बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, August 30, 2020

नींव

 

         अपने घर में कई वर्ष रहने के पश्चात मेरे मित्रों को पता पड़ा कि उनके घर की बैठक धीरे-धीरे धंसती जा रही है – दीवारों में दरारें आ गई थीं, और खिड़कियाँ खुल नहीं रही थीं। जाँच करने पर पता चला कि वह कमरा बाद में बनाया गया था, और उसे बिना नींव डाले ही बना दिया गया था। उस गलत और कामचलाऊ निर्माण कार्य को सुधारने के लिए लंबा समय लगा, नई नींव खोदनी और डालनी पड़ी और उसके बाद उस पर फिर से बैठक को बनाया गया। जब कार्य पूरा हो गया, तब मैं फिर से उनके घर गई, परन्तु मुझे वह बैठक पहले जैसी ही लगी, बस अब दरारें नहीं थीं, और खिड़की ठीक से खुलती और बन्द होती थी। मैं समझ गई, अच्छी नींव का होना बहुत आवश्यक है।

         यही हमारे जीवनों के लिए भी सत्य है।

         परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु यीशु ने मूर्ख और बुद्धिमान घर बनाने वालों की एक नीति-कथा सुनाई थी, उनकी बातों को न मानने की मूर्खता को समझाने के लिए (लूका 6:46-49)। वे जो उनकी बातें सुनकर उन्हें मानते हैं, उनका पालन करते हैं, वे उस बुद्धिमान व्यक्ति के समान हैं जिसने अपना घर एक दृढ़ नींव पर बनाया; और जो प्रभु की बातों को सुनकर उनकी अवहेलना कर देते हैं, वे मूर्ख व्यक्ति के समान हैं जिसने मिट्टी पर बिना नेव का घर बनाया। प्रभु यीशु ने बुद्धिमान व्यक्तियों को आश्वस्त किया कि जब उन्हें जीवन की आँधियों का सामना करना पड़ेगा, तो उनका जीवन स्थिर बना रहेगा, उनका विश्वास स्थिर रहेगा, क्योंकि वह अटल नींव पर खड़ा है।

         हम इस बात में शान्ति और आश्वासन पा सकते हैं कि जब हम प्रभु यीशु के वचनों को सुनते और उनका पालन करते हैं, तो यह हमारे जीवनों को एक दृढ़ नींव प्रदान करता है। हम बाइबल को पढ़ने, प्रार्थना करने, और अन्य मसीही विश्वासियों से शिक्षा लेने के द्वारा उसके प्रति अपने प्रेम को और बढ़ा सकते हैं, और दृढ़ कर सकते हैं। तब, जब भी विश्वास-घात, दुःख, या निराशाओं आदि की आँधियाँ हमारे विरुद्ध आएंगी, वे हमें हिला नहीं सकेंगी, क्योंकि हम दृढ़ और अटल नींव, प्रभु यीशु के वचन पर स्थापित हैं। हमारा उद्धारकर्ता प्रभु परमेश्वर हमें वह आवश्यक सहारा प्रदान करेगा। - एमी बाउचर पाई

 

प्रभु यीशु कि सुनना और उसकी बातों को मानना 

हमारे जीवनों को एक दृढ़ नींव प्रदान करता है।


क्योंकि उस नींव को छोड़ जो पड़ी है, और वह यीशु मसीह है कोई दूसरी नेव नहीं डाल सकता। - 1 कुरिन्थियों 3:11

बाइबल पाठ: लूका 6:46-49

लूका 6:46 जब तुम मेरा कहना नहीं मानते, तो क्यों मुझे हे प्रभु, हे प्रभु, कहते हो?

लूका 6:47 जो कोई मेरे पास आता है, और मेरी बातें सुनकर उन्हें मानता है, मैं तुम्हें बताता हूं कि वह किस के समान है

लूका 6:48 वह उस मनुष्य के समान है, जिसने घर बनाते समय भूमि गहरी खोदकर चट्टान की नेव डाली, और जब बाढ़ आई तो धारा उस घर पर लगी, परन्तु उसे हिला न सकी; क्योंकि वह पक्का बना था।

लूका 6:49 परन्तु जो सुनकर नहीं मानता, वह उस मनुष्य के समान है, जिसने मिट्टी पर बिना नेव का घर बनाया। जब उस पर धारा लगी, तो वह तुरन्त गिर पड़ा, और वह गिरकर सत्यानाश हो गया।

 

एक साल में बाइबल: 

  • भजन 129-131
  • 1 कुरिन्थियों 11:1-16

No comments:

Post a Comment