बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, May 13, 2016

नया जन्म


   नवजात शिशुओं में ऐसा क्या होता है जो हमारे चेहरों पर मुस्कुराहट ले आता है? शिशु को देखने या सुनने पर अनेक लोग, वह सब कुछ जो वे कर रहे हैं छोड़कर, उस बच्चे को निहारने के लिए आ जाते हैं। मेरा ध्यान इस बात पर तब गया जब मैं अपने पिताजी से मिलने एक नर्सिंग होम में गया। यदयपि उस नर्सिंग होम में भरती अधिकांश लोग पहिए वाली कुर्सी के सहारे ही इधर-उधर आ जा सकते थे, तथा उनमें से अनेकों की याद्दाशत बहुत कमज़ोर हो गई थी, लेकिन शिशु को साथ लेकर आए किसी परिवार को देखते ही उनकी आँखों में एक चमक आ जाती थी, और फिर एक मुस्कान भी उनके चेहरे पर दिखने लगती थी। उन लोगों के हाव-भाव में यह परिवर्तन होते देखना अद्भुत था।

   संभवतः शिशुओं द्वारा आने वाली मुस्कान का कारण है नए जीवन का अचरज - जीवन जो छोटा सा किंतु इतना बहुमूल्य, इतनी आशा से भरा हुआ। एक शिशु को देखकर हम अपने महान परमेश्वर को तथा हमारे प्रति उसके अद्भुत प्रेम को स्मरण कर सकते हैं। उसने हम से इतना प्रेम किया, हमें जीवन दिया, हमें स्वरूप दिया, हमारी माँ के गर्भ में हमारी रचना करी, जैसा कि परमेश्वर के वचन बाइबल में भजनकार कहता है: "मेरे मन का स्वामी तो तू है; तू ने मुझे माता के गर्भ में रचा" (भजन 139:13)।

   परमेश्वर ना केवल हमें शारीरिक जीवन देता है वरन हमें एक नया आत्मिक जीवन भी देता है, जब हम प्रभु यीशु पर विश्वास लाते हैं (यूहन्ना 3:3-8); और सभी मसीही विश्वासियों से परमेश्वर का वायदा है कि प्रभु यीशु के लौटने पर हमें नए अविनाशी शरीर और अनन्त अविनाशी जीवन भी मिलगा (1 कुरिन्थियों 15:50-52)।

   वर्तमान का शारीरिक जीवन, आत्मिक नया जन्म और आने वाले समय में नए अविनाशी शरीर - हमारे स्वर्गीय परमेश्वर पिता से मिलने वाले उपहार, जिनकी बहुमूल्यता हमें समझनी चाहिए, जिनके लिए हमें उसका आभारी होना चाहिए, उसकी आराधना करनी चाहिए। - एलिसन कीडा (Our Daily Bread स्टाफ संपादक)


तब परमेश्वर ने मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार उत्पन्न किया, 
अपने ही स्वरूप के अनुसार परमेश्वर ने उसको उत्पन्न किया, 
नर और नारी कर के उसने मनुष्यों की सृष्टि की। - उत्पत्ति 1:27

हे भाइयों, मैं यह कहता हूं कि मांस और लोहू परमेश्वर के राज्य के अधिकारी नहीं हो सकते, और न विनाश अविनाशी का अधिकारी हो सकता है। देखे, मैं तुम से भेद की बात कहता हूं: कि हम सब तो नहीं सोएंगे, परन्तु सब बदल जाएंगे। और यह क्षण भर में, पलक मारते ही पिछली तुरही फूंकते ही होगा: क्योंकि तुरही फूंकी जाएगी और मुर्दे अविनाशी दशा में उठाए जांएगे, और हम बदल जाएंगे। - 1 कुरिन्थियों 15:50-52

बाइबल पाठ: भजन 139:7-16; यूहन्ना 3:3-8
Psalms 139:7 मैं तेरे आत्मा से भाग कर किधर जाऊं? वा तेरे साम्हने से किधर भागूं? 
Psalms 139:8 यदि मैं आकाश पर चढूं, तो तू वहां है! यदि मैं अपना बिछौना अधोलोक में बिछाऊं तो वहां भी तू है! 
Psalms 139:9 यदि मैं भोर की किरणों पर चढ़ कर समुद्र के पार जा बसूं, 
Psalms 139:10 तो वहां भी तू अपने हाथ से मेरी अगुवाई करेगा, और अपने दाहिने हाथ से मुझे पकड़े रहेगा। 
Psalms 139:11 यदि मैं कहूं कि अन्धकार में तो मैं छिप जाऊंगा, और मेरे चारों ओर का उजियाला रात का अन्धेरा हो जाएगा, 
Psalms 139:12 तौभी अन्धकार तुझ से न छिपाएगा, रात तो दिन के तुल्य प्रकाश देगी; क्योंकि तेरे लिये अन्धियारा और उजियाला दोनों एक समान हैं।
Psalms 139:13 मेरे मन का स्वामी तो तू है; तू ने मुझे माता के गर्भ में रचा। 
Psalms 139:14 मैं तेरा धन्यवाद करूंगा, इसलिये कि मैं भयानक और अद्भुत रीति से रचा गया हूं। तेरे काम तो आश्चर्य के हैं, और मैं इसे भली भांति जानता हूं। 
Psalms 139:15 जब मैं गुप्त में बनाया जाता, और पृथ्वी के नीचे स्थानों में रचा जाता था, तब मेरी हडि्डयां तुझ से छिपी न थीं। 
Psalms 139:16 तेरी आंखों ने मेरे बेडौल तत्व को देखा; और मेरे सब अंग जो दिन दिन बनते जाते थे वे रचे जाने से पहिले तेरी पुस्तक में लिखे हुए थे।

John 3:3 यीशु ने उसको उत्तर दिया; कि मैं तुझ से सच सच कहता हूं, यदि कोई नये सिरे से न जन्मे तो परमेश्वर का राज्य देख नहीं सकता। 
John 3:4 नीकुदेमुस ने उस से कहा, मनुष्य जब बूढ़ा हो गया, तो क्योंकर जन्म ले सकता है? क्या वह अपनी माता के गर्भ में दुसरी बार प्रवेश कर के जन्म ले सकता है? 
John 3:5 यीशु ने उत्तर दिया, कि मैं तुझ से सच सच कहता हूं; जब तक कोई मनुष्य जल और आत्मा से न जन्मे तो वह परमेश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता। 
John 3:6 क्योंकि जो शरीर से जन्मा है, वह शरीर है; और जो आत्मा से जन्मा है, वह आत्मा है। 
John 3:7 अचम्भा न कर, कि मैं ने तुझ से कहा; कि तुम्हें नये सिरे से जन्म लेना अवश्य है। 
John 3:8 हवा जिधर चाहती है उधर चलती है, और तू उसका शब्द सुनता है, परन्तु नहीं जानता, कि वह कहां से आती और किधर को जाती है? जो कोई आत्मा से जन्मा है वह ऐसा ही है। 

एक साल में बाइबल: 
  • 2 राजा 17-18
  • यूहन्ना 3:19-36