बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, July 12, 2020

लंगर


     क्या आप चिंता करने वाले हैं? मैं तो हूँ। मैं लगभग प्रतिदिन चिंता के साथ संघर्ष करता हूँ। मैं छोटी-छोटी बातों के लिए भी चिंता करता हूँ। कभी-कभी ऐसा लगता है जैसे मैं हर बात के लिए चिंता करता हूँ। एक बार, अपनी किशोरावस्था में, मैंने पुलिस को बुला लिया जब मेरे माता-पिता को घर लौटने में चार घंटे का विलंब हुआ।

     पवित्र शास्त्र हमें बारंबार स्मरण दिलाता है कि हम भयभीत न हों। परमेश्वर की भलाई और सामर्थ्य के कारण, क्योंकि उसने हमारे उद्धार के लिए बलिदान होने को प्रभु यीशु मसीह को भेजा, और क्योंकि उसने हमारे मार्गदर्शन के लिए अपने पवित्र आत्मा को हमें दिया है, इसलिए हमें हमारे भय को हमारे जीवनों पर राज्य नहीं करने देना चाहिए। बहुत संभव है कि हमें कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़े, परन्तु परमेश्वर ने प्रतिज्ञा की है कि वह सभी परिस्थितियों में हमारे साथ रहेगा।

     एक खण्ड जिसने भयपूर्ण समयों में मेरी बहुत सहायता की है, यशायाह 51:12-16 है। यहाँ, परमेश्वर ने अपने लोगों को, जिन्होंने बहुत सताव को झेला था, स्मरण करवाया, कि वह हमेशा उनके साथ है, और उनके साथ सदा बनी रहने वाली उसकी शान्तिदायक उपस्थिति ही वास्तविक अंतिम सच्चाई है। परिस्थितियाँ चाहे कितनी भी खराब क्यों न लगें, परमेश्वर ने अपने लोगों को यशायाह में होकर कहा, “मैं, मैं ही तेरा शांतिदाता हूँ” (पद 12)।

     मुझे यह प्रतिज्ञा बहुत पसंद है। ये शब्द मेरी आत्मा के लिए भावनाओं को स्थिर करने वाले लंगर के समान हैं। मैंने बारंबार इन शब्दों को थामा है, जब भी जीवन अभिभूत करने वाला प्रतीत हुआ है; जब भी मेरे अपने भय ने (पद 13) मुझे अभिभूत किया है। इस खण्ड के द्वारा परमेश्वर हमें स्मरण दिलाता है कि हम अपने भय पर से आँख उठा कर विश्वास तथा निर्भरता के साथ उसकी ओर देखें, वह जो आकाश का ताननेवाला है, जो हमें शान्ति देने का वायदा करता है, जो हमारे जीवन का स्थिर लंगर है। - एडम होल्ज़

 

परमेश्वर की शान्तिदायक उपस्थिति हमारे सभी भय से अधिक प्रबल है।


और उसने मुझ से कहा, मेरा अनुग्रह तेरे लिये बहुत है; क्योंकि मेरी सामर्थ्य निर्बलता में सिद्ध होती है; इसलिये मैं बड़े आनन्द से अपनी निर्बलताओं पर घमण्‍ड करूंगा, कि मसीह की सामर्थ्य मुझ पर छाया करती रहे। इस कारण मैं मसीह के लिये निर्बलताओं, और निन्‍दाओं में, और दरिद्रता में, और उपद्रवों में, और संकटों में, प्रसन्न हूं; क्योंकि जब मैं निर्बल होता हूं, तभी बलवन्‍त होता हूं। - 2 कुरिन्थियों 12:9-10

बाइबल पाठ: यशायाह 51:12-16

यशायाह 51:12 मैं, मैं ही तेरा शान्तिदाता हूं; तू कौन है जो मरने वाले मनुष्य से, और घास के समान मुर्झाने वाले आदमी से डरता है,

यशायाह 51:13 और आकाश के तानने वाले और पृथ्वी की नेव डालने वाले अपने कर्ता यहोवा को भूल गया है, और जब द्रोही नाश करने को तैयार होता है तब उसकी जलजलाहट से दिन भर लगातार थरथराता है? परन्तु द्रोही की जलजलाहट कहां रही?

यशायाह 51:14 बंधुआ शीघ्र ही स्वतन्त्र किया जाएगा; वह गड़हे में न मरेगा और न उसे रोटी की कमी होगी।

यशायाह 51:15 जो समुद्र को उथल-पुथल करता जिस से उसकी लहरों में गरजन होती है, वह मैं ही तेरा परमेश्वर यहोवा हूं मेरा नाम सेनाओं का यहोवा है। और मैं ने तेरे मुंह में अपने वचन डाले,

यशायाह 51:16 और तुझे अपने हाथ की आड़ में छिपा रखा है; कि मैं आकाश को तानूं और पृथ्वी की नेव डालूं, और सिय्योन से कहूं, तुम मेरी प्रजा हो।     

 

एक साल में बाइबल: 

  • भजन 4-6
  • प्रेरितों 17:16-34


No comments:

Post a Comment