बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, January 12, 2012

पूरे कार्य

   बचपन में मैं कराटे में उच्च प्रशिक्षण प्राप्त कर ब्लैक बेल्ट पाना चाहता था। कई वर्ष पहले मैंने कराटे का प्रशिक्षण लेना आरंभ भी किया, और अपने लक्ष्य के निकट भी आ गया, किंतु अपने लक्ष्य से दो स्तर पूर्व ही मैंने अपना प्रशिक्षण छोड़ दिया। छोड़ने के दो कारण थे - मेरे प्रशिक्षक ने प्रशिक्षण की शैली मेरे मध्य प्रशिक्षण में बदल दी, तथा मैं कुछ अन्य बातों में व्यस्त हो गया और अपने प्रशिक्षण को उचित समय नहीं दे पाया।

   अब लगभग हर सप्ताह मुझे यह बात परेशान करती है कि परमेश्वर चाहता है कि मैं अपने जीवन के हर क्षेत्र में, अपने कार्यों को पूरा करने वाला बनूँ, ना कि अधूरा छोड़ देने वाला - विशेषकर उन क्षेत्रों में जो उसकी सेवकाई से संबंधित हैं। हमारे प्रभु यीशु ने इस बात को हमारे लिए उदाहरणस्वरूप रखा, जब क्रूस पर चढ़ाए जाने के लिए पकड़े जाने से पूर्व अपनी प्रार्थना में उसने परमेश्वर से कहा, "जो काम तू ने मुझे करने को दिया था, उसे पूरा करके मैं ने पृथ्वी पर तेरी महिमा की है" (यूहन्ना १७:४)।

   जब प्रेरित पौलुस अपने जीवन के अन्त की बात कर रहा था तो उस के मन में किसी अधूरे छोड़े हुए कार्य या सेवकाई को लेकर कोई परेशानी नहीं थी। तिमुथियुस को लिखी अपनी दूसरी पत्री में, जो उसकी विदाई की तथा मृत्यु पूर्व उसके द्वारा लिखी अन्तिम पत्री थी (२ तिमुथियुस ४:६), पौलुस मसीह के लिए अपनी सेवकाई को पूरा करने के संबंध में सुन्दर रूपकों का प्रयोग करता है। उसने अपने जीवन और सेवकाई को एक मल्लयुद्ध के समान बताया: "मैं अच्‍छी कुश्‍ती लड़ चुका हूं..."; फिर वह एक धावक और दौड़ के रूपक को सामने लाता है: "...मैं ने अपनी दौड़ पूरी कर ली है..." कुश्ती तथा दौड़ दोनो ही अच्छे थे क्योंकि वे परमेश्वर और सुसमाचार के लिए थे: "...मैं ने विश्वास की रखवाली की है" (२ तिमुथियुस ४:७)। पौलुस ने यह सुदृढ़ किया कि जो भी ज़िम्मेदारी परमेश्वर ने उसे सौंपी थी, परमेश्वर के अनुग्रह और सामर्थ से उसने उसे पूरा भी किया।

   मसीही विश्वासियों के लिए पौलुस का जीवन एक उदाहरण और प्रेरक है कि हम भी वे लोग हों जो अपनी ज़िम्मेदारियों को गंभीरता से लेते हैं तथा उन्हें पूरा करते हैं, विशेषकर मसीह के लिए अपनी सेवकाई से संबंधित ज़िम्मेदारियों को। - मारविन विलियम्स


अपनी जीवन दौड़ अपने अनन्त जीवन को ध्यान में रखते हुए दौड़ें।

मैं अच्‍छी कुश्‍ती लड़ चुका हूं मैं ने अपनी दौड़ पूरी कर ली है, मैं ने विश्वास की रखवाली की है। - २ तिमुथियुस ४:७

बाइबल पाठ: २ तिमुथियुस ४:१-८
2Ti 4:1  परमेश्वर और मसीह यीशु को गवाह करके, जो जीवतों और मरे हुओं का न्याय करेगा, उसे और उसके प्रगट होने, और राज्य को सुधि दिलाकर मैं तुझे चिताता हूं।
2Ti 4:2  कि तू वचन को प्रचार कर; समय और असमय तैयार रह, सब प्रकार की सहनशीलता, और शिक्षा के साथ उलाहना दे, और डांट, और समझा।
2Ti 4:3 क्‍योंकि ऐसा समय आएगा, कि लोग खरा उपदेश न सह सकेंगे पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाषाओं के अनुसार अपके लिये बहुतेरे उपदेशक बटोर लेंगे।
2Ti 4:4  और अपने कान सत्य से फेरकर कथा-कहानियों पर लगाएंगे।
2Ti 4:5  पर तू सब बातों में सावधान रह, दुख उठा, सुसमाचार प्रचार का काम कर और अपनी सेवा को पूरा कर।
2Ti 4:6 क्‍योंकि अब मैं अर्घ की नाई उंडेला जाता हूं, और मेरे कूच का समय आ पहुंचा है।
2Ti 4:7 मैं अच्‍छी कुश्‍ती लड़ चुका हूं मैं ने अपनी दौड़ पूरी कर ली है, मैं ने विश्वास की रखवाली की है।
2Ti 4:8  भविष्य में मेरे लिये धर्म का वह मुकुट रखा हुआ है, जिसे प्रभु, जो धर्मी, और न्यायी है, मुझे उस दिन देगा और मुझे ही नहीं, वरन उन सब को भी, जो उसके प्रगट होने को प्रिय जानते हैं।
 
एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति २९-३० 
  • मत्ती ९:१-१७