी। 
Psalms 34:2 मैं यहोवा पर घमण्ड करूंगा; नम्र लोग यह सुनकर आनन्दित होंगे। 
Psalms 34:3 मेरे साथ यहोवा की बड़ाई करो, और आओ हम मिलकर उसके नाम की स्तुति करें। 
Psalms 34:4 मैं यहोवा के पास गया, तब उसने मेरी सुन ली, और मुझे पूरी रीति से निर्भय किया। 
Psalms 34:5 जिन्होंने उसकी ओर दृष्टि की उन्होंने ज्योति पाई; और उनका मुंह कभी काला न होने पाया। 
Psalms 34:6 इस दीन जन ने पुकारा तब यहोवा ने सुन लिया, और उसको उसके सब कष्टों से छुड़ा लिया।। 
Psalms 34:7 यहोवा के डरवैयों के चारों ओर उसका दूत छावनी किए हुए उन को बचाता है।

एक साल में बाइबल: 
  • नीतिवचन 8-9
  • 2 कुरिन्थियों 3