बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, January 15, 2018

मेल-मिलाप की सेवकाई


   1957 में एक इतवार की प्रातः जब डॉ॰ मार्टिन लूथर किंग जूनियर प्रचार कर रहे थे, तो उन्हें जातिवाद में लिप्त समाज पर पलटवार करने की मनोभावना से संघर्ष करना पड़ा। उन्होंने एलाबामा में मौनटगोमरी की डेक्स्टर एवेन्यू बैपटिस्ट मण्डली से पूछा, “आप अपने विरोधियों से प्रेम कैसे करते हैं?” उन्होंने आगे कहा, “अपने आप से आरंभ कीजिए...जब विरोधी को पराजित करने का अवसर आपके सामने आए तो वही समय होता है वैसा न करने का।”

   परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु यीशु के कहे शब्दों को अध्दत करते हुए उन्होंने कहा: “परन्तु मैं तुम से यह कहता हूं, कि अपने बैरियों से प्रेम रखो और अपने सताने वालों के लिये प्रार्थना करो। जिस से तुम अपने स्‍वर्गीय पिता की सन्तान ठहरोगे क्योंकि वह भलों और बुरों दोनों पर अपना सूर्य उदय करता है, और धर्मियों और अधर्मियों दोनों पर मेंह बरसाता है” (मत्ती 5:44-45)। जब हम अपने विरोधियों के बारे में विचार करते हैं, तब भला होगा यदि हम साथ ही इस बात को भी स्मरण करें कि एक समय हम भी परमेश्वर के विरोधी थे (देखें रोमियों 5:10); परन्तु जैसा पौलुस ने लिखा, “और सब बातें परमेश्वर की ओर से हैं, जिसने मसीह के द्वारा अपने साथ हमारा मेल-मिलाप कर लिया, और मेल-मिलाप की सेवा हमें सौंप दी है। अर्थात परमेश्वर ने मसीह में हो कर अपने साथ संसार का मेल मिलाप कर लिया, और उन के अपराधों का दोष उन पर नहीं लगाया और उसने मेल मिलाप का वचन हमें सौंप दिया है” (2 कुरिन्थियों 5:18-19)। आज हमें प्रभु यीशु में मेल-मिलाप का यह सन्देश सँसार के लोगों तक लेकर जाना है।

   जातिवाद और राजनैतिक तनाव कोई नई बात नहीं हैं। परन्तु प्रभु यीशु की मण्डली का कर्तव्य कभी भी भेद-भाव और विघटन को प्रोत्साहित करना नहीं है। जो हमारे समान नहीं हैं, जो हमसे भिन्न विचार रखते हैं, या जो हमारी हानि की इच्छा रखते हैं, हमें कभी भी उन पर कोई हमला नहीं करना है। हमारी सेवकाई तो प्रभु यीशु के निःस्वार्थ सेवा के हृदय के अनुसार मेल-मिलाप करने और करवाने की सेवकाई है। - टिम गुस्ताफ्सन


नफ़रत उसका भी नाश करती है जो नफरत करता है 
और उसका भी जिससे नफरत की जाती है। - मार्टिन लूथर किंग जूनियर

क्योंकि बैरी होने की दशा में तो उसके पुत्र की मृत्यु के द्वारा हमारा मेल परमेश्वर के साथ हुआ फिर मेल हो जाने पर उसके जीवन के कारण हम उद्धार क्यों न पाएंगे? – रोमियों 5:10

बाइबल पाठ: 2 कुरिन्थियों 5:16-21
2 Corinthians 5:16 सो अब से हम किसी को शरीर के अनुसार न समझेंगे, और यदि हम ने मसीह को भी शरीर के अनुसार जाना था, तौभी अब से उसको ऐसा नहीं जानेंगे।
2 Corinthians 5:17 सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्‍टि है: पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गईं।
2 Corinthians