Sunday, January 13, 2019

भरोसा



      हमारा बेटा सात वर्ष तक नशीले पदार्थों के सेवन की लत से जूझता रहा, और उस समय के दौरान मैंने तथा मेरी पत्नि ने कई प्रकार की कठिनाईयों का सामना किया। उसके इस लत से छूटने और स्वस्थ होने की प्रतीक्षा करते हुए हमने छोटी-छोटी विजयों के लिए आनदित होना सीखा। यदि चौबीस-घंटे के समय में कुछ बुरा नहीं होता था, तो हम एक-दूसरे से “आज दिन अच्छा रहा” कहकर आनन्दित होते थे। यह छोटा सा वाक्य हमारे लिए परमेश्वर के प्रति छोटी-से-छोटी बात के लिए धन्यवादी रहने का स्मरण बन गया।

      परमेश्वर के वचन बाइबल में भजन 126:3 में परमेश्वर की कोमल कृपा का एक और भी उत्तम स्मरण-वाक्य मिलता है, जो यह भी ध्यान दिलाता है कि परमेश्वर की करुणा का हमारे लिए अर्थ क्या है: “यहोवा ने हमारे साथ बड़े बड़े काम किए हैं; और इस से हम आनन्दित हैं” यह कितना अच्छा पद है सदा स्मरण रखने के लिए कि प्रभु यीशु ने अपने प्रेम और अनुग्रह में होकर क्रूस पर हमारे तथा सँसार के प्रत्येक जन के लिए क्या किया है। किसी भी दिन की कठिनाईयां इस तथ्य को बदल नहीं सकती हैं कि चाहे कुछ हो जाए, हमारे प्रभु ने अथाह दयालुता दिखाई है, और हमारे प्रति उसका प्रेम सदा बना रहता है।

      हम जब कठिन समयों से निकलकर आते हैं और ध्यान करते हैं कि परमेश्वर हमारे प्रति विश्वासयोग्य बना रहा है, तो यह हमें उस अगले अनुभव के लिए तैयार करता है जब जीवन की परिस्थतियां फिर से कठिन हो सकती हैं। हम चाहे यह नहीं जानने या समझने पाएँ कि प्रभु परमेश्वर उन कठिन परिस्थितियों में से हमें कैसे सुरक्षित निकाल ले जाएगा, परन्तु बीते समय की उसकी कृपा और अनुग्रह हमें आश्वस्त करता है कि आगे भी ऐसा ही होगा – हम उसपर हर बात के लिए सदा भरोसा रख सकते हैं। - जेम्स बैंक्स


हम चाहे परमेश्वर के हाथ को देखने ना पाएँ, 
किन्तु हम उसके हृदय पर भरोसा रख सकते हैं।

यहोवा का धन्यवाद करो, क्योंकि वह भला है, और उसकी करूणा सदा की है। - भजन 136:1

बाइबल पाठ: भजन 126
Psalms 126:1 जब यहोवा सिय्योन से लौटने वालों को लौटा ले आया, तब हम स्वप्न देखने वाले से हो गए।
Psalms 126:2 तब हम आनन्द से हंसने और जयजयकार करने लगे; तब जाति जाति के बीच में कहा जाता था, कि यहोवा ने, इनके साथ बड़े बड़े काम किए हैं।
Psalms 126:3 यहोवा ने हमारे साथ बड़े बड़े काम किए हैं; और इस से हम आनन्दित हैं।
Psalms 126:4 हे यहोवा, दक्खिन देश के नालों के समान, हमारे बन्धुओं को लौटा ले आ!
Psalms 126:5 जो आंसू बहाते हुए बोते हैं, वे जयजयकार करते हुए लवने पाएंगे।
Psalms 126:6 चाहे बोने वाला बीज ले कर रोता हुआ चला जाए, परन्तु वह फिर पूलियां लिये जयजयकार करता हुआ निश्चय लौट आएगा।
                                                                                                                                                        
एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति 31-32
  • मत्ती 9:18-38