बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, February 21, 2018

दृष्टिकोण


   हमारा घर एक तराई में स्थित है, चारों ओर ऊँचे पहाड़ हैं, जिससे नीचे तराई में शीत ॠतु में बहुत ठंडा हो जाता है। पहाड़ों पर से धुंध और बादल नीचे आकर तराई में ठहर जाते हैं, सूर्य की रौशनी उनके पार नहीं आने पाती और नीचे की ठंडी हवा उन बादलों के नीचे दबी रह जाती है, जिससे तापमान बहुत कम हो जाता है, परन्तु बादलों के ऊपर सूर्य की गर्मी से तापमान उतना कम नहीं होने पाता। तराई से निकलकर ऊपर पहाड़ पर चढ़ने का एक मार्ग भी है, और कार से कुछ ही मिनिटों की यात्रा करके हम उस धुंध और ठण्ड से बच कर ऊपर की गर्मी और चमकते हुए सूर्य के आनन्द को ले सकते हैं। वहाँ ऊपर से नीचे का दृश्य बिलकुल भिन्न दिखता है।

   कभी-कभी जीवन भी इसी प्रकार होता है। परिस्थितियाँ उस धुंध के समान हमें घेर लेती हैं, और प्रतीत होता है कि कोई रोशनी, कोई गरमाहट उनके पार नहीं पहुँच पा रही है। परन्तु प्रभु परमेश्वर में हमारा विश्वास हमारे लिए वह एक मार्ग है जिसके द्वारा हम तराई से निकलकर ऊपर चढ़ सकते हैं – अपने मन “स्वर्गीय वस्तुओं की खोज में” लगा सकते हैं (कुलुस्सियों 3:1)। जब हम ऐसा करते हैं, तो प्रभु परमेश्वर हमारे लिए संभव करता है कि हम परिस्थितियों से ऊपर उठ कर आगे बढ़ने के लिए सामर्थ्य और शान्ति पाएँ। जैसे परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रेरित पौलुस ने लिखा, “...मैं ने यह सीखा है कि जिस दशा में हूं, उसी में सन्‍तोष करूं” (फिलिप्पियों 4:11)।

   विश्वास के इस मार्ग द्वारा हम अपनी परेशानी और धुँधलेपन से ऊपर चढ़ सकते हैं; कुछ समय प्रभु परमेश्वर के साथ बिता सकते हैं, उसकी शान्ति और सामर्थ्य को प्राप्त कर सकते हैं, और एक भिन्न दृष्टिकोण से जीवन और परिस्थतियों का अवलोकन तथा मूल्याँकन कर सकते हैं। - डेविड रोपर


विश्वास आपको आपके भय से ऊपर उठा सकता है।

सो जब तुम मसीह के साथ जिलाए गए, तो स्‍वर्गीय वस्‍तुओं की खोज में रहो, जहां मसीह वर्तमान है और परमेश्वर के दाहिनी ओर बैठा है। पृथ्वी पर की नहीं परन्तु स्‍वर्गीय वस्‍तुओं पर ध्यान लगाओ। - कुलुस्सियों 3:1-2

बाइबल पाठ: फिलिप्पियों 4:8-13
Philippians 4:8 निदान, हे भाइयों, जो जो बातें सत्य हैं, और जो जो बातें आदरणीय हैं, और जो जो बातें उचित हैं, और जो जो बातें पवित्र हैं, और जो जो बातें सुहावनी हैं, और जो जो बातें मनभावनी हैं, निदान, जो जो सदगुण और प्रशंसा की बातें हैं, उन्‍हीं पर ध्यान लगाया करो।
Philippians 4:9 जो बातें तुम ने मुझ से सीखीं, और ग्रहण की, और सुनी, और मुझ में देखीं, उन्‍हीं का पालन किया करो, तब परमेश्वर जो शान्‍ति का सोता है तुम्हारे साथ रहेगा।।