बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, January 1, 2017

बेहतर या बदतर


   सभी पाठकों को नव-वर्ष की शुभ-कामनाएं

   प्रत्येक नए वर्ष के आरंभ होने पर, विशेषज्ञ उस वर्ष के लिए अर्थव्यवस्था, राजनीति, मौसम और अनेकों अन्य विषयों के बारे में अपनी भविष्यवाणियाँ देते हैं। क्या युद्ध होंगे या शान्ति रहेगी? दरिद्रता होगी या समृद्धि? विकास होगा या नहीं? सभी स्थानों पर लोगों की आशा है कि यह वर्ष पिछले वर्ष से बेहतर हो, परन्तु कोई नहीं जानता कि वास्तव में क्या होगा।

   परन्तु कुछ है जिसके बारे में हम निश्चित रह सकते हैं। हमारे चर्च में आए एक अतिथि उपदेशक ने राय दी कि यदि कोई पूछे कि संसार बेहतर होगा या बदतर, तो उत्तर होना चाहिए, दोनों ही होंगे!

   परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रेरित पौलुस ने तिमुथियुस को संसार के अन्तिम दिनों के विषय में लिखा कि, "पर यह जान रख, कि अन्‍तिम दिनों में कठिन समय आएंगे।...दुष्‍ट, और बहकाने वाले धोखा देते हुए, और धोखा खाते हुए, बिगड़ते चले जाएंगे। पर तू इन बातों पर जो तू ने सीखीं हैं और प्रतीति की थी, यह जानकर दृढ़ बना रह; कि तू ने उन्हें किन लोगों से सीखा था" (2 तिमुथियुस 3:1, 13-14)।

   परमेश्वर की प्रेरणा से लिखा गया यह पवित्र वचन हमें समझाता, सुधारता और सचेत करता है, हमें प्रोत्साहित करता है कि हम परमेश्वर के मार्ग पर चलें (पद 16-17)। जे. बी. फिलिप्स ने पवित्र शास्त्र को परमेश्वर द्वारा हमारे लिए दिया गया ऐसा व्यापक उपकरण बताया जो हमें परमेश्वर के कार्य के प्रत्येक भाग के लिए हमें पूर्णतया तैयार करता है।

   पाप से भरे हमारे संसार का आत्मिक अंधकार जैसे जैसे और गहरा होता जाता है, मसीह यीशु में प्राप्त होने वाले अनन्त आनन्द की ज्योति और भी अधिक ज्योतिर्मय होती जाती है, तथा उनके जीवनों से होकर संसार को रौशन करती रहती है जिन्होंने मसीह यीशु को जाना है, और अपना जीवन उसे समर्पित किया है, उसे अपना निज उद्धारकर्ता स्वीकार कर लिया है। प्रभु के लोगों के लिए मसीह यीशु ही, आज, कल और युगानुयुग तक आनन्द और आशा है।

   जो संसार के साथ और संसार के अनुसार जीना चाहते हैं, उनके लिए यह वर्ष और बदतर होगा; परन्तु जो प्रभु यीशु के साथ और प्रभु यीशु के अनुसार जीना चाहते हैं, उनके लिए यह वर्ष और बेहतर होगा। - डेविड मैक्कैसलैंड


आपके चारों ओर विद्यमान बुराई की शक्तियाँ, 
आपके अन्दर विद्यमान यीशु के सामर्थ के सामने कुछ भी नहीं हैं।

हे बालको, तुम परमेश्वर के हो: और तुम ने उन पर जय पाई है; क्योंकि जो तुम में है, वह उस से जो संसार में है, बड़ा है। - 1 यूहन्ना 4:4

बाइबल पाठ: 2 तिमुथियुस 3:1-5, 10-17
2 Timothy 3:1 पर यह जान रख, कि अन्‍तिम दिनों में कठिन समय आएंगे। 
2 Timothy 3:2 क्योंकि मनुष्य अपस्‍वार्थी, लोभी, डींगमार, अभिमानी, निन्‍दक, माता-पिता की आज्ञा टालने वाले, कृतघ्‍न, अपवित्र। 
2 Timothy 3:3 दयारिहत, क्षमारिहत, दोष लगाने वाले, असंयमी, कठोर, भले के बैरी। 
2 Timothy 3:4 विश्वासघाती, ढीठ, घमण्‍डी, और परमेश्वर के नहीं वरन सुखविलास ही के चाहने वाले होंगे। 
2 Timothy 3:5 वे भक्ति का भेष तो धरेंगे, पर उस की शक्ति को न मानेंगे; ऐसों से परे रहना। 
2 Timothy 3:10 पर तू ने उपदेश, चाल चलन, मनसा, विश्वास, सहनशीलता, प्रेम, धीरज, और सताए जाने, और दुख उठाने में मेरा साथ दिया। 
2 Timothy 3:11 और ऐसे दुखों में भी जो अन्‍ताकिया और इकुनियुम और लुस्‍त्रा में मुझ पर पड़े थे और और दुखों में भी, जो मैं ने उठाए हैं; परन्तु प्रभु ने मुझे उन सब से छुड़ा लिया। 
2 Timothy 3:12 पर जितने मसीह यीशु में भक्ति के साथ जीवन बिताना चाहते हैं वे सब सताए जाएंगे। 
2 Timothy 3:13 और दुष्‍ट, और बहकाने वाले धोखा देते हुए, और धोखा खाते हुए, बिगड़ते चले जाएंगे। 
2 Timothy 3:14 पर तू इन बातों पर जो तू ने सीखीं हैं और प्रतीति की थी, यह जानकर दृढ़ बना रह; कि तू ने उन्हें किन लोगों से सीखा था 
2 Timothy 3:15 और बालकपन से पवित्र शास्त्र तेरा जाना हुआ है, जो तुझे मसीह पर विश्वास करने से उद्धार प्राप्त करने के लिये बुद्धिमान बना सकता है। 
2 Timothy 3:16 हर एक पवित्रशास्‍त्र परमेश्वर की प्रेरणा से रचा गया है और उपदेश, और समझाने, और सुधारने, और धर्म की शिक्षा के लिये लाभदायक है। 
2 Timothy 3:17 ताकि परमेश्वर का जन सिद्ध बने, और हर एक भले काम के लिये तत्‍पर हो जाए।

एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति 1-3
  • मत्ती 1