बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, May 15, 2015

सतर्क


   एक व्यक्ति के कार्य का प्रभाव पूरे समूह पर पड़ सकता है; पत्रकार सेबैस्टियन जंगर ने इस बात की सच्चाई को पहचाना जब वह सैनिकों की एक पलटन के साथ जा रहा था। उस पलटन के एक सैनिक के जूतों के फीते ढीले थे और धरती पर घसिट रहे थे। यह देखकर एक अन्य सैनिक ने उस ढीले फीते वाले सैनिक को टोका और फीतों को ठीक करने के लिए कहा। टोकने वाले सैनिक का टोकने के पीछे उद्देश्य था कि उस ढीले फीते वाले एक सैनिक की लापरवाही सारी पलटन को खतरे में डाल सकती थी क्योंकि उन ढीले फीतों के कारण वह ठोकर खाकर कभी भी गिर सकता था, संभव है कि किसी नाज़ुक स्थिति के समय यह घटना हो जाती और सभी जोखिम में पड़ जाते। पत्रकार जंगर ने एहसास किया कि जो एक के साथ होता है वही सभी के साथ हो सकता है।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में भी एक घटना दी गई है जहाँ एक व्यक्ति के पाप ने सभी को परेशानी में डाल दिया; यह घटना हमें यह भी सिखाती है कि पाप कभी व्यक्तिगत नहीं होता, उसके दुषप्रभाव आस-पास के सभी लोगों पर आते हैं। इस्त्राएलियों के कनान देश में प्रवेश करने के बाद, पहले ही युद्ध में परमेश्वर ने उन्हें यरीहो पर एक महान विजय दिलवायी थी। उस विजय से पहले परमेश्वर ने इस्त्राएलियों के अगुवे, यहोशु के द्वारा उन इस्त्राएलियों को स्पष्ट निर्देश दिए थे कि विजयी होने के पश्चात यरीहो नगर और उसकी लूट के साथ क्या करना है; परमेश्वर ने साफ-साफ कहा था कि वे अर्पण की हुई वस्तुओं से अपने आप को पृथक रखें और सारा सोना तथा चांदी भण्डार में लाकर रखी जाए (यहोशू 6:18-19)। लेकिन इस्त्राएली अनाज्ञाकारिता के दोषी ठहरे (यहोशू 7:1); विशेष बात यह है कि सभी इस्त्राएलियों पर आया यह दोष केवल व्यक्ति - आकान के कारण था। आकान के लालच और पाप ने सभी को प्रभावित किया।

   प्रभु यीशु के अनुयायी होने के कारण हम मसीही विश्वासियों को यह ध्यान रखना चाहिए कि हम एक दूसरे के लिए ज़िम्मेदार और एक दूसरे के प्रति जवाबदेह भी हैं तथा हमारे व्यक्तिगत कार्य मसीह यीशु की संपूर्ण देह अर्थात उसकी मण्डली तथा परमेश्वर के नाम पर प्रभाव डाल सकते हैं। इसलिए हमें अपनी बातों एवं कार्यों में सतर्क रहना है जिससे हमारे जीवन हमारे प्रभु और परमेश्वर के लिए निरादर का नहीं वरन आदर का कारण ठहरें। - मार्विन विलियम्स


व्यक्तिगत पापों का प्रभाव अन्ततः सार्वजनिक होगा।

और यदि तुम ऐसा न करो, तो यहोवा के विरुद्ध पापी ठहरोगे; और जान रखो कि तुम को तुम्हारा पाप लगेगा। - गिनती 32:23

बाइबल पाठ: यहोशू 7:1-12
Joshua 7:1 परन्तु इस्राएलियों ने अर्पण की वस्तु के विषय में विश्वासघात किया; अर्थात यहूदा के गोत्र का आकान, जो जेरहवंशी जब्दी का पोता और कर्म्मी का पुत्र था, उसने अर्पण की वस्तुओं में से कुछ ले लिया; इस कारण यहोवा का कोप इस्राएलियों पर भड़क उठा।
Joshua 7:2 और यहोशू ने यरीहो से ऐ नाम नगर के पास, जो बेतावेन से लगा हुआ बेतेल की पूर्व की ओर है, कितने पुरूषों को यह कहकर भेजा, कि जा कर देश का भेद ले आओ। और उन पुरूषों ने जा कर ऐ का भेद लिया। 
Joshua 7:3 और उन्होंने यहोशू के पास लौटकर कहा, सब लोग वहां न जाएं, कोई दो वा तीन हजार पुरूष जा कर ऐ को जीत सकते हैं; सब लोगों को वहां जाने का कष्ट न दे, क्योंकि वे लोग थोड़े ही हैं। 
Joshua 7:4 इसलिये कोई तीन हजार पुरूष वहां गए; परन्तु ऐ के रहने वालों के साम्हने से भाग आए, 
Joshua 7:5 तब ऐ के रहने वालों ने उन में से कोई छत्तीस पुरूष मार डाले, और अपने फाटक से शबारीम तक उनका पीछा कर के उतराई में उन को मारते गए। तब लोगों का मन पिघलकर जल सा बन गया। 
Joshua 7:6 तब यहोशू ने अपने वस्त्र फाड़े, और वह और इस्राएली वृद्ध लोग यहोवा के सन्दूक के साम्हने मुंह के बल गिरकर पृथ्वी पर सांझ तक पड़े रहे; और उन्होंने अपने अपने सिर पर धूल डाली। 
Joshua 7:7 और यहोशू ने कहा, हाय, प्रभु यहोवा, तू अपनी इस प्रजा को यरदन पार क्यों ले आया? क्या हमें एमोरियों के वश में कर के नष्ट करने के लिये ले आया है? भला होता कि हम संतोष कर के यरदन के उस पार रह जाते। 
Joshua 7:8 हाय, प्रभु मैं क्या कहूं, जब इस्राएलियों ने अपने शत्रुओं को पीठ दिखाई है! 
Joshua 7:9 क्योंकि कनानी वरन इस देश के सब निवासी यह सुनकर हम को घेर लेंगे, और हमारा नाम पृथ्वी पर से मिटा डालेंगे; फिर तू अपने बड़े नाम के लिये क्या करेगा? 
Joshua 7:10 यहोवा ने यहोशू से कहा, उठ, खड़ा हो जा, तू क्यों इस भांति मुंह के बल पृथ्वी पर पड़ा है? 
Joshua 7:11 इस्राएलियों ने पाप किया है; और जो वाचा मैं ने उन से अपने साथ बन्धाई थी उसको उन्होंने तोड़ दिया है, उन्होंने अर्पण की वस्तुओं में से ले लिया, वरन चोरी भी की, और छल कर के उसको अपने सामान में रख लिया है। 
Joshua 7:12 इस कारण इस्राएली अपने शत्रुओं के साम्हने खड़े नहीं रह सकते; वे अपने शत्रुओं को पीठ दिखाते हैं, इसलिये कि वे आप अर्पण की वस्तु बन गए हैं। और यदि तुम अपने मध्य में से अर्पण की वस्तु को सत्यानाश न कर डालोगे, तो मैं आगे को तुम्हारे संग नहीं रहूंगा।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 राजा 22-23
  • यूहन्ना 4:31-54