बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, April 13, 2015

कहानी


   ’वायर्ड’ पत्रिका को दिए एक साक्षात्कार में फिल्म निर्माता जौर्ज ल्यूकस से पूछा गया कि वह कैसे चाहेंगे कि उन्हें याद किया जाए? उनका उत्तर था, "एक फिल्मकार के रूप में। संभवतः मेरे द्वारा कही गई कुछ कहानियाँ आगे भी प्रासंगिक बनी रहेंगी। यदि आपने बच्चों की परवरिश करी है तो आप जानते हैं कि आपको उन्हें अनेक बातों को बताना और समझाना पड़ता है। यदि आप ऐसा नहीं करते तो फिर वे उन बातों को कठिन और शायद कुछ गलत तरीकों से सीखेंगे। इसलिए पुरानी कहानियों को भी एक ऐसी नई रीति से जो उस पीढ़ी के लिए अर्थपूर्ण हो, बताना पड़ता है। मैं नहीं सोचता कि मैं कभी उन पुरानी कहानियों से आगे निकलूँगा, क्योंकि उन कहानियों को अभी भी सुनाते रहने की आवश्यकता है।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में, भजन 78 के भजनकार को ऐसा आभास था कि परमेश्वर के महान कार्यों को भुला दिया जाएगा, उस पीढ़ी की कथा लुप्त हो जाएगी; इसलिए उसने परमेश्वर के लोगों से कहा कि वे परमेश्वर द्वारा पिछली पीढ़ीयों के साथ किए गए छुटकारे के कार्यों का वर्णन अगली पीढ़ी को सुनाने से कभी हिचकिचाए नहीं, थकें नहीं (पद 4)। इस प्रकार बीती पीढ़ी के इतिहास को दोहराते रहने का उद्देश्य केवल ऐतिहासिक बातों तथा तथ्यों को स्मरण रखना ही नहीं था, वरन ऐसा करने के द्वारा परमेश्वर में विश्वास, आज्ञाकारिता और आशा को बनाए रखना था जिससे आने वाली पीढ़ीयाँ अविश्वास और अनाज्ञाकारिता के अन्धकार तथा उनके दुषप्रभावों में पड़ने से बची रह सकें (पद 7-8)।

   हमारे जीवनों में कार्यकारी परमेश्वर की महान सामर्थ तथा अनुग्रह के कारण हम मसीही विश्वासियों में यह लालसा होनी चाहिए कि हम उसकी इन बातों को दूसरों को बताते रहें, अपने जीवनों में अनुभव करे गए उसके कार्यों की गवाही देते रहें, और लोगों तथा आती पीढ़ीयों को परमेश्वर के प्रति विश्वास एवं आज्ञाकारिता रखने के लिए उभारते रहें, उन्हें प्रेरित करते रहें। - मार्विन विलियम्स


बीते समय में परमेश्वर के अनुग्रह की चर्चा, आते समय में उस पर विश्वास रखने के लिए प्रेरित करती हैं।

और तू इन्हें अपने बाल-बच्चों को समझाकर सिखाया करना, और घर में बैठे, मार्ग पर चलते, लेटते, उठते, इनकी चर्चा किया करना। - व्यवस्थाविवरण 6:7

बाइबल पाठ: भजन 78:1-8
Psalms 78:1 हे मेरे लोगों, मेरी शिक्षा सुनो; मेरे वचनों की ओर कान लगाओ! 
Psalms 78:2 मैं अपना मूंह नीतिवचन कहने के लिये खोलूंगा; मैं प्राचीन काल की गुप्त बातें कहूंगा, 
Psalms 78:3 जिन बातों को हम ने सुना, ओर जान लिया, और हमारे बाप दादों ने हम से वर्णन किया है। 
Psalms 78:4 उन्हें हम उनकी सन्तान से गुप्त न रखेंगें, परन्तु होनहार पीढ़ी के लोगों से, यहोवा का गुणानुवाद और उसकी सामर्थ और आश्चर्यकर्मों का वर्णन करेंगें। 
Psalms 78:5 उसने तो याकूब में एक चितौनी ठहराई, और इस्त्राएल में एक व्यवस्था चलाई, जिसके विषय उसने हमारे पितरों को आज्ञा दी, कि तुम इन्हें अपने अपने लड़के बालों को बताना; 
Psalms 78:6 कि आने वाली पीढ़ी के लोग, अर्थात जो लड़के बाले उत्पन्न होने वाले हैं, वे इन्हें जानें; और अपने अपने लड़के बालों से इनका बखान करने में उद्यत हों, जिस से वे परमेश्वर का आसरा रखें, 
Psalms 78:7 और ईश्वर के बड़े कामों को भूल न जाएं, परन्तु उसकी आज्ञाओं का पालन करते रहें; 
Psalms 78:8 और अपने पितरों के समान न हों, क्योंकि उस पीढ़ी के लोग तो हठीले और झगड़ालू थे, और उन्होंने अपना मन स्थिर न किया था, और न उनकी आत्मा ईश्वर की ओर सच्ची रही।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 शमूएल 22-24
  • लूका 12:1-31