बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, August 28, 2014

जोश और आनन्द


   ग्यारह वर्ष पहले, आज ही के दिन, हमारा एक अच्छा मित्र दोपहर के भोजन के अवकाश में हल्की दौड़ लगाने के लिए बाहर गया, और फिर लौट कर वापस नहीं आया। कर्ट डी हॉन, जो उस समय इस पुस्तिका, Our Daily Bread के प्रबन्धन संपादक थे, उस धूप की चमक और गर्मी से भरे गुरुवार की दोपहर को हृदय-आघात का शिकार हो गए। हम में से जिन लोगों ने उनके साथ तब कार्य किया था, आज भी उनकी यादगार में उनकी कुछ निशानियाँ रखे हुए हैं।

   उदाहरणस्वरूप, मेरे दफ्तर की एक दीवार पर मैंने कर्ट से मुझे मिला अन्तिम ज्ञापन फ्रेम करके लगा रखा है। वह आज भी मुझे उनके संपादक के रूप में पूरी देख-रेख से कार्य करने की प्रवृति को याद दिलाता है - सदा इस प्रयास में संलग्न कि परमेश्वर का वचन भलि-भाँति तथा बिल्कुल सही रीति से प्रस्तुत किया जाए। मेरी एक अन्य सहयोगी ने वह कागज़ की गेंद लगा रखी है जो कर्ट ने उसकी ओर हंसी-मज़ाक करते हुए उछाली थी; वह गेंद स्मरण दिलाती है कि मुस्तैदी के साथ कार्य करते हुए भी कर्ट जीवन का आनन्द लेते रहने में कितना विश्वास रखता था।

   जब कभी हम कर्ट के बारे में बात करते हैं, हमें एहसास होता है कि हमें उनकी कमी कितनी अखरती है। हम उनके सुखद व्यक्तित्व के साथ उनकी उत्तमता प्राप्त करने की लालसा को स्मरण करते हैं। वे बड़ी मेहनत के साथ कार्य करते थे और जीवन से प्रेम करते थे। वे परमेश्वर के वचन को खराई के साथ सिखाने तथा जीवन को आनन्द के साथ जीने में विश्वास रखते थे।

   कर्ट तथा उनके जीवन के उदाहरणों को स्मरण करना तरोताज़गी भी देता है और चुनौती भी। वह हमें स्मरण दिलाता है कि हमारे प्रत्येक कार्य एवं बात को लोग देख रहे हैं और आँकलन कर रहे हैं कि हम प्रभु यीशु के लिए आनन्द के साथ हमारी निर्धारित सेवकाई कर रहे हैं कि नहीं (इफिसियों 2:10)। कर्ट के समान ही, जोश और आनन्द, क्या ये दो शब्द प्रभु यीशु के लिए आपकी भी सेवकाई को परिभाषित करते हैं? - डेव ब्रैनन


चिर स्थाई आनन्द के लिए प्रभु यीशु को सदा सर्वोपरि रखें।

क्योंकि हम उसके बनाए हुए हैं; और मसीह यीशु में उन भले कामों के लिये सृजे गए जिन्हें परमेश्वर ने पहिले से हमारे करने के लिये तैयार किया। - इफिसियों 2:10

बाइबल पाठ: भजन 100
Psalms 100:1 हे सारी पृथ्वी के लोगों यहोवा का जयजयकार करो! 
Psalms 100:2 आनन्द से यहोवा की आराधना करो! जयजयकार के साथ उसके सम्मुख आओ! 
Psalms 100:3 निश्चय जानो, कि यहोवा ही परमेश्वर है। उसी ने हम को बनाया, और हम उसी के हैं; हम उसकी प्रजा, और उसकी चराई की भेड़ें हैं।
Psalms 100:4 उसके फाटकों से धन्यवाद, और उसके आंगनों में स्तुति करते हुए प्रवेश करो, उसका धन्यवाद करो, और उसके नाम को धन्य कहो! 
Psalms 100:5 क्योंकि यहोवा भला है, उसकी करूणा सदा के लिये, और उसकी सच्चाई पीढ़ी से पीढ़ी तक बनी रहती है।

एक साल में बाइबल: 
  • यिर्मयाह 33-36