बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, February 4, 2018

खज़ाना


   मेरे पति टौम और मैं पढ़ने के लिए भिन्न विधियाँ प्रयोग करते हैं। क्योंकि टौम के लिए अंग्रेज़ी प्रथम भाषा नहीं है इसलिए उनकी प्रवृत्ति है कि वे धीरे-धीरे, प्रत्येक शब्द को पढ़ते हुए आगे बढ़ें। लेकिन मैं बहुधा लेख पर सरसरी तौर से नज़रें दौड़ा कर, द्रुत गति से पढ़ लेती हूँ। परन्तु टौम को पढ़ा हुआ मुझसे अधिक स्मरण रहता है; वे बड़ी सरलता से सप्ताह भर पहले पढ़े हुए को भी अद्धृत कर देते हैं, जबकि मेरा पढ़ा हुआ, पुस्तक से ध्यान हटाने के कुछ ही सेकेंडों में गायब हो जाता है।

   ऐसे सरसरी तौर से परमेश्वर के वचन बाइबल को पढ़ना मेरे लिए समस्या होता है – और यह केवल वंशावलियों ही के लिए नहीं है। मेरी प्रवृत्ति रहती है कि मैं परिचित परिच्छेदों को, उन कहानियों को जिन्हें मैं बचपन से सुनती आई हूँ, या किसी भजन के भाग को जो अक्सर गए जाने वाले स्तुति गीतों में पाए जाते हैं, ऐसे ही सरसरी तौर से पढ़ लूँ, बस उनपर नज़र दौड़ा लूँ।

   बाइबल में नीतिवचन 2 हमें प्रोत्साहित करता है कि हम समझ-बूझ के मन के साथ परमेश्वर को और अधिक निकटता से, और गहराई से जाननें के प्रयास करें। जब हम बाइबल को ध्यानपूर्वक पढ़ते हैं, उस में समय बिताते हैं, उसे स्मरण करने के प्रयास करते हैं तब हम उसकी सच्चाईयों को बेहतर, तथा और गहराई से जानने पाते हैं (पद 1-2)। कभी-कभी वचन को ऊँची आवाज़ में पढ़ने से हम परमेश्वर की बुद्धिमता को और भरपूरी से समझने पाते हैं। और जब हम परमेश्वर के वचन को प्रार्थना में परमेश्वर के सामाने उद्धृत करते हैं, और उसके लिए परमेश्वर से समझा-बूझ माँगते हैं (पद 3), तो हम उस वचन के लेखक के साथ वार्तालाप का भी आनन्द लेने पाते हैं।

   हम परमेश्वर और उसकी बुद्धिमता को तब जानने पाते हैं जब हम उसे पूरे हृदय से खोजते हैं। जब हम परमेश्वर के वचन को चांदी और छिपे हुए खजाने के समान खोजते हैं तब हमें उसकी समझ मिलती है। - सिंडी हैस कैस्पर


बाइबल को ध्यान के साथ पढ़ें, और प्रार्थनापूर्वक उसका अध्ययन करें।

मसीह के वचन को अपने हृदय में अधिकाई से बसने दो; और सिद्ध ज्ञान सहित एक दूसरे को सिखाओ, और चिताओ, और अपने अपने मन में अनुग्रह के साथ परमेश्वर के लिये भजन और स्‍तुतिगान और आत्मिक गीत गाओ। - कुलुस्सियों 3:16

बाइबल पाठ: नीतिवचन 2:1-5
Proverbs 2:1 हे मेरे पुत्र, यदि तू मेरे वचन ग्रहण करे, और मेरी आज्ञाओं को अपने हृदय में रख छोड़े,
Proverbs 2:2 और बुद्धि की बात ध्यान से सुने, और समझ की बात मन लगा कर सोचे;
Proverbs 2:3 और प्रवीणता और समझ के लिये अति यत्न से पुकारे,
Proverbs 2:4 ओर उसको चान्दी के समान ढूंढ़े, और गुप्त धन के समान उसी खोज में लगा रहे;
Proverbs 2:5 तो तू यहोवा के भय को समझेगा, और परमेश्वर का ज्ञान तुझे प्राप्त होगा।


एक साल में बाइबल: 
  • निर्गमन 34-35
  • मत्ती 22:23-46