बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, June 12, 2016

शान्त


   सन 1939 में जब दूसरे विश्वयुद्ध का आरंभ हुआ, तब ग्रेट ब्रिटेन में एक सन्देश दिखाई देना भी आरंभ हुआ: "शान्त रहें, कार्य ज़ारी रखें"। ब्रिटेन के सरकारी अधिकारियों ने इसे पोस्टरों पर छपवा कर स्थान-स्थान पर लगवा दिया जिससे लोग युद्ध के कारण निराश ना हों, घबराएं नहीं और अपने कार्यों में लगे रहें।

   अपनी बन्धुवाई के समय के बाद जब इस्त्राएली लौट कर अपने देश में आए तो उन्हें उसका पुनः निर्माण करना था। उन्होंने इस कार्य का आरंभ मन्दिर के पुनःनिर्माण से किया, लेकिन इसके लिए उन्हें भी अपने भय और शत्रु के हस्तक्षेप का सामना करके उन पर विजयी होना था (एज़्रा 3:3)। जब वे पुनःनिर्माण के लिए नींव डाल चुके तो उनके शत्रु "फारस के राजा कुस्रू के जीवन भर वरन फारस के राजा दारा के राज्य के समय तक उनके मनोरथ को निष्फल करने के लिये वकीलों को रुपया देते रहे" (एज़्रा 4:5)। उन शत्रुओं ने उनके विरुद्ध दोषारोपण करते हुए सरकारी अधिकारियों को शिकायत के पत्र लिखे, उनके कार्य में बाधा डाली, और निर्माण के कार्य को रुकवा दिया (एज़्रा 4:6, 24)। इन सब प्रतिरोधों के बावजूद, अन्ततः राजा दारा ने आज्ञा-पत्र ज़ारी करके मन्दिर के पुनःनिर्माण के कार्य को पूरा करवाया (एज़्रा 6:12-14)।

   जब हम परमेश्वर के कार्यों में लगे होते हैं और हमें असफलताओं तथा निराशाओं का सामना करना पड़ता है, तब भी हम शान्त होकर अपने कार्य में लगे रह सकते हैं, क्योंकि उन इस्त्राएलियों के समान हम भी आज यह कह सकते हैं कि, "...हम तो आकाश और पृथ्वी के परमेश्वर के दास हैं..." (एज़्रा 5:11)। हमारे मार्ग में बाधाएं और विलंब तो आएंगे लेकिन हम अपने प्रभु यीशु की प्रतिज्ञा "...मैं इस पत्थर पर अपनी कलीसिया बनाऊंगा: और अधोलोक के फाटक उस पर प्रबल न होंगे" (मत्ती 16:18) में आश्वस्त रह सकते हैं। हम मसीही विश्वासियों में होकर कार्य करवाने वाली सामर्थ परमेश्वर की सामर्थ है ना कि हमारी अपनी, और इस सामर्थ को कोई हरा नहीं सकता; इसलिए "शान्त रहें, कार्य ज़ारी रखें"। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


परमेश्वर की आत्मा हमारी गवाही को सामर्थ प्रदान करता है।

चुप हो जाओ, और जान लो, कि मैं ही परमेश्वर हूं। मैं जातियों में महान हूं, मैं पृथ्वी भर में महान हूं! - भजन 46:10

बाइबल पाठ: एज़्रा 5:7-17
Ezra 5:7 उन्होंने उसको एक चिट्ठी लिखी, जिस में यह लिखा था: कि राजा दारा का कुशल क्षेम सब प्रकार से हो।
Ezra 5:8 राजा को विदित हो, कि हम लोग यहूदा नाम प्रान्त में महान परमेश्वर के भवन के पास गए थे, वह बड़े बड़े पत्थरों से बन रहा है, और उसकी भीतों में कडिय़ां जुड़ रही हैं; और यह काम उन लोगों से फुतीं के साथ हो रहा है, और सफल भी होता जाता है। 
Ezra 5:9 इसलिये हम ने उन पुरनियों से यों पूछा, कि यह भवन बनवाने, और यह शहरपनाह खड़ी करने की आाज्ञा किस ने तुम्हें दी? 
Ezra 5:10 और हम ने उनके नाम भी पूछे, कि हम उनके मुख्य पुरुषों के नाम लिख कर तुझ को जता सकें। 
Ezra 5:11 और उन्होंने हमें यों उत्तर दिया, कि हम तो आकाश और पृथ्वी के परमेश्वर के दास हैं, और जिस भवन को बहुत वर्ष हुए इस्राएलियों के एक बड़े राजा ने बना कर तैयार किया था, उसी को हम बना रहे हैं। 
Ezra 5:12 जब हमारे पुरखाओं ने स्वर्ग के परमेश्वर को रिस दिलाई थी, तब उसने उन्हें बाबेल के कसदी राजा नबूकदनेस्सर के हाथ में कर दिया था, और उसने इस भवन को नाश किया और लोगों को बन्धुआ कर के बाबेल को ले गया। 
Ezra 5:13 परन्तु बाबेल के राजा कुस्रू के पहिले वर्ष में उसी कुस्रू राजा ने परमेश्वर के इस भवन के बनाने की आज्ञा दी 
Ezra 5:14 और परमेश्वर के भवन के जो सोने और चान्दी के पात्र नबूकदनेस्सर यरूशलेम के मन्दिर में से निकलवा कर बाबेल के मन्दिर में ले गया था, उन को राजा कुस्रू ने बाबेल के मन्दिर में से निकलवा कर शेशबस्सर नामक एक पुरुष को जिसे उसने अधिपति ठहरा दिया था, सौंप दिया। 
Ezra 5:15 और उसने उस से कहा, ये पात्र ले जा कर यरूशलेम के मन्दिर में रख, और परमेश्वर का वह भवन अपने स्थान पर बनाया जाए। 
Ezra 5:16 तब उसी शेशबस्सर ने आकर परमेश्वर के भवन की जो यरूशलेम में है नेव डाली; और तब से अब तक यह बन रहा है, परन्तु अब तक नहीं बन पाया। 
Ezra 5:17 अब यदि राजा को अच्छा लगे तो बाबेल के राजभणडार में इस बात की खोज की जाए, कि राजा कुस्रू ने सचमुच परमेश्वर के भवन के जो यरूशलेम में है बनवाने की आज्ञा दी थी, था नहीं। तब राजा इस विषय में अपनी इच्छा हम को बताए।

एक साल में बाइबल: 
  • एज़्रा 3-5
  • यूहन्ना 20