बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, August 25, 2015

अगला अध्याय


   स्टीव सन 1956 में लगभग 5 वर्ष का था जब उसके पिता, जो मसीही सेवकाई में लगे विमान चालक थे, तथा उनके चार साथियों को मध्य अमेरिका के इक्योडोर देश के वॉवडानी कबीले के लोगों ने मार डाला। लेकिन उन मारे गए लोगों के परिवार जनों द्वारा दिखाए गए प्रेम और क्षमा के कारण आज उस वॉवडानी कबीले में मसीही विश्वासियों का एक बढ़ता हुआ समूह है। बड़ा होकर स्टीव इक्योडोर देश के उसी वॉवडानी कबीले के लोगों में गया और उसके पिता की हत्या करने वाले व्यक्तियों में से एक व्यक्ति, मिनकाए से मित्रता करी।

   जीवन के लिए स्टीव का मानना तथा आदर्श वाक्य है, "अपनी कहानी परमेश्वर को लिखने दीजिए"; उसका कहना है कि "ऐसे बहुत से लोग हैं जो अपनी कहानी स्वयं लिखते हैं परन्तु जब उसमें कोई गड़बड़ होती है या बाधा आती है तो परमेश्वर को उसे सुधारने वाले संपादक के समान प्रयोग करते हैं। लेकिन मैंने बहुत पहले ही ठान लिया था कि मैं अपनी संपूर्ण कहानी परमेश्वर को ही लिखने दूँगा।" जब 2012 में स्टीव गंभीर दुर्घटना का शिकार हुआ तो उसने अपने परिवार को सांत्वना देते हुए कहा, "परमेश्वर को यह अध्याय भी लिखने दो।" आज भी उसका मसीही विश्वास ही उसे आगे लेकर चल रहा है।

   प्रभु यीशु के अनुयायियों की कहानी निरन्तर लिखी जाती है, तथा उजागर होती रहती है। हम में से कोई नहीं जानता कि हमारे जीवन के अगले अध्याय में क्या लिखा जाएगा। लेकिन जब हम मसीह यीशु की ओर देखते हुए धीरज से अपनी दौड़ को दौड़ते रहते हैं, तो हम अपने विश्वास के कर्ता और सिद्ध करने वाले (इब्रानियों 12:1-2) प्रभु यीशु पर विश्वास के साथ आगे भी बढ़ते रह सकते हैं।

   प्रभु यीशु ने ही हमारे जीवन-गाथा के आरंभ को लिखा, और वही हमारे जीवन के अगले अध्याय को और फिर अन्त को भी लिखेगा। - सिंडी हैस कैस्पर


अपने आस-पास के संसार को आपके जीवन में लिखी गई प्रभु यीशु के प्रेम और अनुग्रह की कहानी को बताते रहिए।

भविष्य में मेरे लिये धर्म का वह मुकुट रखा हुआ है, जिसे प्रभु, जो धर्मी, और न्यायी है, मुझे उस दिन देगा और मुझे ही नहीं, वरन उन सब को भी, जो उसके प्रगट होने को प्रिय जानते हैं। - 2 तिमुथियुस 4:8 

बाइबल पाठ: इब्रानियों12:1-11
Hebrews 12:1 इस कारण जब कि गवाहों का ऐसा बड़ा बादल हम को घेरे हुए है, तो आओ, हर एक रोकने वाली वस्तु, और उलझाने वाले पाप को दूर कर के, वह दौड़ जिस में हमें दौड़ना है, धीरज से दौड़ें। 
Hebrews 12:2 और विश्वास के कर्ता और सिद्ध करने वाले यीशु की ओर ताकते रहें; जिसने उस आनन्द के लिये जो उसके आगे धरा था, लज्ज़ा की कुछ चिन्‍ता न कर के, क्रूस का दुख सहा; और सिंहासन पर परमेश्वर के दाहिने जा बैठा। 
Hebrews 12:3 इसलिये उस पर ध्यान करो, जिसने अपने विरोध में पापियों का इतना वाद-विवाद सह लिया कि तुम निराश हो कर हियाव न छोड़ दो। 
Hebrews 12:4 तुम ने पाप से लड़ते हुए उस से ऐसी मुठभेड़ नहीं की, कि तुम्हारा लोहू बहा हो। 
Hebrews 12:5 और तुम उस उपदेश को जो तुम को पुत्रों की नाईं दिया जाता है, भूल गए हो, कि हे मेरे पुत्र, प्रभु की ताड़ना को हलकी बात न जान, और जब वह तुझे घुड़के तो हियाव न छोड़। 
Hebrews 12:6 क्योंकि प्रभु, जिस से प्रेम करता है, उस की ताड़ना भी करता है; और जिसे पुत्र बना लेता है, उसको कोड़े भी लगाता है। 
Hebrews 12:7 तुम दुख को ताड़ना समझकर सह लो: परमेश्वर तुम्हें पुत्र जान कर तुम्हारे साथ बर्ताव करता है, वह कौन सा पुत्र है, जिस की ताड़ना पिता नहीं करता? 
Hebrews 12:8 यदि वह ताड़ना जिस के भागी सब होते हैं, तुम्हारी नहीं हुई, तो तुम पुत्र नहीं, पर व्यभिचार की सन्तान ठहरे! 
Hebrews 12:9 फिर जब कि हमारे शारीरिक पिता भी हमारी ताड़ना किया करते थे, तो क्या आत्माओं के पिता के और भी आधीन न रहें जिस से जीवित रहें। 
Hebrews 12:10 वे तो अपनी अपनी समझ के अनुसार थोड़े दिनों के लिये ताड़ना करते थे, पर यह तो हमारे लाभ के लिये करता है, कि हम भी उस की पवित्रता के भागी हो जाएं। 
Hebrews 12:11 और वर्तमान में हर प्रकार की ताड़ना आनन्द की नहीं, पर शोक ही की बात दिखाई पड़ती है, तौभी जो उसको सहते सहते पक्के हो गए हैं, पीछे उन्हें चैन के साथ धर्म का प्रतिफल मिलता है।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 119:1-88
  • 1 कुरिन्थियों 7:20-40