बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, January 12, 2021

करो

 

          स्कूल जाने के लिए मेरी बेटी समय से कुछ पहले ही तैयार हो गई, इसलिए उसने सुझाया कि हम रास्ते में पड़ने वाली कॉफ़ी की दुकान पर रुकते हुए जाएंगे; मैंने मान लिया। जब हम उस दुकान पर पहुँचे, तो मैंने उससे पूछा कि क्या हम थोड़ी सी खुशी भी बाँट दें, और उसने मान लिया। हमने कॉफ़ी का अपना ऑर्डर दिया, और भुगतान करने वाली पंक्ति में पैसे लेने वाली महिला से कहा कि हमारे पीछे वाली महिला की कॉफ़ी के ऑर्डर का भुगतान भी हम ही से ले ले। मेरी बेटी के चेहरे पर एक बड़ी सी मुस्कान थी।

          जीवन की बड़ी-बड़ी बातों में एक कप कॉफ़ी की कीमत कोई विशेष बात नहीं है; या फिर है? मैं सोचता हूँ कि क्या यह परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु यीशु द्वारा औरों के लिए करने की कही गई बात को निभाने का एक तरीका हो सकता है? इससे जुड़ा एक विचार आपके सामने रखता हूँ, चुकाने के लिए किसी पंक्ति में खड़े हुए अपने से अगले या पिछले व्यक्ति के लिए कुछ सहायता कर देने की बात आपको कैसी लगती है? चाहे वह एक कप कॉफ़ी हो या कुछ और अधिक, अथवा उससे भी कम। प्रभु ने जब औरों के लिए करने को कहा है, तो उसने हमें दूसरों की सहायता करने की मात्रा की स्वतंत्रता भी  दे दी है।

          जब मैं और मेरी बेटी, उस कॉफ़ी की दुकान से बाहर जा रहे थे तो हमने हमारे पीछे खड़ी उस महिला और भुगतान लेने वाली महिला के चेहरों को देखा – उन दोनों ही के चेहरों पर एक बड़ी से मुस्कान थी। - जॉन ब्लेज़

 

जब हम लोगों के लिए करते हैं, हम प्रभु के लिए करते हैं।


जो कोई इन छोटों में से एक को चेला जानकर केवल एक कटोरा ठंडा पानी पिलाए, मैं तुम से सच कहता हूं, वह किसी रीति से अपना प्रतिफल न खोएगा। - मत्ती 10:42

बाइबल पाठ: मत्ती 25:37-40

मत्ती 25:37 तब धर्मी उसको उत्तर देंगे कि हे प्रभु, हम ने कब तुझे भूखा देखा और खिलाया? या प्यासा देखा, और पिलाया?

मत्ती 25:38 हम ने कब तुझे परदेशी देखा और अपने घर में ठहराया या नंगा देखा, और कपड़े पहनाए?

मत्ती 25:39 हम ने कब तुझे बीमार या बन्‍दीगृह में देखा और तुझ से मिलने आए?

मत्ती 25:40 तब राजा उन्हें उत्तर देगा; मैं तुम से सच कहता हूं, कि तुम ने जो मेरे इन छोटे से छोटे भाइयों में से किसी एक के साथ किया, वह मेरे ही साथ किया।

 

एक साल में बाइबल: 

  • उत्पत्ति 29-30
  • मत्ती 9:1-17

No comments:

Post a Comment