Wednesday, February 6, 2019

चरित्र और भरोसा



      एक साक्षात्कार में, गायिका और गीत लेखिका मेरिडिथ एन्ड्रयूस ने बताया कि कभी-कभी वह परमेश्वर के प्रचार कार्यों, अपनी रचनात्मक गतिविधियों, पारिवारिक परिस्थितियों और समस्याओं, और मातृत्व की जिम्मेदारियों में तालमेल बैठाने के प्रयासों में अभिभूतित अनुभव करती हैं। अपनी इस कठिनाई पर विचार करके बोलते हुए उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि परमेश्वर मुझे एक स्वच्छ और शुद्ध करने वाली प्रक्रिया से होकर ले चल रहा है, जिसमें अन्दर से व्यर्थ को बाहर निकालने के लिए कुचल दिया जाना भी सम्मिलित है।”

      परमेश्वर के वचन बाइबल का एक पात्र, अय्यूब, अचानक ही अपने सम्पूर्ण परिवार, स्वास्थ्य और संपदा की हानि उठने के बाद अभुभूतित था। इससे भी बुरी बात यह थी कि यद्यपि अय्यूब परमेश्वर की नियमित उपासना और आराधना करने वाला व्यक्ति था, उसे लगा कि इस कठिन समय में परमेश्वर उसकी सहायता की पुकार को अनसुनी कर रहा है। उसके जीवन के परिदृश्य से उसे परमेश्वर अनुपस्थित दिखाई दे रहा था। अय्यूब ने दावा किया कि वह चाहे किसी भी दिशा में देखे, उसे परमेश्वर कहीं दिखाई नहीं दे रहा था (अय्यूब 23:2-9)।

      इस घोर निराशा में, अय्यूब को स्पष्टता का एक पल भी मिला। एक अँधेरे कमरे में जलती मोमबत्ती के समान, उसका विश्वास टिमटिमाया; उसने कहा, “परन्तु वह [परमेश्वर]जानता है, कि मैं कैसी चाल चला हूँ; और जब वह मुझे ता लेगा तब मैं सोने के समान निकलूंगा” (पद 10)। परमेश्वर हम मसीहियों को परखने के द्वारा शुद्ध और निर्मल करता है; कठिनाइयों और विपरीत परिस्थितियों के द्वारा परमेश्वर हमारे आत्मनिर्भर होने, घमण्ड, और सांसारिक बुद्धिमत्ता को निकाल बाहर करता है। यदि ऐसा लगे कि इस प्रक्रिया से निकलते समय वह सहायता के लिए हमारी पुकार का कोई उत्तर नहीं दे रहा है, तो वह इसलिए हो सकता है कि वह हमें विश्वास में दृढ़ और परिपक्व होने का अवसर प्रदान कर रहा है, हमें हमारी अपनी क्षमता और सामर्थ्य पर निर्भर होने की व्यर्थता का आभास करवा रहा है।

      दुखों और समस्याओं से रगड़े जा कर हम एक ऐसे चमकते हुए चरित्र के साथ विकसित होते है जो परमेश्वर पर हर परिस्थिति में हर बात के लिए भरोसा बनाए रखता है। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


विश्वास को परखने वाले समय विश्वास को दृढ़ करने के माध्यम भी हो सकते हैं।

क्योंकि हे परमेश्वर तू ने हम को जांचा; तू ने हमें चान्दी के समान ताया था। - भजन 66:10

बाइबल पाठ: अय्यूब 23:1-12
Job 23:1 तब अय्यूब ने कहा,
Job 23:2 मेरी कुड़कुड़ाहट अब भी नहीं रुक सकती, मेरी मार मेरे कराहने से भारी है।
Job 23:3 भला होता, कि मैं जानता कि वह कहां मिल सकता है, तब मैं उसके विराजने के स्थान तक जा सकता!
Job 23:4 मैं उसके साम्हने अपना मुक़द्दमा पेश करता, और बहुत से प्रमाण देता।
Job 23:5 मैं जान लेता कि वह मुझ से उत्तर में क्या कह सकता है, और जो कुछ वह मुझ से कहता वह मैं समझ लेता।
Job 23:6 क्या वह अपना बड़ा बल दिखा कर मुझ से मुक़द्दमा लड़ता? नहीं, वह मुझ पर ध्यान देता।
Job 23:7 सज्जन उस से विवाद कर सकते, और इस रीति मैं अपने न्यायी के हाथ से सदा के लिये छूट जाता।
Job 23:8 देखो, मैं आगे जाता हूँ परन्तु वह नहीं मिलता; मैं पीछे हटता हूँ, परन्तु वह दिखाई नहीं पड़ता;
Job 23:9 जब वह बाईं ओर काम करता है तब वह मुझे दिखाई नहीं देता; वह तो दाहिनी ओर ऐसा छिप जाता है, कि मुझे वह दिखाई ही नहीं पड़ता।
Job 23:10 परन्तु वह जानता है, कि मैं कैसी चाल चला हूँ; और जब वह मुझे ता लेगा तब मैं सोने के समान निकलूंगा।
Job 23:11 मेरे पैर उसके मार्गों में स्थिर रहे; और मैं उसी का मार्ग बिना मुड़े थामे रहा।
Job 23:12 उसकी आज्ञा का पालन करने से मैं न हटा, और मैं ने उसके वचन अपनी इच्छा से कहीं अधिक काम के जान कर सुरक्षित रखे।
                                                                                                                                                        
एक साल में बाइबल: 
  • निर्गमन 39-40
  • मत्ती 23:23-39