बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

सूचना:

ई-मेल के द्वारा ब्लोग्स के लेख प्राप्त करने की सुविधा ब्लोगर द्वारा जुलाई महीने से समाप्त कर दी जाएगी. इसलिए यदि आप ने इस ब्लॉग के लेखों को स्वचालित रीति से ई-मेल द्वारा प्राप्त करने की सुविधा में अपना ई-मेल पता डाला हुआ है, तो उसके बाद से आप इन लेखों फिर सीधे इस वेब-साईट के द्वारा ही देखने और पढ़ने पाएँगे.

Wednesday, May 5, 2021

प्रार्थना

 

          उस दिन का आरंभ किसी भी अन्य सामान्य दिन के समान ही हुआ था, परन्तु उसका अन्त बहुत भयानक हुआ। सैकड़ों अन्य लड़कियों के साथ, एस्तेर को भी उनके आवासीय स्कूल के होस्टल से धार्मिक कट्टरपंथियों के एक दल ने अगुवा कर लिया। एक महीन के बाद एस्तेर – जिसने प्रभु यीशु मसीह का इनकार करने से मना कर दिया था, के अतिरिक्त, बाकी सभी को रिहा कर दिया गया। जब मैंने और मेरे मित्रों ने इस घटना के बारे में तथा अन्य उन लोगों के बारे में पढ़ा, जो अपने मसीही विश्वास के कारण सताव का सामना कर रहे थे, तो हमारे हृदय द्रवित हुए। हम उन लोगों के लिए कुछ करना चाहते थे; परन्तु क्या?

          परमेश्वर के वचन बाइबल में कोरिन्थ के मसीही विश्वासियों को लिखी अपनी पत्री में पौलुस ने एशिया में उसे और उसके साथियों को जिन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, उनके बारे में लिखा। उनपर इतना घोर सताव आया था कि उनके प्राण भी खतरे में आ गए थे (2 कुरिन्थियों 1:8); किन्तु मसीही विश्वासियों की प्रार्थनाओं ने पौलुस और उसके साथियों की सहायता की (पद 11)। यद्यपि कोरिन्थ की मसीही मण्डली पौलुस और उसके साथियों से कई मील की दूरी पर स्थित थी, फिर भी उनकी प्रार्थनाओं का महत्व था, और परमेश्वर ने उन प्रार्थनाओं को सुना और उनका उत्तर दिया। यहाँ पर एक अद्भुत भेद की बात है – सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने अपनी योजनाओं को पूरा करने के लिए हमारी प्रार्थनाओं को माध्यम बनाया है। औरों के लिए प्रार्थना करना कितना बड़ा विशेषाधिकार है!

          हम आज अपने उन मसीही विश्वासी भाइयों और बहनों के लिए प्रार्थनाएँ कर सकते हैं जो अपने विश्वास के कारण दुःख, तकलीफों और सताव का सामना कर रहे हैं। चाहे हम उनके पास न भी हों, फिर भी प्रार्थना से हम उनके लिए कुछ कर सकते हैं। हम उन सभी के लिए प्रार्थना कर सकते हैं जो अपने मसीही विश्वास के लिए संसार के विभिन्न स्थानों में तिरस्कृत, शोषित, उत्पीड़ित और सताए हुए हैं; कई तो मार भी डाले गए हैं। हम प्रार्थना करें कि ऐसी परिस्थितियों से होकर निकलने वाले प्रभु परमेश्वर की शान्ति और प्रोत्साहन का अनुभव करें, और आशा में दृढ़ होकर खड़े रहें। हमारी प्रार्थना ऐसे लोगों के लिए सहायता हैं। - पोह फैंग चिया

 

प्रार्थना द्वारा हम परमेश्वर की सामर्थ्य को कार्यान्वित करते हैं।


जिसने अपने निज पुत्र को भी न रख छोड़ा, परन्तु उसे हम सब के लिये दे दिया: वह उसके साथ हमें और सब कुछ क्योंकर न देगा? - रोमियों 8:32

बाइबल पाठ: 2 कुरिन्थियों 1:8-11

2 कुरिन्थियों 1:8 हे भाइयों, हम नहीं चाहते कि तुम हमारे उस क्लेश से अनजान रहो, जो आसिया में हम पर पड़ा, कि ऐसे भारी बोझ से दब गए थे, जो हमारी सामर्थ्य से बाहर था, यहां तक कि हम जीवन से भी हाथ धो बैठे थे।

2 कुरिन्थियों 1:9 वरन हम ने अपने मन में समझ लिया था, कि हम पर मृत्यु की आज्ञा हो चुकी है कि हम अपना भरोसा न रखें, वरन परमेश्वर का जो मरे हुओं को जिलाता है।

2 कुरिन्थियों 1:10 उसी ने हमें ऐसी बड़ी मृत्यु से बचाया, और बचाएगा; और उस से हमारी यह आशा है, कि वह आगे को भी बचाता रहेगा।

2 कुरिन्थियों 1:11 और तुम भी मिलकर प्रार्थना के द्वारा हमारी सहायता करोगे, कि जो वरदान बहुतों के द्वारा हमें मिला, उसके कारण बहुत लोग हमारी ओर से धन्यवाद करें।

 

एक साल में बाइबल: 

  • 1 राजाओं 19-20
  • लूका 23:1-25

No comments:

Post a Comment