बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, December 16, 2017

नाम


   एक दोपहर मैं अपने एक मित्र के साथ, जिसे मैं अपना आध्यात्मिक सलाहकार मानता हूँ, परमेश्वर के नाम को व्यर्थ लेने के बारे में चर्चा कर रहा था। परमेश्वर के वचन बाइबल में दी गई दस आज्ञाओं में से तीसरी है, "तू अपने परमेश्वर का नाम व्यर्थ न लेना; क्योंकि जो यहोवा का नाम व्यर्थ ले वह उसको निर्दोष न ठहराएगा" (निर्गमन 20:7)। हमें लगता है कि इसका अभिप्राय केवल परमेश्वर के नाम को किसी गाली के या कसम खाने के साथ जोड़ने, या उसके नाम को हल्के में या अनादर के साथ लेने से ही है। परन्तु मेरा मित्र मुझे आध्यात्मिक बातें सिखाने के अवसर को कभी जाने नहीं देता था। उसने मेरे सामने चुनौती रखी कि मैं और भी अन्य ऐसी बातें सोचूँ जिनके द्वारा हम परमेश्वर के नाम का अनादर करते हैं या उसे व्यर्थ लेते हैं।

   जब हम, हमें दिए जा रहे परामर्श का इन्कार करते हैं और अपनी बात को सही ठहराने के लिए कह देते हैं, "परमेश्वर ने मुझसे इसे ऐसे करने को कहा है" तो हम उसके नाम का दुरुप्योग करते हैं, यदि हम ऐसा केवल अपनी इच्छापूर्ति के लिए करते हैं।

   जब हम परमेश्वर के वचन को संदर्भ से बाहर ले एवं प्रयोग कर के, अपने ही विचार को सही ठहराने का प्रयास करते हैं, हम परमेश्वर के वचन को व्यर्थ लेते हैं।

   जब हम पवित्र-शास्त्र से असावधानीपूर्वक सिखाते, पढ़ाते, या प्रचार करते हैं, हम परमेश्वर के नाम को व्यर्थ लेते हैं।

   लेखक जॉन पाइपर ने परमेश्वर के नाम को व्यर्थ लेने के बारे में अपने विचार प्रस्तुत किए: "कहने का तात्पर्य है...’उसके नाम को खाली न करें’...परमेश्वर को उसकी महिमा और गौरव से रिक्त न कर दें।" पाइपर कहते हैं कि हम उसके नाम का दुरुप्योग करते हैं जब हम "परमेश्वर के विषय ऐसे बात करते हैं जिससे उसका महत्व कम हो जाता है।"

   मेरे मित्र ने मुझे उकसाया कि मैं परमेश्वर के नाम को उचित आदर दूँ और उसके वचन को सावधानीपूर्वक और ठीक-ठीक प्रयोग करने के लिए उप्युक्त ध्यान करूँ। इससे कुछ भी कम, उसके नाम का अनादर होगा। - रैंडी किलगोर


परमेश्वर का नाम: सावधानीपूर्वक प्रयोग करें।

यहोवा के नाम की ऐसी महिमा करो जो उसके योग्य है; भेंट ले कर उसके आंगनों में आओ! - भजन 96:8

बाइबल पाठ: निर्गमन 20:1-7
Exodus 20:1 तब परमेश्वर ने ये सब वचन कहे, 
Exodus 20:2 कि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा हूं, जो तुझे दासत्व के घर अर्थात मिस्र देश से निकाल लाया है।
Exodus 20:3 तू मुझे छोड़ दूसरों को ईश्वर कर के न मानना।
Exodus 20:4 तू अपने लिये कोई मूर्ति खोदकर न बनाना, न किसी कि प्रतिमा बनाना, जो आकाश में, वा पृथ्वी पर, वा पृथ्वी के जल में है। 
Exodus 20:5 तू उन को दण्डवत न करना, और न उनकी उपासना करना; क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा जलन रखने वाला ईश्वर हूं, और जो मुझ से बैर रखते है, उनके बेटों, पोतों, और परपोतों को भी पितरों का दण्ड दिया करता हूं, 
Exodus 20:6 और जो मुझ से प्रेम रखते और मेरी आज्ञाओं को मानते हैं, उन हजारों पर करूणा किया करता हूं।
Exodus 20:7 तू अपने परमेश्वर का नाम व्यर्थ न लेना; क्योंकि जो यहोवा का नाम व्यर्थ ले वह उसको निर्दोष न ठहराएगा।

एक साल में बाइबल: 
  • अमोस 4-6
  • प्रकाशितवाक्य 7