बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, August 18, 2016

प्रतीक्षा और विश्वास


   दूसरे विश्वयुद्ध के समय, जर्मनी के एक युद्ध-बंदी शिविर में, कुछ अमरीकी युद्ध बंदियों ने, जर्मन सुरक्षाकर्मियों की जानकारी में आए बिना एक रेडियो बना लिया था। उस रेडियो पर उन्होंने एक दिन समाचार सुना कि जर्मनी के उच्च सेनाधिकारियों ने समर्पण कर दिया है और युद्ध समाप्त हो गया है। संचार व्यवस्था के बाधित हो जाने के कारण उस शिविर के जर्मन सुरक्षाकर्मियों तक यह समाचार आधिकारिक रूप में नहीं पहुँचने पाया। परन्तु जैसे ही यह समाचार युद्ध बंदियों में फैलने लगा, वे पुनः स्वतंत्र होने की आशा में ऊँची आवाज़ में खुशी मनाने लगे; तीन दिन तक वे आनन्दित होकर गीत गाते, पहरेदारों की ओर हाथ हिलाते और आपस में चुटकुले सुनाते, मज़ाक करते रहे। चौथे दिन उन बंदियों ने पाया कि उनके जर्मन सुरक्षाकर्मी शिविर छोड़कर भाग गए हैं और उन बंदियों की आशा की प्रतीक्षा का अन्त हो गया था।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में भी हम अनेक घटनाएं एवं शिक्षाएं पाते हैं जो प्रतीक्षा पर केंद्रित हैं, जैसे कि: अब्राहम की सन्तान तथा उत्तराधिकारी पाने की प्रतीक्षा; इस्त्राएलियों की मिस्त्र के दास्तव से छुड़ाए जाने की प्रतीक्षा। परमेश्वर के भविष्यद्वकताओं की अपनी भविष्यवाणियों के पूरी होने की प्रतीक्षा; प्रभु यीशु मसीह के चेलों की प्रतीक्षा कि उनकी आशा के अनुरूप प्रभु सामर्थी मसीहा बनकर कार्य करे, इत्यादि। बाइबल की अन्तिम पुस्तक, प्रकाशितवाक्य के अन्त में प्रभु यीशु द्वारा कहे गए शब्द हैं, "...हां मैं शीघ्र आने वाला हूं" और फिर एक आग्रह से भरी प्रार्थना है, "आमीन। हे प्रभु यीशु आ" (प्रकाशितवाक्य 22:20); इन शब्दों के पूरे होने की हम मसीही विश्वासियों को प्रतीक्षा है।

   मैं अपने आप से प्रश्न करता हूँ, जब हम मसीही विश्वासी उस सुखद अन्त को भली-भांति जानते हैं, और प्रभु के आने की आशा तथा प्रतीक्षा में भी हैं तो फिर अपने जीवन में इतने भयभीत और चिंतित क्यों रहते हैं? उन युद्ध बंदियों के समान ही, उस सुखद और भले समाचार पर विश्वास रखते हुए हम अपनी उस आशा के अनुरूप जीवन क्यों नहीं व्यतीत करते हैं? परमेश्वर में विश्वास रखने का अर्थ और क्या है, सिवाए इसके कि जो उसने कहा है वह वैसा ही पूरा भी होगा। - फिलिप यैन्सी


प्रतीक्षा हमारे विश्वास को परखती है; इसलिए आशा के साथ प्रतीक्षा करें।

अब विश्वास आशा की हुई वस्‍तुओं का निश्‍चय, और अनदेखी वस्‍तुओं का प्रमाण है। - इब्रानियों 11:1

बाइबल पाठ: प्रकाशितवाक्य 22:12-21
Revelation 22:12 देख, मैं शीघ्र आने वाला हूं; और हर एक के काम के अनुसार बदला देने के लिये प्रतिफल मेरे पास है। 
Revelation 22:13 मैं अलफा और ओमिगा, पहिला और पिछला, आदि और अन्‍त हूं। 
Revelation 22:14 धन्य वे हैं, जो अपने वस्‍त्र धो लेते हैं, क्योंकि उन्हें जीवन के पेड़ के पास आने का अधिकार मिलेगा, और वे फाटकों से हो कर नगर में प्रवेश करेंगे। 
Revelation 22:15 पर कुत्ते, और टोन्‍हें, और व्यभिचारी, और हत्यारे और मूर्तिपूजक, और हर एक झूठ का चाहने वाला, और गढ़ने वाला बाहर रहेगा।
Revelation 22:16 मुझ यीशु ने अपने स्वर्गदूत को इसलिये भेजा, कि तुम्हारे आगे कलीसियाओं के विषय में इन बातों की गवाही दे: मैं दाऊद का मूल, और वंश, और भोर का चमकता हुआ तारा हूं।
Revelation 22:17 और आत्मा, और दुल्हिन दोनों कहती हैं, आ; और सुनने वाला भी कहे, कि आ; और जो प्यासा हो, वह आए और जो कोई चाहे वह जीवन का जल सेंतमेंत ले।
Revelation 22:18 मैं हर एक को जो इस पुस्‍तक की भविष्यद्वाणी की बातें सुनता है, गवाही देता हूं, कि यदि कोई मनुष्य इन बातों में कुछ बढ़ाए, तो परमेश्वर उन विपत्तियों को जो इस पुस्‍तक में लिखीं हैं, उस पर बढ़ाएगा। 
Revelation 22:19 और यदि कोई इस भविष्यद्वाणी की पुस्‍तक की बातों में से कुछ निकाल डाले, तो परमेश्वर उस जीवन के पेड़ और पवित्र नगर में से जिस की चर्चा इस पुस्‍तक में है, उसका भाग निकाल देगा।
Revelation 22:20 जो इन बातों की गवाही देता है, वह यह कहता है, हां मैं शीघ्र आने वाला हूं। आमीन। हे प्रभु यीशु आ।
Revelation 22:21 प्रभु यीशु का अनुग्रह पवित्र लोगों के साथ रहे। आमीन।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 100-102
  • 1 कुरिन्थियों 1