बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, June 15, 2012

मधुर संगीत

   २००९ के बसन्त ऋतु की बात है, इंगलैंड में आयोजित और प्रसारित होने वाले संगीत प्रतियोगिता के टी.वी. कार्यक्रम "Britain's Got Talent" में एक युवती सूज़न बोयल मंच पर आईं और माइक्रोफोन हाथों में पकड़ा। अन्य प्रतियोगियों के मुकाबले में वे देखने में बहुत ही साधारण सी लगती थीं, किसी को उन से कोई विशेष आशा भी नहीं थी। फिर उन्होंने गाना आरंभ किया, और वहां उपस्थित निर्णायकजन तथा दर्शकजन मंत्रमुग्ध हो कर उनके गाने को सुनते रहे; जब गाना समाप्त हुआ तो सभी दर्शक अपने स्थानों पर खड़े हो गए और उनके गाने के माधुर्य और प्रभाव के लिए खुले दिल से उन की प्रशंसा करी। सभी आश्चर्यचकित थे कि इतना अनुपम संगीत इतने अप्रत्याशित व्यक्ति से कैसे आया।

   हम में से प्रत्येक जन भी इसी प्रकार प्रभु यीशु मसीह के अद्भुत सौन्दर्य और प्रेम को प्रवाहित करने का अप्रत्याशित उद्गम स्थान बन सकता है। यही परमेश्वर की योजना है। हम में से प्रत्येक जन, साधारण से साधारण जन भी, किसी न किसी समय जीवन के मंच पर आ खड़ा होता है और संदेह से भरे संसार की दृष्टि हम पर लगी होती है। वे देखना चाहते हैं कि हमारे जीवन से संसार के लिए क्या आने वाला है। हमारे परिवार जन, मित्र, आस-पास के लोग चाहे हम से किसी खास बात की कोई उम्मीद नहीं रखें, परन्तु एक है जो हमें खास बना देता है, जब वह हम में से होकर संसार के सामने प्रवाहित होता है, जब प्रभु यीशु का प्रेम और अनुग्रह हमारे जीवनों में संसार को दिखाई देता है, तो चाहे वह अप्रत्याशित ही हो, लेकिन प्रभावी होता है।

   परमेश्वर के वचन में प्रेरित पतरस ने अपनी पत्री में स्मरण दिलाया: "पर तुम एक चुना हुआ वंश, और राज-पदधारी, याजकों का समाज, और पवित्र लोग, और (परमेश्वर की) निज प्रजा हो, इसलिये कि जिस ने तुम्हें अन्‍धकार में से अपनी अद्भुत ज्योति में बुलाया है, उसके गुण प्रगट करो" (१ पतरस २:९)।

   आप को लग सकता है कि आप यह नहीं कर सकते, किंतु करने वाले आप नहीं परमेश्वर प्रभु यीशु है। आप को केवल अपनी स्वेच्छा से प्रभु के हाथों में अपने आप को समर्पण करना है और उसे अपने जीवन में कार्य करने की अनुमति देनी है, उसकी आज्ञाकरिता में बने रहना है। फिर जब प्रभु का जीवन और कार्य आप में से होकर प्रवाहित होगा तो वह उस मधुर संगीत के समान होगा जो सब को प्रफुल्लित करता है और उन्हें बाध्य करता है कि वे आपकी ओर प्रशंसा तथा सराहना के साथ मुड़ें। - जो स्टोवैल


प्रभु यीशु की सुन्दरता बहुत अप्रत्याशित स्त्रोतों से प्रकट होती है।


पर तुम एक चुना हुआ वंश, और राज-पदधारी, याजकों का समाज, और पवित्र लोग, और (परमेश्वर की) निज प्रजा हो, इसलिये कि जिस ने तुम्हें अन्‍धकार में से अपनी अद्भुत ज्योति में बुलाया है, उसके गुण प्रगट करो। - १ पतरस २:९

बाइबल पाठ: १ पतरस २:९-१२
1Pe 2:9  पर तुम एक चुना हुआ वंश, और राज-पदधारी, याजकों का समाज, और पवित्र लोग, और (परमेश्वर की) निज प्रजा हो, इसलिये कि जिस ने तुम्हें अन्‍धकार में से अपनी अद्भुत ज्योति में बुलाया है, उसके गुण प्रगट करो।
1Pe 2:10  तुम पहिले तो कुछ भी नहीं थे, पर अब परमेश्वर ही प्रजा हो: तुम पर दया नहीं हुई थी पर अब तुम पर दया हुई है।
1Pe 2:11  हे प्रियों मैं तुम से बिनती करता हूं, कि तुम अपने आप को परदेशी और यात्री जान कर उस सांसारिक अभिलाषाओं से जो आत्मा से युद्ध करती हैं, बचे रहो।
1Pe 2:12  अन्यजातियों में तुम्हारा चालचलन भला हो; इसलिये कि जिन जिन बातों में वे तुम्हें कुकर्मी जान कर बदनाम करते हैं, वे तुम्हारे भले कामों को देख कर उन्‍हीं के कारण कृपा दृष्‍टि के दिन परमेश्वर की महिमा करें।


एक साल में बाइबल: 

  • नेहेमियाह १-३ 
  • प्रेरितों २:१-२१