बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, February 25, 2017

प्रेम


   जब हमारे बच्चे छोटे थे तो रात को उन्हें सोने के लिए बिस्तर में लेटा कर हम उनके साथ प्रार्थना करते थे। अकसर मैं उनके बिस्तर के किनारे बैठ कर उन से बात भी करता था। मुझे स्मरण आता है कि मैं अपनी बेटी लिब्बी से कहा करता था, "यदि मैं सारे संसार की चार वर्षीय बालिकाओं को एक पंक्ति में खड़ा कर पाता, तो उस पंक्ति में खड़ी बालिकाओं में मैं तुम्हें ढूँढ़ता; और पंक्ति में खड़ी सारी बालिकाओं को देखने के बाद भी मैं तुम्हें ही अपनी बेटी होने लिए चुनता।" यह सुनकर लिब्बी के चेहरे पर एक बड़ी सी मुस्कान आ जाती, क्योंकि उसे एहसास होता था कि वह विशेष है।

   यदि मेरा ऐसा कहना लिब्बी के लिए खुशी और मुस्कुराहट का कारण था, तो उस अनुग्रह से भरे तथ्य के बारे में सोचिए जो सृष्टिकर्ता परमेश्वर हम से कहता है: "...परमेश्वर ने आदि से तुम्हें चुन लिया; कि आत्मा के द्वारा पवित्र बन कर, और सत्य की प्रतीति कर के उद्धार पाओ" (2 थिस्सलुनीकियों 2:13)। समय के आरंभ से पहले ही उसने चाहा कि हम उसके बन जाएँ। इसीलिए परमेश्वर के वचन बाइबल में बहुधा गोद लेने या लेपालक पुत्र होने के उदाहरण के द्वारा इस अद्भुत तथ्य को प्रस्तुत किया जाता है, जहाँ हम में ऐसी कोई योग्यता या किसी गुण के ना होने पर भी परमेश्वर ने हमें अपने प्रेम का पात्र होने के लिए चुन लिया, और हमें पाप से छुड़ा कर अपने परिवार का अंग बना लेने के लिए प्रभु यीशु को दे दिया।

   यह चौंका देने वाला समाचार है - परमेश्वर हम से, हम जैसे भी हैं, प्रेम करता है, हमारे साथ संगति रखने की लालसा करता है, हमें अपने परिवार में सम्मिलित कर के अपनी आशीषों से भर देना चाहता है; और उसने यह सब संभव करने का उपाय भी बना कर दे दिया है - प्रभु यीशु में लाया गया विश्वास। उसके महान प्रेम के इस अद्भुत सत्य के द्वारा हमारे जीवन नम्रता और उसके प्रति कृतज्ञता से भर जाने चाहिएं। - जो स्टोवैल


आप से प्रेम करना और आप को अपने परिवार का अंग बनाना परमेश्वर का चुनाव है।

तुम ने मुझे नहीं चुना परन्तु मैं ने तुम्हें चुना है और तुम्हें ठहराया ताकि तुम जा कर फल लाओ; और तुम्हारा फल बना रहे, कि तुम मेरे नाम से जो कुछ पिता से मांगो, वह तुम्हें दे। - यूहन्ना 15:16

बाइबल पाठ: 2 थिस्सलुनीकियों 2:13-17
2 Thessalonians 2:13 पर हे भाइयो, और प्रभु के प्रिय लोगो चाहिये कि हम तुम्हारे विषय में सदा परमेश्वर का धन्यवाद करते रहें, कि परमेश्वर ने आदि से तुम्हें चुन लिया; कि आत्मा के द्वारा पवित्र बन कर, और सत्य की प्रतीति कर के उद्धार पाओ। 
2 Thessalonians 2:14 जिस के लिये उसने तुम्हें हमारे सुसमाचार के द्वारा बुलाया, कि तुम हमारे प्रभु यीशु मसीह की महिमा को प्राप्त करो। 
2 Thessalonians 2:15 इसलिये, हे भाइयों, स्थिर रहो; और जो जो बातें तुम ने क्या वचन, क्या पत्री के द्वारा हम से सीखी है, उन्हें थामे रहो।
2 Thessalonians 2:16 हमारा प्रभु यीशु मसीह आप ही, और हमारा पिता परमेश्वर जिसने हम से प्रेम रखा, और अनुग्रह से अनन्त शान्‍ति और उत्तम आशा दी है। 
2 Thessalonians 2:17 तुम्हारे मनों में शान्‍ति दे, और तुम्हें हर एक अच्‍छे काम, और वचन में दृढ़ करे।

एक साल में बाइबल: 
  • गिनती 12-14
  • मरकुस 5:21-43