Friday, June 25, 2021

मन


          सन 1497 के फरवरी माह में गिरोलामो सवोनारोला नामक एक भिक्षु ने एक आग जलाई। यह करने के समय तक पहुंचने से पहले, उसने तथा उसके अनुयायियों ने कई महीने लोगों के पास से ऐसी वस्तुओं को एकत्रित करने में बिताए जिन्हें वे व्यर्थ समझते थे और उन्हें लगता था कि उन वस्तुओं के कारण लोग पाप करने या अपने धार्मिक दायित्वों का निर्वाह नहीं करने की ओर आकर्षित होंगे। इन वस्तुओं में कलाकृतियाँ, सौन्दर्य-प्रसाधन, उपकरण, और वस्त्र भी थे। नियुक्त दिन पर इटली के फ्लोरेंस शहर के एक चौक में हज़ारों ऐसी वस्तुएँ एकत्रित की गईं, और उनमें आग लगा दी गई। इस घटना को व्यर्थता की उत्सव-अग्नि (Bonfire of the Vanities) कहा जाता है।

          हो सकता है कि अपने इस अति के कार्य के लिए सवोनारोला ने परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु यीशु मसीह द्वारा दिए गए पहाड़ी उपदेश के कुछ भागों से प्रेरणा पाई हो – उन से जिनमें प्रभु यीशु मसीह ने कुछ अनपेक्षित और कठोर बातें कहीं, यदि तेरी दाहिनी आंख तुझे ठोकर खिलाए, तो उसे निकाल कर अपने पास से फेंक दे; क्योंकि तेरे लिये यही भला है कि तेरे अंगों में से एक नाश हो जाए और तेरा सारा शरीर नरक में न डाला जाए। और यदि तेरा दाहिना हाथ तुझे ठोकर खिलाए, तो उसको काटकर अपने पास से फेंक दे, क्योंकि तेरे लिये यही भला है, कि तेरे अंगों में से एक नाश हो जाए और तेरा सारा शरीर नरक में न डाला जाए” (मत्ती 5:29-30)। किन्तु यदि हम यहाँ पर प्रभु द्वारा कही गई बात को उसके शब्दार्थ में लेते हैं, तो हम प्रभु द्वारा दी जा रही शिक्षा के उद्देश्य को ही समझने में गलती कर रहे हैं। प्रभु द्वारा दिया गया यह संपूर्ण सन्देश इस बात को सिखाता है कि केवल बाहरी स्वरूप मात्र तक ही सीमित न रहें, वरन अपने मन के गहराइयों के अन्दर जाकर अपने आप को जांचें और सुधारें; केवल बाहरी परिस्थितियों और लोगों के व्यवहार को दोषी न ठहराएं, अपनी भावनाओं और लालसाओं का भी आंकलन करें, और उन्हें भी सुधारें।

          उस व्यर्थता की उत्सव-अग्नि ने अनेकों वस्तुओं को जलाने के द्वारा सवोनारोला ने एक बहुत बड़ा तमाशा तो दिखा दिया, लेकिन जो लोग उसमें संलग्न थे, और जिनके सामान जलाए गए थे, इस सारी प्रक्रिया से उनके मनों में कोई वास्तविक परिवर्तन आया, इस पर बहुत संदेह है।

          पापों के लिए किए गए पश्चाताप और प्रभु यीशु में लाए गए विश्वास के द्वारा केवल परमेश्वर ही मन को बदल सकता है। इसीलिए भजनकार ने परमेश्वर से उसके अन्दर एक स्वच्छ मन उत्पन्न करने की प्रार्थना की। - रेमी ओयेडेली

 

हे प्रभु मेरे अन्दर सच्चे पश्चाताप के साथ आपको पूर्ण समर्पण करने वाला स्वच्छ मन उत्पन्न करें।


हे परमेश्वर, मेरे अन्दर शुद्ध मन उत्पन्न कर, और मेरे भीतर स्थिर आत्मा नये सिरे से उत्पन्न कर। - भजन संहिता 51:10

बाइबल पाठ: मत्ती 5:21-30

मत्ती 5:21 तुम सुन चुके हो, कि पूर्वकाल के लोगों से कहा गया था कि हत्या न करना, और जो कोई हत्या करेगा वह कचहरी में दण्ड के योग्य होगा।

मत्ती 5:22 परन्तु मैं तुम से यह कहता हूं, कि जो कोई अपने भाई पर क्रोध करेगा, वह कचहरी में दण्ड के योग्य होगा: और जो कोई अपने भाई को निकम्मा कहेगा वह महासभा में दण्ड के योग्य होगा; और जो कोई कहे “अरे मूर्ख” वह नरक की आग के दण्ड के योग्य होगा।

मत्ती 5:23 इसलिये यदि तू अपनी भेंट वेदी पर लाए, और वहां तू स्मरण करे, कि मेरे भाई के मन में मेरी ओर से कुछ विरोध है, तो अपनी भेंट वहीं वेदी के सामने छोड़ दे।

मत्ती 5:24 और जा कर पहिले अपने भाई से मेल मिलाप कर; तब आकर अपनी भेंट चढ़ा।

मत्ती 5:25 जब तक तू अपने मुद्दई के साथ मार्ग ही में हैं, उस से झटपट मेल मिलाप कर ले कहीं ऐसा न हो कि मुद्दई तुझे हाकिम को सौंपे, और हाकिम तुझे सिपाही को सौंप दे और तू बन्‍दीगृह में डाल दिया जाए।

मत्ती 5:26 मैं तुम से सच कहता हूं कि जब तक तू कौड़ी कौड़ी भर न दे तब तक वहां से छूटने न पाएगा।

मत्ती 5:27 तुम सुन चुके हो कि कहा गया था, कि व्यभिचार न करना।

मत्ती 5:28 परन्तु मैं तुम से यह कहता हूं, कि जो कोई किसी स्त्री पर कुदृष्टि डाले वह अपने मन में उस से व्यभिचार कर चुका।

मत्ती 5:29 यदि तेरी दाहिनी आंख तुझे ठोकर खिलाए, तो उसे निकाल कर अपने पास से फेंक दे; क्योंकि तेरे लिये यही भला है कि तेरे अंगों में से एक नाश हो जाए और तेरा सारा शरीर नरक में न डाला जाए।

मत्ती 5:30 और यदि तेरा दाहिना हाथ तुझे ठोकर खिलाए, तो उसको काटकर अपने पास से फेंक दे, क्योंकि तेरे लिये यही भला है, कि तेरे अंगों में से एक नाश हो जाए और तेरा सारा शरीर नरक में न डाला जाए।

 

एक साल में बाइबल: 

  • अय्यूब 3-4
  • प्रेरितों 7:44-60