बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, April 6, 2014

खूबसूरत धब्बे


   बहुत वर्ष पहले की बात है, मैं एक नदी के किनारे किनारे पैदल यात्रा करते हुए वृक्षों के एक ऐसे झुरमुट पर पहुँचा जहाँ उन पेड़ों की छाल को छील कर निकाला हुआ था। उस इलाके में रहने वाले मेरे एक मित्र ने मुझे बता रखा था कि वहाँ के स्थानीय निवासी इस प्रकार पेड़ों से छाल छील कर अन्दर के लेस वाले पदार्थ को अपने कार्य के लिए निकालते हैं। उस छीलने के कारण जो धब्बे पेड़ों पर आए थे उस से उन पेड़ों के स्वरूप बिगड़ गए थे, लेकिन कुछ दाग़ ऐसे भी थे जिनमें पेड़ का लेस निकल कर जम गया था और जो वर्षों से वायु और मौसम को झेलते झेलते चमकदार और सुन्दरता के अनूठे नमूने बन गए थे।

   कुछ ऐसा ही हमारे पापों के साथ भी होता है। हम सभी मनुष्यों के जीवनों में पाप के दाग़ और धब्बे पाए जाते हैं। लेकिन जो दाग़ और धब्बे प्रभु यीशु के पास पश्चाताप में लाकर उसे समर्पित कर दिए गए और प्रभु यीशु के पवित्र लोहु में ढाँप दिए गए, अब उनके निशान एक विलक्षण सुन्दरता को दिखाते हैं, जैसे:
   - जिन्होंने पाप की कड़ुवाहट को चखा है और अब पाप से घृणा तथा धार्मिकता से प्रेम करते हैं; उनके जीवन में वे पाप के धब्बे पवित्रता की सुन्दरता को दिखाते हैं।
   - जो ये जानते-समझते हैं कि वे परमेश्वर की धार्मिकता के स्तर से कितने दूर हैं (रोमियों 3:23), वे दूसरों के प्रति उनकी कमज़ोरियों में सहनशील रहते हैं, और जब दूसरे गिरते हैं तो वे उनके प्रति सहानुभूति, दयालुता, और समझ-बूझ के साथ व्यवहार करते हैं; उनके जीवन में वे पाप के धब्बे नम्रता की सुन्दरता को दिखाते हैं।
   - जब जीवन के पाप सेंत-मेंत और पूर्णतः क्षमा हो जाने का अनुभव होता है, तो यह दया करने वाले प्रभु के प्रति प्रेम का गहरा संबंध बन जाता है, ऐसा प्रेम जो फिर दूसरों के प्रति भी दिखाई देता है; उनके जीवन में वे पाप के धब्बे प्रेम की सुन्दरता को दिखाते हैं।

   अपने पापों से परेशान मत हों, उन्हें प्रभु यीशु सौंप दें जो उन्हें सहर्ष लेकर बदले में अपनी धार्मिकता आप को देने को तैयार खड़ा है। पाप और धार्मिकता की यह अदला-बदली ना केवल आपको पाप के बोझ और दुषपरिणामों से मुक्त कर देगी वरन जीवन में लगे उन पाप के धब्बों को अनूठी सुन्दरता के नमूने भी बना देगी। - डेविड रोपर


क्षमा पाया हुआ हृदय सुन्दर जीवन का सोता बन जाता है।

क्या ही धन्य है वह जिसका अपराध क्षमा किया गया, और जिसका पाप ढ़ाँपा गया हो। क्या ही धन्य है वह मनुष्य जिसके अधर्म का यहोवा लेखा न ले, और जिसकी आत्मा में कपट न हो। - भजन 32:1-2

बाइबल पाठ: लूका 7:36-50
Luke 7:36 फिर किसी फरीसी ने उस से बिनती की, कि मेरे साथ भोजन कर; सो वह उस फरीसी के घर में जा कर भोजन करने बैठा। 
Luke 7:37 और देखो, उस नगर की एक पापिनी स्त्री यह जानकर कि वह फरीसी के घर में भोजन करने बैठा है, संगमरमर के पात्र में इत्र लाई। 
Luke 7:38 और उसके पांवों के पास, पीछे खड़ी हो कर, रोती हुई, उसके पांवों को आंसुओं से भिगाने और अपने सिर के बालों से पोंछने लगी और उसके पांव बारबार चूमकर उन पर इत्र मला। 
Luke 7:39 यह देखकर, वह फरीसी जिसने उसे बुलाया था, अपने मन में सोचने लगा, यदि यह भविष्यद्वक्ता होता तो जान लेता, कि यह जो उसे छू रही है, वह कौन और कैसी स्त्री है? क्योंकि वह तो पापिनी है। 
Luke 7:40 यह सुन यीशु ने उसके उत्तर में कहा; कि हे शमौन मुझे तुझ से कुछ कहना है वह बोला, हे गुरू कह।
Luke 7:41 किसी महाजन के दो देनदार थे, एक पांच सौ, और दूसरा पचास दीनार धारता था। 
Luke 7:42 जब कि उन के पास पटाने को कुछ न रहा, तो उसने दोनों को क्षमा कर दिया: सो उन में से कौन उस से अधिक प्रेम रखेगा। 
Luke 7:43 शमौन ने उत्तर दिया, मेरी समझ में वह, जिस का उसने अधिक छोड़ दिया: उसने उस से कहा, तू ने ठीक विचार किया है। 
Luke 7:44 और उस स्त्री की ओर फिरकर उसने शमौन से कहा; क्या तू इस स्त्री को देखता है मैं तेरे घर में आया परन्तु तू ने मेरे पांव धाने के लिये पानी न दिया, पर इस ने मेरे पांव आंसुओं से भिगाए, और अपने बालों से पोंछा! 
Luke 7:45 तू ने मुझे चूमा न दिया, पर जब से मैं आया हूं तब से इस ने मेरे पांवों का चूमना न छोड़ा। 
Luke 7:46 तू ने मेरे सिर पर तेल नहीं मला; पर इस ने मेरे पांवों पर इत्र मला है। 
Luke 7:47 इसलिये मैं तुझ से कहता हूं; कि इस के पाप जो बहुत थे, क्षमा हुए, क्योंकि इस ने बहुत प्रेम किया; पर जिस का थोड़ा क्षमा हुआ है, वह थोड़ा प्रेम करता है। 
Luke 7:48 और उसने स्त्री से कहा, तेरे पाप क्षमा हुए। 
Luke 7:49 तब जो लोग उसके साथ भोजन करने बैठे थे, वे अपने अपने मन में सोचने लगे, यह कौन है जो पापों को भी क्षमा करता है? 
Luke 7:50 पर उसने स्त्री से कहा, तेरे विश्वास ने तुझे बचा लिया है, कुशल से चली जा।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 राजा 1-3