बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, May 6, 2012

सुनने के लिए समय

   इतिहासकार कैसियस डियो ने रोमी सम्राट हेड्रियन (११७-१३८ ईस्वीं) के जीवन की एक रोचक घटना लिखी। हेड्रियन मार्ग से होकर एक कार्य के लिए जा रहा था कि एक महिला ने उससे रुक कर उसकी विनती सुनने का आग्रह किया। हेड्रियन बिना रुके, यह कहते हुए आगे बढ़ गया कि "मेरे पास समय नहीं है।" किंतु जब उस महिला ने पीछे से पुकार कर कहा, "तो फिर अपने सम्राट होने के पद को छोड़ दो", तो वह लौट कर आया और उस महिला की बात सुनी।

   हमारे अपने जीवनों में यही बात कितनी ही बार होती है; कितनी बार हमें सुनना या कहना पड़ता है कि, "अभी नहीं, अभी मैं व्यस्त हूँ", या "माफ कीजिए, मेरे पास अभी समय नहीं है"। किंतु हमारे परमेश्वर पिता के पास, जो इस सारी सृष्टि का सृजनहार और चलाने वाला है, हमारे लिए सदा समय रहता है। परमेश्वर के वचन बाइबल में भजनकार ने लिखा, "यहोवा की आंखे धर्मियों पर लगी रहती हैं, और उसके कान भी उसकी दोहाई की ओर लगे रहते हैं। धर्मी दोहाई देते हैं और यहोवा सुनता है, और उनको सब विपत्तियों से छुड़ाता है" (भजन३४:१५,१७)।

   हमारा परमेश्वर पिता किसी ऐसे सम्राट या व्यस्त अधिकारी के समान नहीं है जो अपने समय और कार्यों में आने वाली अड़चनों और बातों से बचने के प्रयास करता हो। हमारा पिता परमेश्वर अपने बच्चों की बात सुनने और उनकी प्रार्थना का उत्तर देने को सदा तैयार रहता है, उससे आनन्दित होता है; भजनकार ने आगे लिखा "यहोवा टूटे मन वालों के समीप रहता है, और पिसे हुओं का उद्धार करता है" (पद १८)।

   अपनी प्रजा के एक जन की बात सुनना, सम्राट हेड्रियन के पुनः विचार का नतीजा था; किंतु हमारे परमेश्वर का प्रथम विचार ही सदा हमारी सुनने के लिए होता है। हमें जब कभी उससे कुछ कहना हो, उसके पास हमारी बात सुनने के लिए समय सदैव होता है। - डेविड मैक्कैस्लैंड


परमेश्वर कभी इतना व्यस्त नहीं होता कि अपने बच्चों के लिए उसके पास समय ना हो।
इस दीन जन ने पुकारा तब यहोवा ने सुन लिया, और उसको उसके सब कष्टों से छुड़ा लिया। - भजन३४:६
बाइबल पाठ: भजन३४:४-१८
Psa 34:4  मैं यहोवा के पास गया, तब उस ने मेरी सुन ली, और मुझे पूरी रीति से निर्भय किया।
Psa 34:5  जिन्होंने उसकी ओर दृष्टि की उन्होंने ज्योति पाई, और उनका मुंह कभी काला न होने पाया।
Psa 34:6  इस दीन जन ने पुकारा तब यहोवा ने सुन लिया, और उसको उसके सब कष्टों से छुड़ा लिया।
Psa 34:7  यहोवा के डरवैयों के चारों ओर उसका दूत छावनी किए हुए उनको बचाता है।
Psa 34:8  परख कर देखो कि यहोवा कैसा भला है! क्या ही धन्य है वह पुरूष जो उसकी शरण लेता है।
Psa 34:9  हे यहोवा के पवित्र लोगों, उसका भय मानो, क्योंकि उसके डरवैयों को किसी बात की घटी नहीं होती!
Psa 34:10  जवान सिहों को तो घटी होती और वे भूखे भी रह जाते हैं, परन्तु यहोवा के खोजियों को किसी भली वस्तु की घटी न होवेगी।
Psa 34:11  हे लड़कों, आओ, मेरी सुनो, मैं तुम को यहोवा का भय मानना सिखाऊंगा।
Psa 34:12  वह कौन मनुष्य है जो जीवन की इच्छा रखता, और दीर्घायु चाहता है ताकि भलाई देखे?
Psa 34:13  अपनी जीभ को बुराई से रोक रख, और अपने मुंह की चौकसी कर कि उस से छल की बात न निकले।
Psa 34:14  बुराई को छोड़ और भलाई कर, मेल को ढूंढ और उसी का पीछा कर।
Psa 34:15  यहोवा की आंखे धर्मियों पर लगी रहती हैं, और उसके कान भी उसकी दोहाई की ओर लगे रहते हैं।
Psa 34:16  यहोवा बुराई करने वालों के विमुख रहता है, ताकि उनका स्मरण पृथ्वी पर से मिटा डाले।
Psa 34:17  धर्मी दोहाई देते हैं और यहोवा सुनता है, और उनको सब विपत्तियों से छुड़ाता है।
Psa 34:18  यहोवा टूटे मन वालों के समीप रहता है, और पिसे हुओं का उद्धार करता है।
एक साल में बाइबल: 
  • १ राजा २१-२२ 
  • लूका २३:२६-५६