Saturday, July 13, 2019

जानता



      सृष्टि की भव्यता आश्चर्यजनक है। इस समय चन्द्रमा हमारे चारों ओर 23,00 मील प्रति घंटे की गति से घूम रहा है। हमारी पृथ्वी, सूर्य के चारों ओर 66,000 मील प्रति घंटे की गति से घूम रही है। हमारा सूर्य, हमारी आकाशगंगा के खरबों तारा समूहों और नक्षत्रों में से एक है। और हमारी आकाशगंगा अंतरिक्ष में फ़ैली अरबों आकाशगंगाओं में से एक है।

      इस विशाल विस्तृत सृष्टि में हमारी पृथ्वी एक छोटे से कंकड़ के समान है, और हमारा अपना अस्तित्व रेत के एक कण के समान है। किन्तु फिर भी, परमेश्वर के वचन बाइबल के अनुसार, इस विशाल अद्भुत सृष्टि का सृष्टिकर्ता परमेश्वर हम में से प्रत्येक पर निकटता से ध्यान रखता है, और हमारे बारे में सब कुछ जानता है। उसने हमें तब भी देखा था जब पृथ्वी पर हमारा अस्तित्व भी नहीं था (भजन 139:13-16)। वह हमारे प्रत्येक विचार और वार्तालाप को जानता है और हमारे दैनिक जीवन की कोई भी बात उससे छुपी हुई नहीं रहती है (पद 1-6)।

      कभी-कभी इस पर विश्वास करना कठिन होता है। इस छोटे से ‘कंकड़’ पर अनेकों बड़ी समस्याएँ, जैसे कि युद्ध और अकाल, होती रहती हैं; और अपने व्यक्तिगत कठिनाईयों के समयों में हम परमेश्वर की देखभाल पर प्रश्न उठा सकते हैं। परन्तु जब राजा दाऊद ने भजन 139 लिखा था, वह स्वयँ भी कठिनाईयों में से होकर निकल रहा था (पद 19-20)। और जब प्रभु यीशु ने कहा कि परमेश्वर हमारे सिर के बालों का भी हिसाब रखता है (मत्ती 10:30), तब वह क्रूस पर चढ़ाए जाने के समय में रह रहा था। बाइबल में उल्लेखित हमारे प्रति परमेश्वर की देखभाल और ध्यान रखने की बात कोई व्यर्थ अभिलाषा मात्र नहीं है; यह एक वास्तविकता है।

      वह परमेश्वर जो इन अनगिनित नक्षत्रों और तारा समूहों तथा तारागणों को संचालित करता है, हमें भी निकटता से जानता है, हमारी प्रत्येक बात का ध्यान रखता है, हमारी हर एक जानकारी रखता है; और यह हमें आश्वस्त करता है। - शेरिडन वोयसी


सृष्टि का परमेश्वर हमें निकटता से जानता है और हमारा ध्यान रखता है।

और हम जानते हैं, कि जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती है; अर्थात उन्हीं के लिये जो उस की इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं। - रोमियों 8:28

बाइबल पाठ: भजन 139:1-18
Psalms 139:1 हे यहोवा, तू ने मुझे जांच कर जान लिया है।
Psalms 139:2 तू मेरा उठना बैठना जानता है; और मेरे विचारों को दूर ही से समझ लेता है।
Psalms 139:3 मेरे चलने और लेटने की तू भली भांति छानबीन करता है, और मेरी पूरी चालचलन का भेद जानता है।
Psalms 139:4 हे यहोवा, मेरे मुंह में ऐसी कोई बात नहीं जिसे तू पूरी रीति से न जानता हो।
Psalms 139:5 तू ने मुझे आगे पीछे घेर रखा है, और अपना हाथ मुझ पर रखे रहता है।
Psalms 139:6 यह ज्ञान मेरे लिये बहुत कठिन है; यह गम्भीर और मेरी समझ से बाहर है।
Psalms 139:7 मैं तेरे आत्मा से भाग कर किधर जाऊं? वा तेरे साम्हने से किधर भागूं?
Psalms 139:8 यदि मैं आकाश पर चढूं, तो तू वहां है! यदि मैं अपना बिछौना अधोलोक में बिछाऊं तो वहां भी तू है!
Psalms 139:9 यदि मैं भोर की किरणों पर चढ़ कर समुद्र के पार जा बसूं,
Psalms 139:10 तो वहां भी तू अपने हाथ से मेरी अगुवाई करेगा, और अपने दाहिने हाथ से मुझे पकड़े रहेगा।
Psalms 139:11 यदि मैं कहूं कि अन्धकार में तो मैं छिप जाऊंगा, और मेरे चारों ओर का उजियाला रात का अन्धेरा हो जाएगा,
Psalms 139:12 तौभी अन्धकार तुझ से न छिपाएगा, रात तो दिन के तुल्य प्रकाश देगी; क्योंकि तेरे लिये अन्धियारा और उजियाला दोनों एक समान हैं।
Psalms 139:13 मेरे मन का स्वामी तो तू है; तू ने मुझे माता के गर्भ में रचा।
Psalms 139:14 मैं तेरा धन्यवाद करूंगा, इसलिये कि मैं भयानक और अद्भुत रीति से रचा गया हूं। तेरे काम तो आश्चर्य के हैं, और मैं इसे भली भांति जानता हूं।
Psalms 139:15 जब मैं गुप्त में बनाया जाता, और पृथ्वी के नीचे स्थानों में रचा जाता था, तब मेरी हडि्डयां तुझ से छिपी न थीं।
Psalms 139:16 तेरी आंखों ने मेरे बेडौल तत्व को देखा; और मेरे सब अंग जो दिन दिन बनते जाते थे वे रचे जाने से पहिले तेरी पुस्तक में लिखे हुए थे।
Psalms 139:17 और मेरे लिये तो हे ईश्वर, तेरे विचार क्या ही बहुमूल्य हैं! उनकी संख्या का जोड़ कैसा बड़ा है।
Psalms 139:18 यदि मैं उन को गिनता तो वे बालू के किनकों से भी अधिक ठहरते। जब मैं जाग उठता हूं, तब भी तेरे संग रहता हूं।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 7-9
  • प्रेरितों 18