बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, March 2, 2016

प्रेम का प्रमाण


   यह निःसन्देह असाधारण था; मैंने एक ही दिन में तीन भिन्न लोगों द्वारा और भिन्न परिस्थितियों में एक ही गीत - ’यीशु मुझसे प्रेम करता है’ सुना। दोपहर में मैं एक वृद्धाश्रम में थी, जहाँ सभा के अन्त में वहाँ रहने वाली एक वृद्ध महिला ने चाहा कि हम सब मिलकर गाएं ’यीशु मुझसे प्रेम करता है’। शाम को मैं एक जवानों की सभा में गई जहाँ उन्होंने यही गीत बड़े जोश के साथ हाथों से ताली बजाते और कदमों से ताल देते हुए गाया। बाद में उस रात मेरे फोन पर एक सन्देश आया जिसके साथ मेरे भाई की ढाई वर्षीय पोती द्वारा गाया गया यही गीत संलग्न था। एक बच्ची, कुछ किशोर और कुछ वृद्ध, उस दिन सभी एक ही गीत गा रहे थे, और मैं उनके इस गीत के गाए जाने को सुन रही थी।

   एक ही दिन में तीन बार इस सामान्य से गीत को सुन कर मैं सोचने लगी कि संभवतः प्रभु परमेश्वर मुझसे कुछ कहना चाह रहा है। लेकिन परमेश्वर केवल मुझ से ही नहीं सारे संसार से यही बात कह रहा है - यीशु आपसे प्रेम करता है। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम पढ़ते हैं कि हम पापी मनुष्यों के प्रति अपने महान, समझ से बाहर और बेबयान प्रेम के अन्तर्गत ही प्रभु यीशु ने अपने सिर पर काँटों का ताज रखा जाने दिया, उन आताताईयों को अपना ठठा उड़ाने, मारने-पीटने, सार्वजनिक स्थान पर नंगा करके क्रूस पर चढ़ा लेने दिया। प्रभु के पास उन्हें यह सब करने से रोकने की सामर्थ थी, लेकिन वे खामोश रहे। उन्होंने यह सब केवल इसलिए किया क्योंकि वह हम सब से प्रेम करते हैं, हमें पापों में नाश होते देखना नहीं चाहते, इसीलिए उन्होंने हम सब के सभी पापों को अपने ऊपर लेकर उनका पूरा-पूरा दण्ड चुका दिया। आज प्रभु यीशु हम सब को, सारे संसार के सभी लोगों को, अपनी धार्मिकता सेंत-मेंत देना चाहते हैं, यदि हम अपने पापों को मान लें, प्रभु यीशु से उन पापों के लिए क्षमा माँग लें और अपने जीवन उन्हें सौंप कर उन्हें अपना प्रभु मान लें।

   यह जानने के लिए कि प्रभु परमेश्वर हम से कितना प्रेम करता है, क्रूस पर चढ़ाए गए प्रभु यीशु की ओर देखें और उसके द्वारा स्वेच्छा से दिए गए अपने बलिदान पर विचार करें। उनका हमारे लिए मारा जाना, गाड़ा जाना और तीसरे दिन मृतकों में से जी उठकर आज हमें अनन्त जीवन का दान देना ही हमारे प्रति उनके प्रेम का प्रमाण है। - ऐनी सेटास


परमेश्वर के प्रेम का सबसे सच्चा माप यही है कि वह हमसे किसी भी माप से परे प्रेम करता है। - क्लैरवॉ के बर्नार्ड

क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए। - यूहन्ना 3:16

बाइबल पाठ: यूहन्ना 19:17-24
John 19:17 तब वे यीशु को ले गए। और वह अपना क्रूस उठाए हुए उस स्थान तक बाहर गया, जो खोपड़ी का स्थान कहलाता है और इब्रानी में गुलगुता। 
John 19:18 वहां उन्होंने उसे और उसके साथ और दो मनुष्यों को क्रूस पर चढ़ाया, एक को इधर और एक को उधर, और बीच में यीशु को। 
John 19:19 और पीलातुस ने एक दोष-पत्र लिखकर क्रूस पर लगा दिया और उस में यह लिखा हुआ था, यीशु नासरी यहूदियों का राजा। 
John 19:20 यह दोष-पत्र बहुत यहूदियों ने पढ़ा क्योंकि वह स्थान जहां यीशु क्रूस पर चढ़ाया गया था नगर के पास था और पत्र इब्रानी और लतीनी और यूनानी में लिखा हुआ था। 
John 19:21 तब यहूदियों के महायाजकों ने पीलातुस से कहा, यहूदियों का राजा मत लिख परन्तु यह कि “उसने कहा, मैं यहूदियों का राजा हूं”। 
John 19:22 पीलातुस ने उत्तर दिया, कि मैं ने जो लिख दिया, वह लिख दिया।
John 19:23 जब सिपाही यीशु को क्रूस पर चढ़ा चुके, तो उसके कपड़े ले कर चार भाग किए, हर सिपाही के लिये एक भाग और कुरता भी लिया, परन्तु कुरता बिन सीअन ऊपर से नीचे तक बुना हुआ था: इसलिये उन्होंने आपस में कहा, हम इस को न फाडें, परन्तु इस पर चिट्ठी डालें कि वह किस का होगा। 
John 19:24 यह इसलिये हुआ, कि पवित्र शास्त्र की बात पूरी हो कि उन्होंने मेरे कपड़े आपस में बांट लिये और मेरे वस्‍त्र पर चिट्ठी डाली: सो सिपाहियों ने ऐसा ही किया।

एक साल में बाइबल: 
  • गिनती 26-27
  • मरकुस 8:1-21