बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, February 1, 2017

एक साथ


   मेरी पत्नी जैनेट ने मेरे 65वें जन्मदिन के उपल्क्ष में मेरे लिए एक नया ड्रैडनॉट डी-35 गिटार खरीदा। इस गिटार को इसके मूल रूप में 1900 के आरंभ में विकसित किया गया था। उस समय में बनाए गए गिटारों से ड्रैडनॉट कुछ अधिक बड़ा होता है, और अपनी भारी तथा ऊँची आवाज़ के लिए जाना जाता है। इसका नाम प्रथम विश्वयुद्ध में काम देने वाले विशाल युद्धपोत एच.एम.एस. ड्रैडनॉट के नाम पर पड़ा था। डी-35 का पिछला भाग अनुपम है। उच्च गुणवंता की रोज़वुड लकड़ी की चौड़ी तख़्तियों की कमी होने के कारण कारिगरों ने इसे तीन पतली तख़्तियों को एक साथ जोड़कर बनाया, जिससे इससे निकलने वाली ध्वनि और भी बेहतर हो गई।

   परमेश्वर की कारीगरी भी इस गिटार की कारीगरी के समान है। प्रभु यीशु हम बिखरे हुए मनुष्यों को एक साथ जोड़कर ऐसा बना देता है जिससे हम सामूहिक रूप से उसकी महिमा का कारण हो जाते हैं। यदि हम प्रभु यीशु की इस पृथ्वी की सेवकाई के दिनों में उनके चेलों की पृष्ठभूमि को देखें तो पाएंगे कि प्रभु ने चुँगी लेने वालों, यहूदी क्रांतिकारियों और मछुआरों को लेकर अपने चेलों का समूह बनाया, जिन्होंने फिर सारे संसार में प्रभु यीशु में लाए गए विश्वास के द्वारा मिलने वाली पापों की क्षमा और सेंत-मेंत उद्धार का सुसमाचार फैला दिया। तब से लेकर आज तक भी प्रभु जीवन के हर क्षेत्र से अपने लिए लोगों को बुलाता आ रहा है, उन्हें एक साथ एक देह - उसकी जीवित मण्डली में जोड़कर उनसे अपनी महिमा और सेवा लेता आ रहा है। परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रेरित पौलुस ने लिखा, "जिस से सारी देह हर एक जोड़ की सहायता से एक साथ मिलकर, और एक साथ गठकर उस प्रभाव के अनुसार जो हर एक भाग के परिमाण से उस में होता है, अपने आप को बढ़ाती है, कि वह प्रेम में उन्नति करती जाए" (इफिसियों 4:16)।

   हमारे स्वामी के हाथों में अनेकों प्रकार के लोग एक साथ जुड़कर परमेश्वर की महिमा और आराधना का स्त्रोत बनकर उसकी और अन्य लोगों की सेवा में कार्य करने लग जाते हैं। विभिन्न पृष्ठभूमियों से आए मसीही विश्वासियों का एक साथ जुड़कर परमेश्वर की महिमा का माध्यम बन जाना परमेश्वर की अद्भुत कारिगरी का उदहारण है। - डेनिस फिशर


जितना हम अकेले रहकर नहीं कर सकते, 
उससे कहीं अधिक हम एक साथ जुड़ जाने से कर पाते हैं।

क्योंकि हम उसके बनाए हुए हैं; और मसीह यीशु में उन भले कामों के लिये सृजे गए जिन्हें परमेश्वर ने पहिले से हमारे करने के लिये तैयार किया। - इफिसियों 2:10

बाइबल पाठ: इफिसियों 4:1-16
Ephesians 4:1 सो मैं जो प्रभु में बन्‍धुआ हूं तुम से बिनती करता हूं, कि जिस बुलाहट से तुम बुलाए गए थे, उसके योग्य चाल चलो। 
Ephesians 4:2 अर्थात सारी दीनता और नम्रता सहित, और धीरज धरकर प्रेम से एक दूसरे की सह लो। 
Ephesians 4:3 और मेल के बन्ध में आत्मा की एकता रखने का यत्‍न करो। 
Ephesians 4:4 एक ही देह है, और एक ही आत्मा; जैसे तुम्हें जो बुलाए गए थे अपने बुलाए जाने से एक ही आशा है। 
Ephesians 4:5 एक ही प्रभु है, एक ही विश्वास, एक ही बपतिस्मा। 
Ephesians 4:6 और सब का एक ही परमेश्वर और पिता है, जो सब के ऊपर और सब के मध्य में, और सब में है।
Ephesians 4:7 पर हम में से हर एक को मसीह के दान के परिमाण से अनुग्रह मिला है। 
Ephesians 4:8 इसलिये वह कहता है, कि वह ऊंचे पर चढ़ा, और बन्‍धुवाई को बान्‍ध ले गया, और मनुष्यों को दान दिए। 
Ephesians 4:9 (उसके चढ़ने से, और क्या पाया जाता है केवल यह, कि वह पृथ्वी की निचली जगहों में उतरा भी था। 
Ephesians 4:10 और जो उतर गया यह वही है जो सारे आकाश से ऊपर चढ़ भी गया, कि सब कुछ परिपूर्ण करे)। 
Ephesians 4:11 और उसने कितनों को भविष्यद्वक्ता नियुक्त कर के, और कितनों को सुसमाचार सुनाने वाले नियुक्त कर के, और कितनों को रखवाले और उपदेशक नियुक्त कर के दे दिया। 
Ephesians 4:12 जिस से पवित्र लोग सिद्ध हों जाएं, और सेवा का काम किया जाए, और मसीह की देह उन्नति पाए। 
Ephesians 4:13 जब तक कि हम सब के सब विश्वास, और परमेश्वर के पुत्र की पहिचान में एक न हो जाएं, और एक सिद्ध मनुष्य न बन जाएं और मसीह के पूरे डील डौल तक न बढ़ जाएं। 
Ephesians 4:14 ताकि हम आगे को बालक न रहें, जो मनुष्यों की ठग-विद्या और चतुराई से उन के भ्रम की युक्तियों की, और उपदेश की, हर एक बयार से उछाले, और इधर-उधर घुमाए जाते हों। 
Ephesians 4:15 वरन प्रेम में सच्चाई से चलते हुए, सब बातों में उस में जो सिर है, अर्थात मसीह में बढ़ते जाएं। 
Ephesians 4:16 जिस से सारी देह हर एक जोड़ की सहायता से एक साथ मिलकर, और एक साथ गठकर उस प्रभाव के अनुसार जो हर एक भाग के परिमाण से उस में होता है, अपने आप को बढ़ाती है, कि वह प्रेम में उन्नति करती जाए।

एक साल में बाइबल: 
  • निर्गमन 27-28
  • मत्ती 21:1-22