बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, November 17, 2020

स्पर्श

 

         भारत में सेवा करने वाले, बीसवीं सदी के मिशनरी चिकित्सक डॉक्टर पॉल ब्रैंड रोग के कारण कोढ़ियों के बिगड़े हुए हाथों और पैरों के ऑपरेशनों के द्वारा इलाज के तरीकों के लिए विश्व-विख्यात हैं। उनके जीवन की एक घटना है, जब एक कोढ़ी मनुष्य की जाँच करते समय उन्होंने उसे स्पर्श करके उसे समझाना चाहा कि उसका इलाज किया जा सकता है, तो उनके द्वारा स्पर्श करने के साथ ही वह मरीज़ रोने लग गया। वहाँ उपस्थिति एक सहायक ने डॉक्टर ब्रैंड को समझाया कि उसके रोग के कारण वर्षों से किसी ने उस कोढ़ के मरीज़ को स्पर्श नहीं किया था; डॉक्टर ब्रैंड द्वारा उसे स्पर्श किए जाने से उसकी आँखों में खुशी के आँसू थे।

         परमेश्वर के वचन बाइबल में लिखा है कि अपनी सेवकाई के आरंभिक समय में प्रभु यीशु के पास भी एक कोढ़ी मनुष्य आया – उन दिनों त्वचा के अनेकों प्रकार के संक्रामक रोगों को “कोढ़” कह दिया जाता था। उसके उस रोग के कारण, पुराने नियम की व्यवस्था के अनुसार, उसे समाज से बाहर रहना होता था। यदि उस रोगी के पास कोई स्वस्थ लोग आ जाते थे तो उसे “अशुद्ध! अशुद्ध!” चिल्ला कर उन्हें बताना होता था कि वे उससे दूरी बनाए रखें (लैव्यव्यवस्था 13:45-46)। परिणामस्वरूप व्यक्ति को महीनों या वर्षों तक अन्य मनुष्यों के संपर्क से दूर रहना होता था।

         दया और प्रेम से भरकर प्रभु यीशु ने अपना हाथ बढ़ाया और उस मनुष्य को स्पर्श किया। प्रभु यीशु के पास सामर्थ्य और अधिकार था कि केवल कहने भर से वह चंगा कर सकता था (मरकुस 2:11-12)। परन्तु, जब प्रभु यीशु के सामने ऐसा व्यक्ति आया जिसके रोग के कारण वह अकेला और तिरस्कृत कर दिया गया था, तो उसके द्वारा स्पर्श किए जाने से उस व्यक्ति को यह आश्वासन मिला कि वह अकेला नहीं है, अपितु स्वीकृत है।

         परमेश्वर जब और जैसे हमें अवसर दे, हम भी अनुग्रह दिखा सकते हैं, एक कोमल स्पर्श के द्वारा व्यक्ति के प्रति आदर और मान व्यक्त कर सकते हैं। मानवीय स्पर्श की सहज उपचार शक्ति दुखी लोगों को यह दिखाने में बहुत सहायक होती है कि प्रभु के समान, हम भी उनकी चिंता करते हैं, वे हमें स्वीकृत हैं। - लीसा सामरा

 

औरों की देखभाल करने में स्पर्श का भी बहुत महत्व है।


और उसने उस से मेरे मुंह को छूकर कहा, देख, इस ने तेरे होंठों को छू लिया है, इसलिये तेरा अधर्म दूर हो गया और तेरे पाप क्षमा हो गए। - यशायाह 6:7

बाइबल पाठ: मरकुस 1:40-45

मरकुस 1:40 और एक कोढ़ी ने उसके पास आकर, उस से बिनती की, और उसके सामने घुटने टेककर, उस से कहा; यदि तू चाहे तो मुझे शुद्ध कर सकता है।

मरकुस 1:41 उसने उस पर तरस खाकर हाथ बढ़ाया, और उसे छूकर कहा; मैं चाहता हूं तू शुद्ध हो जा।

मरकुस 1:42 और तुरन्त उसका कोढ़ जाता रहा, और वह शुद्ध हो गया।

मरकुस 1:43 तब उसने उसे चिताकर तुरन्त विदा किया।

मरकुस 1:44 और उस से कहा, देख, किसी से कुछ मत कहना, परन्तु जा कर अपने आप को याजक को दिखा, और अपने शुद्ध होने के विषय में जो कुछ मूसा ने ठहराया है उसे भेंट चढ़ा, कि उन पर गवाही हो।

मरकुस 1:45 परन्तु वह बाहर जा कर इस बात को बहुत प्रचार करने और यहां तक फैलाने लगा, कि यीशु फिर खुल्लमखुल्ला नगर में न जा सका, परन्तु बाहर जंगली स्थानों में रहा; और चारों ओर से लोग उसके पास आते रहे।

 

एक साल में बाइबल: 

  • यहेजकेल 5-7
  • इब्रानियों 12


No comments:

Post a Comment