बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, December 18, 2020

घर

 

          जब हमारे बच्चे छोटे थे, उस समय की मेरी कुछ प्रिय स्मृतियाँ हैं। उत्सव के दिनों में हम परिवार के लोगों और मित्रों के साथ एकत्रित हुआ करते थे और हम वयस्क देर रात तक बातें करते रहते थे; हमारे बच्चे खेल से थक कर किसी सोफा या कुर्सी पर सिमट कर सो जाते थे। जब घर वापस जाने का समय होता था तो मैं बच्चों को गोदी में उठाकर उन्हें कार की पिछली सीट पर लेटा देता था, और घर पहुँचने पर कार की सीट से उठाकर उन्हें उनके बिस्तरों में लेटा देता था, और उन्हें चूम कर, शुभ रात्रि बोलकर बत्ती बुझा देता था। प्रातः वे उठकर देखते थे कि वे अपने घर में पहुँच गए हैं।

          यह मेरे लिए एक बहुत सार्थक रूपक बन गया है उस समय का जब, जैसा कि परमेश्वर के वचन बाइबल में व्यक्त किया गया है, हम “प्रभु में सो जाएंगे” ( थिस्सलुनीकियों 4:14)। हमारी आँखें यहाँ इस पृथ्वी पर बन्द होंगी, और हम अपने अनन्तकाल के घर में जाग उठेंगे, जहाँ फिर कोई थकान, चिंता, दुःख, परेशानी इत्यादि नहीं होगी, जो हमारे पृथ्वी के समय पर रहती है।

          कुछ दिन पहले मेरे सामने पुराने नियम में से एक पद आया, जिसने मुझे चकित कर दिया। व्यवस्थाविवरण में मूसा के संबंध में एक अंतिम टिप्पणी के समान लिखा है,तब यहोवा के कहने के अनुसार उसका दास मूसा वहीं मोआब देश में मर गया” (34:5)। इस पद के मूल इब्रानी शब्दों का अनुवाद होता है, “मूसा की मृत्यु ... यहोवा के मुँह के साथ हुई”, जिसका अर्थ प्राचीन रब्बियों ने “परमेश्वर के चुम्बन के साथ” हुई बताया है।

          यह उसी प्रकार है जैसे मैं अपने बच्चों बिस्तर में लेटा कर चूमता था, और जब उनकी आँख खुलती थी तब वे अपने घर में होते थे। जॉन डन्न ने इसे बहुत अच्छे से व्यक्त किया है, “एक छोटी सी झपकी, और उसके बाद फिर हम अनंतकाल के लिए जाग उठेंगे” – हम अपने स्थाई, अनन्तकाल के घर में जाग उठेंगे। - डेविड एच. रोपर

 

हमारे लिए मृत्यु, समय से अनंतता में, एक करवट लेने के समान है। - विलियम पेन्न


क्योंकि यदि हम प्रतीति करते हैं, कि यीशु मरा, और जी भी उठा, तो वैसे ही परमेश्वर उन्हें भी जो यीशु में सो गए हैं, उसी के साथ ले आएगा। - 1 थिस्स्लुनीकियों 4:14

बाइबल पाठ: व्यवस्थाविवरण 34:1-8

व्यवस्थाविवरण 34:1 फिर मूसा मोआब के अराबा से नबो पहाड़ पर, जो पिसगा की एक चोटी और यरीहो के सामने है, चढ़ गया; और यहोवा ने उसको दान तक का गिलाद नाम सारा देश,

व्यवस्थाविवरण 34:2 और नप्ताली का सारा देश, और एप्रैम और मनश्शे का देश, और पच्छिम के समुद्र तक का यहूदा का सारा देश,

व्यवस्थाविवरण 34:3 और दक्खिन देश, और सोअर तक की यरीहो नाम खजूर वाले नगर की तराई, यह सब दिखाया।

व्यवस्थाविवरण 34:4 तब यहोवा ने उस से कहा, जिस देश के विषय में मैं ने इब्राहीम, इसहाक, और याकूब से शपथ खाकर कहा था, कि मैं इसे तेरे वंश को दूंगा वह यही है। मैं ने इस को तुझे साक्षात दिखला दिया है, परन्तु तू पार हो कर वहां जाने न पाएगा।

व्यवस्थाविवरण 34:5 तब यहोवा के कहने के अनुसार उसका दास मूसा वहीं मोआब देश में मर गया,

व्यवस्थाविवरण 34:6 और उसने उसे मोआब के देश में बेतपोर के सामने एक तराई में मिट्टी दी; और आज के दिन तक कोई नहीं जानता कि उसकी कब्र कहां है।

व्यवस्थाविवरण 34:7 मूसा अपनी मृत्यु के समय एक सौ बीस वर्ष का था; परन्तु न तो उसकी आंखें धुंधली पड़ीं, और न उसका पौरुष घटा था।

व्यवस्थाविवरण 34:8 और इस्राएली मोआब के अराबा में मूसा के लिये तीस दिन तक रोते रहे; तब मूसा के लिये रोने और विलाप करने के दिन पूरे हुए।

 

एक साल में बाइबल: 

  • ओबद्याह
  • प्रकाशितवाक्य 9

No comments:

Post a Comment